Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

बुंदेलखंड के ग्रामीण परिवेश और कल्चर से रूवरू होकर गदगद हुई.. भारत सरकार नीति आयोग की यंग प्रोफेषनल श्रीमति प्रेरणा अग्रवाल.. पौधारोपण व संवाद करके जाना स्व सहायता समूह की महिलाओं की तरक्की का राज..

कुम्हारी क्लस्टर के ग्राम देवरी रतन में भ्रमण किया-
दमोह। जिले के कुम्हारी क्लस्टर के ग्राम देवरी रतन पहुंची नीति आयोग भारत सरकार नई दिल्ली से श्रीमति प्रेरणा अग्रवाल (यंग प्रोफेषनल) ग्रामीण परिवेश और कल्चर से रूवरू होकर काफी खुश नजर आई। उन्होनें पौधारोपण करके स्व सहायता समूह की महिलाओं की तरक्की का राज जानकार बधाई देते हुए प्रोत्साहित किया। इस दौरान ग्रामीण महिलाए भी श्रीमति प्रेरणा अग्रवाल के मिलनसार स्वभाव तथा उनके द्वारा दिए जा रहे प्रोत्साहन से काफी खुश नजर आई।
भारत सरकार नई दिल्ली से श्रीमति प्रेरणा अग्रवाल (यंग प्रोफेषनल) के द्वारा 19 जुलाई शुक्रवार को कुम्हारी क्लस्टर के ग्राम देवरी रतन में भ्रमण किया गया जिसमें स्व.सहायता समूह से जुडी हुयी महिलाओं से सीधे तौर पर संबाद किया तथा शासन की विभिन्न योजनाओं की जानकारी ली इसी अनुक्रम में मध्यप्रदेष राज्य ग्रामीण आजीविका मिषन अंतर्गत पंजीकृत समूहो से उनके जीवन मे आये बदलाव व अनुभवो को सुना कुम्हारी ग्राम के आंगनबाडी केन्द्र के परिसर में वृक्षारोपण का कार्य परियोजना अधिकारी श्री कृपाल अठ्या के साथ किया
इसके उपरांत समूह की महिलाओं के साथ जानकारी ली स्व.सहायता समूह से जुडकर महिलाओं ने अपने-अपने सफलता की कहानी और उपलब्धता को सांझा किया जिसमें कुम्हारी संकुल स्तरीय संगठन की अध्यक्ष श्रीमति सरोज लोधी के द्वारा अपने संगठन के संबंध में पूर्ण जानकारी दी गयी जिसमे उन्होने बताया कि क्लस्टर अंतर्गत 365 स्व.सहायता समूह हैं, जिनमें 4000 के लगभग महिलायें जुडी हुयी है, तथा आजीविका संबंर्धन का कार्य कर रही है। स्व.सहायता समूह में जुडकर शुरु से अभी तक लगभग हर महिला ने 1 लाख से 50 लाख तक का लेन-देन किया है तथा अनेक गतिविधि संचालित कर रही है। जिनमें मुख्य रुप से श्रीविधि द्वारा धान की खेती, व्यवसायिक सब्जी उत्पादन, पशुपालन व दुग्ध उत्पादन के साथ जैविक खेती व जैविक दबाई का निर्माण व उपयोग किया जा रहा है।
गैर कृषि आधारित गतिविधि अंतर्गत पाॅंच किराना की दुकान दो मनिहारी की दुकान अनाज क्रय-विक्रय का कार्य आटा चक्की तथा कुम्हारी में पानी सप्लाई का कार्य किया जा रहा है। जिसमें 103 परिवारो को कनेक्षन दिये गये है व हितग्राही द्वारा 25000-30000/- रुपये की आय अर्जित की जा रही है बैठक में आयी श्रीमति रामदुलारी लोधी जी ने बताया कि समूह में जुडने के पहले उनकी स्थिति अत्यंत कमजोर थी छोटे-छोटे कर्ज के लिये आश्रित रहना पड़ता था। परन्तु समूह के माध्यम से हम सभी महिलाओं के अन्दर नेतृत्व की क्षमता, ज्ञान का विकास, जागरुकता एवं सषक्तिकरण हुआ है। पहले हम लोगो को घर से निकलने की आजादी नही होती थी। परन्तु अब हमे हमारे परिवार का भी सहयोग प्राप्त होता है।
बैठक में आयी श्रीमति सुनीता जी के द्वारा अपने द्वारा किये गये कार्यो को बताया, जिसमें उन्होने महिलाओं एवं किषोरी को माहवारी में स्वच्छता एवं प्रबंधन विषय पर जागरुक किया तथा सैनेटरी नैपकिन उपयोगिता को महिलाओं के सहयोग से बढाया हैं। गाॅव की कई महिलायें एवं बच्चिया सैनेटरी नैपकिन पैड का उपयोग कर रही हैं। व इससे जुडी रोगजार सीआरपी को रोजगार मिला है। व बैठक में आयी श्रीमति ललिता लोधी जो कि मध्यभारत ग्रामीण बैंक अंतर्गत क्योस्क संबंधी सेवाये लोगो को घर-घर प्रदान करती है। उन्होने बताया कि शुरु से लेकर अब तक उनके द्वारा 250 बचत खाते खोले गये हैं व पेंषन राषि को प्रदाय किया जाता है। और लगभग 10 लाख रुपये तक का लेन-देन किया जा चुका है।
इसी के साथ सामुदाय आधारित सूक्ष्म बीमा संस्था की अध्यक्ष श्रीमति लक्ष्मी नामदेव ने जानकारी दी की समूह की महिलाओं से ही एक बीमा संस्था का गठन किया गया हैं जिसमें तीन सौ रुपये की बीमा राषि में पति और पत्नि का 15000-15000/- रुपये का बीमा एक साल के लिये होता हैं संस्था के द्वारा अभी तक लगभग 113 लोगो को लाभान्वित किया गया है। इस संस्था का प्रमुख उद्देष्य मृत्यु होने पर अंत्येष्टि हेतु तत्काल पाॅंच हजार रुपये एवं शेष दस हजार रुपये एक सप्ताह के मध्य प्रदाय किये जाते है। जिससे कि विषम परिस्थितियों में परिवार की सहायता हो सके।

म.प्र.रा.ग्रा.आ.मि. की जिला परियोजना प्रबंधक श्रीमति मीना परते के द्वारा आगन्तुक मैंडम को मिषन संबंधी कार्यो की विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई तथा सहायक जिला प्रबंधक श्री दिग्विजय पटेल जी के द्वारा विषय बार मिषन के सभी कार्यो को साझा किया गया साथ ही महिलाओं के द्वारा गरीबी उन्मूलन कि दिषा में किये जा रहे कार्यो में विस्तार पूर्वक बताया गया। श्रीमति अग्रबाल मैंडम के द्वारा अपने सम्बोधन में महिलाओ द्वारा किये जा रहे कार्यो को सराहा गया। एवं आजीविका संबंर्धन की दिषा में किये जा रहे कृषि आधारित गतिविधि एवं गैर-कृषि आधारित गतिविधि एवं सामाजिक कुरीतियो को दूर कर आगे बढने व सषाक्त होने की बात कही गई इस कार्यक्रम में विकासखण्ड प्रबंधक श्री नजीब अहमद खान एवं समूह प्रेरक श्री कमलेष साहू के साथ भगबानदास, सूरज,सूरत, कल्लू, सहजाद आदि सीआरपीयों की सक्रिय भूमिका रही है दिग्विजय पटेल की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments