Ticker

6/recent/ticker-posts

बुंदेलखंड वालो अब तो सावधान हो जाओ.. सागर के बाद टीकमगढ़ में मिला कोरोना पॉजिटिव.. इन्दौर के डा. पंजवानी का वार्डवाय रहा है.. अब भी घरों में नही रहे तो.. 3 मई तक के लिए घरों में कैद हो जाओगे.. दमोह के 20 सेंपलों में से 16 निगेटिव, 4 रिपोर्ट आज आएगी..

 सागर के बाद टीकमगढ़ में मिला कोरोना पाॅजिटिव 
टीकमगढ़ । टीकमगढ़ से 40 किमी. दूर गांव लमेरा में जिस व्यक्ति को संक्रमण के सन्देह में होम क्वारंटाइन किया गया था। उस व्यक्ति का सैम्पल कोरोना जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें उसके कोरोना पाॅजिटिव होने की पुष्टि हुई है। आपको बता दें कि यह व्यक्ति इन्दौर के डाॅ. पंजवानी के यहां वार्डब्वाय था, जिनकी कोरोना संक्रमण के कारण पहले ही मृत्यु हो चुकी है। जब यह व्यक्ति अपने गांव लौटा था, तभी प्रशासन को इसकी सूचना हुई थी, इसी लिए इसे गांव में ही होम क्वारंटाइन कर दिया गया था।
 जिसकी आज जांच रिपोर्ट पाजेटिव आने के बाद उसका उपचार शुरू हो गया है। इसी के साथ सागर संभाग में कोरोना संक्रमक्र मरीजों की संख्या दो हो गई है। इसके पूर्व सागर के युवक की रिपोर्ट पाजेटिव आई थी जिसका इलाज जारी है।
सागर में पॉजिटिव कोरोना केस मिलने से हड़कंप
सागर। बुंदेलखंड वासियों के लिए दुखद खबर है अभी तक मप्र के बुंदेलखंड के किसी भी जिले के कोरोना संक्रमण का पाजेटिव केस सामने नहीं आया था। वही 10 अप्रैल को सागर में कृष्णगंज वार्ड निवासी एक व्यक्ति की पॉजिटिव रिपोर्ट आने की खबर ने लोगों को सदमे में डालने से लेकर गंभीर हालातों का एहसास करा दिया है। भोपाल एम्स से आई सैंपल की जांच पॉजिटिव पाए जाने के बाद अब सागर स्वास्थ्य प्रशासन उपरोक्त युवक के इलाज तथा संपर्क में आए लोगों की पतासाजी में भी जुट गया है।
 
बाद में बीएमसी के डीन ने भी इस बात की पुष्टि कर दी कि शनिचरी निवासी एक 25 वर्षीय युवक की कोरोना कि रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जिसका इलाज किया जा रहा है। यह युवक सर्दी खांसी की वजह से 3 दिनों से तीली हॉस्पिटल में भर्ती था तथा इसकी सैंपल रिपोर्ट जांच हेतु भोपाल एम्स भेजी गई थी जो मिलने के बाद पॉजिटिव निकली है। वहीं अब टीकमगढ़ में भी एक पाजेटिव केस सामने आने के बाद संभाग के अन्य जिलों के लोगों को सतत सावधानी बरतते हुए लाक डाउन का पालन आगामी दिनों में और भी अधिक गंभीरता से करना आवश्यक हो गया है।
दमोह में 16 रिपोर्ट निगेटिव, 4 रिपोर्ट आज आएगी
दमोह जिले में प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु लगातार लाक डाउन का पालन कराने से लेकर हनर संभव प्रयास किए जा रहे है वहीं आम जनमानस द्वारा भी व्यापक सहयोग दिया जा रहा है। यहीं बजह है कि दमोह जिले में हजारो मजदूरों की घर वापसी के बावजदू एक भी कोरोना केस सामने नहीं आया है। जिला अस्पताल से 13 अपैल तक कुल 20 मरीजों के सेंपल जांच हेतु भेजे गए थे। जिनमें से 16 की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। शेष 4 रिपोर्ट 14 अप्रैल को आने की संभावना है। उम्मीद है कि यह भी नकरात्मक ही आएगी।                                                               
दमोह में लॉक डाउन का पालन कराने के लिए जिस तरह से पुलिस प्रशासन दिन रात एक कर रहा है वह जनता की भलाई के लिए ही है। लोग घरों के बाहर ना निकले घरों में भी सोशल डिस्टेंस का पालन करें। ताकि 20 अप्रैल के बाद कोरोना वायरस रहित खुले माहौल में जीवन यापन करने का अवसर प्राप्त हो सके। हमारी जरा सी लापरवाही में यदि एक भी पाजेटिव केस सामने आ गया तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगले कितने दिनों तक हम सभी को फिर घरों में कैद होकर रहना पड़ेगा। सावधानी में ही सतर्कता है अतः प्रशासन द्वारा दिए जा रहे दिशा निर्देशों का पालन करें जान है तो जहान है बरना सबको पता है दुनिया में इंसान 4 दिनों का मेहमान है.. अटल राजेन्द्र जैन

Post a comment

0 Comments