Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

विधान एवं वेदी प्रतिष्ठा समारोह का घटयात्रा से शुभारंभ.. मुनिश्री तरुण सागर जी की जन्म भूमि पहुचे मुनि श्री सुदत्तसागर जी.. हथकरघा केंद्र परस्वाहा में होगे 1008 पौधरोपित..

  घटयात्रा से विधान वेदी प्रतिष्ठा समारोह का शुभारंभ

दमोह। श्री पारसनाथ दिगंबर जैन नन्हे मंदिर जी में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की शिष्या आर्यिका रत्न मृदुमति माताजी के ससंघ सानिध्य में धार्मिक आयोजन लगातार जारी है। आचार्य श्री के आशीर्वाद और माता जी के सानिध्य में श्री 1008 सिद्धचक्र महामंडल विधान एवं महावीर वेदी प्रतिष्ठा समारोह का आयोजन 21 से 29 मई तक किया जा रहा है।

जिसके शुभारंभ अवसर पर शनिवार को जैन धर्मशाला से घटयात्रा निकाली गई। जो नगर के प्रमुख मार्गों से होकर मन्दिर जी पहुची। जहा कार्यक्रम विधान स्थल शुद्धि उपरांत समवशरण में श्रीजी की स्थापना कर माताजी के सानिध्य में अभिषेक शांतिधारा पूजन संपन्न हुआ। इसके बाद विधान के वहां पात्रों का चयन किया गया। जिसमे अमन गिरीश नायक को सौधर्म इंद्र, पंकज सौरभ नायक को कुबेर इंद्र, राजू शैलेंद्र नायक को चक्रवर्ती, विवेक सिद्धार्थ नायक को महा यज्ञ नायक, संतोष जैन अविनाशी को ईशान इंद्र, सुनील वेजिटेरियन को माहेंद्र, अवध जैन को सनत इंद्र, राजेन्द्र अटल को यज्ञ नायक बनकर विधान पूजन का सौभाग्य अर्जित हुआ। प्रतिष्ठाचार्य शुभम भैया के निर्देशन में होने वाले विधान के ध्वजारोहण करने का सौभाग्य अशोक जैन ढाना वाला परिवार को प्राप्त हुआ।

yatra

प्रथम दिवस संपन्न घट यात्रा, वेदी शुद्धि, अभिषेक शांतिधारा ध्वजारोहण आदि कार्यक्रमों में जैन पंचायत के अध्यक्ष सुधीर सिंघई, नन्हे मंदिर समिति के अध्यक्ष गिरीश नायक, महामंत्री चक्रेश सराफ,कोषाध्यक्ष राजकुमार रानू, राजेश हिनौती, सुनील बड़े राय, मनीष राजश्री, केसर जैन, संजय सराफ, संजीव शाकाहारी, सुनील वेजीटेरियन, सुशील मैनेजर सहित मन्दिर जी के आसामियों की सहभागिता रही। 22 मई को सुबह 6 बजे से अभिषेक शांतिधारा नित्य पूजन विधान एवं आर्यिका श्री म्रदु मति माता जी के मंगल प्रवचन होगे। शाम को महा आरती संपन्न होगी। सिद्ध चक्र महामंडल विधान एवं वेदी प्रतिष्ठा समारोह में सकल जैन समाज में शामिल होने की अपील नन्हे मंदिर समिति द्वारा की गई है।

 मुनिश्री तरुण सागर जी की जन्म भूमि पहुचे मुनि श्री

दमोह। झलोन में श्रमण संस्कृति संस्कार शिविर के समापन उपरांत आचार्यश्री निर्भय सागर जी के शिष्य पूज्य मुनि श्री सुदत्तसागर जी महाराज ने एवं क्षुल्लक चंद्रदत्तसागर जी महाराज ने पूज्य मुनि श्री तरुण सागर जी महाराज की जन्म स्थली गुंहची की ओर विहार किया। जहा आज की अहार चर्या का सौभाग्य सकल दिगंबर जैन समाज गुंहची को प्राप्त हुआ। 

muni shri

 गुंहची पहुंचने के उपरांत पूज्य मुनि श्री ने तरुण सागर जी महाराज के बारे में अनेक दृष्टांत उद्घाटित किए एवं मुनि श्री ने उस स्थान पर जिस स्थान पर पूज्य मुनि तरुण सागर महाराज का जीवन व्यतीत हुआ वहां पर पहुंचकर एक अद्भुत आनंद की अनुभूति प्राप्त की। उन्होंने कहा कि आप के एक छोटे से ग्राम से एक क्रांतिकारी राष्ट्रसंत हुए हैं हमें इस पर गर्व होना चाहिए भले ही वह आज हमारे बीच में नहीं है लेकिन उन्होंने जो मिसाल कायम की है वह हमारे लिए सदैव अनुकरणीय है।

 हथकरघा केंद्र परस्वाहा में होगे 1008 पौधरोपित.. 

दमोह। जबेरा ब्लाक अंतर्गत गले मिले हथकरघा केंद्र परस्वाहा में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के आशीर्वाद एव प्रेरणा से शीघ्र ही पर्यावरण के संरक्षण हेतु हथकरघा केंद्र में शीघ्र ही भगवानो के 1008 नामो पर 1008 विविध औषधियो, फलदार,छायादार एव सुगन्धित फूलो के पौधे रोपित किये जायेंगे।

baithak

इसकी कार्ययोजना तैयार करने हथकरघा संचालन समिति की एक महत्वपूर्ण बैठक संघस्थ ब्रह्मचारी सुनील भैया अनंतपुरा के निर्देशन एव समाजसेवी मनीष नायक इंदौर,बैधनाथ आयुर्वेद संस्थान झांसी से विशेषज्ञ आशीष भारिल्ल एव मनीष भैया शांतिधारा बीना बराह,ब्रह्मचारी सुमित भैया की विशेष उपस्थिति में सम्पन्न हुई। बैठक में समिति अध्यक्ष जयकुमार जैन, उपाध्यक्ष अनुराग जैन, प्रचार मंत्री शैलेंद्र जैन, प्रदीप जैन, कोषाध्यक्ष रत्नेश जैन, महामंत्री आशीष जैन ने महत्वपूर्ण सुझाव दिए। ब्रह्मचारी सुनील भैया ने बताया आगामी दिनों में जनप्रतिनिधियों एव वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति में  पौधा रोपण कार्यक्रम आयोजित किया जावेगा। इस अवसर पर अनेक प्रमुख जनों  की उपस्थिति रही।

Post a Comment

0 Comments