Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

ग्रहों के सेनापति 'मंगल' पहुंचे अपनी राशि मेष में.. अब 22 फरवरी तक करेंगे मेष में भ्रमण.. मेष कर्क वृश्चिक राशि वालों को रहेंगे विशेष फलदाई.. मंगल के गोचर का असर बता रहे हैं देहली के प्रसिद्ध ज्योतिष विश्लेषक रविंद्र शास्त्री महाराज

ज्योतिष में मंगल ग्रह का महत्व और प्रभाव एवं गोचर

वैदिक ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह को क्रूर ग्रह माना गया है। सभी की कुंडली में मंगल ग्रह का विशेष प्रभाव पड़ता है। कुंडली में मंगल दोष होने पर तमाम तरह की परेशानियां आने लगती है, जिसमें प्रमुख रूप से विवाह में देरी का होना माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह को ऊर्जा, भूमि और साहस का कारक ग्रह माना गया है। मेष और वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल ग्रह होते हैं। मंगल मकर राशि में उच्च के जबकि कर्क राशि में नीच के माने गए हैं। जिन लोगों की कुंडली में मंगल शुभ भाव में होते हैं वह व्यक्ति काफी निडर और साहसी स्वभाव होता है। ऐसा व्यक्ति किसी भी प्रकार की चुनौती से जल्दी घबराता नहीं है। वहीं जिन जातकों की कुंडली में मंगल अशुभ भाव में विराज मान होते हैं उन्हें कई तरह की परेशानियां झेलनी पड़ती है।

कुंडली में मंगल दोष-ज्योतिष के अनुसार जब किसी जातक की कुंडली में मंगल लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम और द्वादश भाव में से किसी भी एक भाव में होता है, तब मांगलिक दोष की स्थिति बनती है। जिसकी कुंडली में मंगल दोष होता है यानि कुंडली मांगलिक होती है उसके वैवाहिक जीवन पर विपरीत प्रभाव पड़ने की आशंका रहती है। इसलिए मांगलिक कुंडली के जातक का विवाह किसी मांगलिक दोष वाले के साथ ही करवाया जाता है। नव ग्रहों में सेनापति का दर्जा भी मंगल ग्रह को दिया गया है। बता दें कि, मंगल ग्रह एक राशि में कम-से-कम 45 दिनों तक संचरण करता है। इस दौरान वो इंसान के जीवन के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करने के लिए जाने जाते हैं। 


हमारे जीवन में होने वाली सभी मुख्य घटनाएँ इन ग्रहों के चाल पर निर्भर करती हैं। यह बात तो निश्चित है कि ग्रहों की यह चाल हमारे जीवन में बड़े-छोटे, गंभीर-सामान्य प्रभाव डालती ही हैं। इसके अलावा यह सभी ग्रह हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं को नियंत्रित करने की भी क्षमता रखते हैं। अब बात करें अगर इस वर्ष के आखिरी गोचर, मंगल गोचर की तो, मंगल ग्रह 24 दिसम्बर, बृहस्पतिवार को दोपहर 11:42 बजे अपने मित्र बृहस्पति की मीन राशि से निकलकर अपनी ही राशि मेष में प्रवेश कर चुके मंगल का मेष और वृश्चिक राशि का स्वामित्व प्राप्त है। ऐसे में अपनी ही राशि में मंगल का यह गोचर आपके जीवन में क्या असर डालता है इसके लिए जानिए अपना गोचर भविष्यफल।

जातकों की कुंडली में मंगल की शुभ-अशुभ स्थिति बहुत कुछ निर्धारित करती है। उदाहरण के तौर पर समझाएं तो, कुंडली में शुभ मंगल ज़मीनी लाभ, भाई-बहनों से अच्छे संबंध, नौकरी और मान-सम्मान में वृद्धि का कारक होता है, वहीं कुंडली में मंगल की अशुभ स्थिति से इंसान के अन्दर आत्मविश्वास और साहस की कमी की वजह बनता है।  हालाँकि वैदिक ज्योतिष में ऐसे कई सरल और सटीक उपाय बताये गए हैं, जिन्हें अपनाकर मंगल ग्रह के अशुभ प्रभावों से बचा जा सकता है। 

मांगलिक दोष के प्रभाव से राहत पाने के उपाय..

मांगलिक दोष हो उन्हें प्रतिदिन हनुमान जी की आराधना करनी चाहिए एवं हनुमान चालीसा पाठ करना चाहिए। इससे मांगलिक दोष में राहत मिलती है। मांगलिक दोष वाले लोगों को मांस मदिरा के सेवन से दूर रहना चाहिए। मांगलिक दोष वाले जातक को अपने भाई-बहन और जीवनसाथी के साथ संबंध अच्छे रखने चाहिए।  मंगलदोष वाले जातकों को मांगलिक दोष को निवारण के लिए किसी उचित पुरोहित से उज्जैन स्थित मंगलनाथ मंदिर में विधिवत भात पूजन करवाना चाहिए। इससे मांगलिक दोष से मुक्ति मिलती है। मांगलिक दोष वाले जातक जिनका विवाह नहीं हुआ है विवाह करने से पहले कुंभ विवाह करने का भी विधान माना जाता है।

गोचर का सभी बारह राशियों पर पड़ने वाला प्रभाव..

मेष राशि- आपके लिए मंगल का राशि परिवर्तन शुभ रहेगा।

वृषभ राशि- वृषभ राशि के जातकों के लिए मिलाजुला फल मिलेगा।

मिथुन राशि- परेशानियों का अंत होने वाला है। कार्य व्यापार में उन्नति होगी। जमीन जायदाद से जुड़े मामलों का निपटारा होगा।

कर्क राशि- कर्क राशि के लिए उन्नति तथा नौकरी में भी पदोन्नति के योग

सिंह राशि- आपके लिए मिला जुला प्रभाव देखने को मिलेगा।

कन्या राशि-कन्या राशि के लिए मंगल का फल काफी मिलाजुला रहेगा। धन प्राप्ति के योग भी बनेंगे।

तुला राशि- परेशानियों में इजाफा होने के संकेत हैं। दांपत्य जीवन को संभालकर चलें | विवादित मामले सुलझाने का प्रयास करें।

वृश्चिक राशि- मंगल का राशि परिवर्तन आपके लिए शुभ रहेगा। नौकरी में भी परिवर्तन के लिए प्रयास कर रहे हों तो अवसर अनुकूल रहेगा।

धनु राशि- आपके लिए धन हानि होने की संभावना है।

मकर राशि- सामाजिक पद एवं पद प्रतिष्ठा बढ़ेंगी।

कुंभ राशि आपके लिए मिला जुले फल की प्राप्ति होगी।कार्यक्षेत्र में उन्नति तथा व्यापार के क्षेत्र में भी प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

मीन राशि- राशि से धनभाव में मंगल मिलाजुला फल देंगे।

*पं. रविन्द्र शास्त्री*

*न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी माता का मन्दिर नई दिल्ली 25*

*7701803003* *7529934832*

Post a comment

0 Comments