Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

छतरपुर से अपह्रत प्रॉपर्टी डीलर का 6 वर्षीय पुत्र .. बदमाशों के चुंगल से मुक्त होकर सुरक्षित पहुचा घर.. अपहरण कर्ताओ ने मांगी थी एक करोड़ की फिरौती... लेकिन पुलिस सक्रियता और नाकाबन्दी के चलते मंसूबो में कामयाब नही हो पाए बदमाश.. इधर ग्रामीणों की मदद से चार बदमाश पकड़े गए..

 रात भर की तलाश अपहरणकर्ता पुलिस की गिरफ्त में
छतरपुर। शहर के चौबे कॉलोनी से 19 अगस्त को दोपहर 12 बजे अपहृत हुए मासूम 6 वर्षीय अभि गुरुवार की सुबह सकुशल घर पहुच गया है। लेकिन बदमाशो का कोई सुराग नहीं लग सका है। उम्मीद की जा रही है कि पुलिस के लंबे हाथ जल्द बदमाशों को दबोच लेंगे। मासूम की अपहरण की जो कहानी सामने आई है उसके अनुसार उसे बाइक पर बैठाकर ले जाया गया था लेकिन पुलिस सक्रियता और नाकाबंदी के चलते बदमाशों को बाहर भागने का मौका नहीं मिला इधर पुलिस को अपहरण कर्ताओं के खोप स्थित निवारी की पहाड़ी पर होने की जानकारी मिली। जिसके बाद पुलिस घेराबंदी होती देख बदमाश सुबह करीब 4 बजे करीब मासूम को छोड़कर अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल हो गए। लेकिन बाद में पुलिस ने चार बदमाशों को दबोचा में सफलता हासिल कर ली है।
 मासूम के साथ कुशल घर पहुंच जाने से जहां परिवार की खुशियां वापस लौट आई हैं वही शहरवासी छतरपुर पुलिस अप पुलिस के अधिकारियों को भी सक्रियता के लिए दुआएं दे रहे हैं आपको बता दे कि बुधवार की दोपहर 12 बजे चौबे कॉलोनी में सरस्वती महाविद्यालय के सामने रहने वाले प्रॉपर्टी डीलर भास्कर तिवारी के 6 वर्षीय मासूम पुत्र अभि तिवारी का अज्ञात तत्वों द्वारा  अपहरण कर लिए जाने का घटनाक्रम सामने आया है। शुरुआती 1 घंटे तक घर वालों ने अभी को कहीं आस - पास होने की शक में खोज भी नहीं की। लेकिन जब दोपहर 1 बजे तक अभि घर नहीं आया तो घर वालों ने उसकी खोजबीन शुरू की। इस बीच करीब दो बजे  एक अननोन नंबर से आये फोन पर फिरौती के रूप मे एक करोड़ रुपए की मांग की गई। जिसकी बाद ही परिजनों को मासूम के अपहरण हो जाने का पता लगा तथा इसकी सूचना पुलिस को दी गई।
जानकारी लगते ही छतरपुर एसपी सचिन शर्मा, एएसपी  समीर सौरभ के निर्देशन में टीआई सिटी कोतवाली अरविंद सिंह दांगी, टीआई सिविल लाइन धर्मेंद्र सिंह की टीम अज्ञात अपहरणकर्ता की तलाश में जुट गए थे। वही सागर आईजी श्री अनिल शर्मा के निर्देशन में डीआईजी सहित अन्य पुलिस अधिकारियों की टीम लगातार दिशा निर्देशन दे रही थी। शायद यही वजह रही कि बदमाश  अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सके हैं और पुलिस ने पूरी रात जागकर जो सक्रियता दिखाएं उसका नतीजा  फलीभूत होता नजर आया। ग्रामीणों की मदद से चार बदमाशों को पकड़े जाने की जानकारी भी सामने आई है।
पूरे घटनाक्रम को लेकर वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अधिकृत बयान का फिलहाल इंतजार किया जा रहा है। जीतेन्द्र रिछारिया की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments