Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

बाइक सवार युवक को क्यों मारी गोली.. ? सीने मे छर्रे लगने से घायल जबलपुर रैफर.. इधर अवैध पत्थरों का परिवहन करते पुलिस ने ट्रेक्टर ट्रॉली पकड़ी.. प्रदेश का पहला 500 एमव्हीए ट्रांसफार्मर भोपाल में ऊर्जीकृत.. भोपाल समेत अन्य क्षेत्रों को होगा बहुत फायदा...

सीने मे छर्रे लगने से घायल युवक जबलपुर रैफर 

दमोह। तेंदूखेड़ा से 2 किलोमीटर दूर भौडी मंदिर के पास गुरुवार दोपहर एक बाइक सवार युवक को बंदूक दिखाकर रोके जाने तथा नहीं रुकने पर बंदूक से गोली चला देबे का सनसनीखेज घटनाक्रम सामने आया है। सीने में गोली के छर्रे लगने से घायल युवक को जबेरा स्वास्थ्य केंद्र से प्राथमिक उपचार के बाद जबलपुर रेफर किया गया है। फिलहाल घटना की बजह का पता नहीं लग सका है।
 घायल युवक लक्ष्मण पिता भगवत यादव उम्र 33 निवासी भौड़ी ने बताया कि मैं अपनी मोटरसाईकिल से भौड़ी से तेंदूखेड़ा आ रहा था रास्ते में मंदिर के पास घासीराम गौड़ उम्र 50 वर्ष बंदूक लिए रास्ते में खड़ा था जो मुझे रोकने लगा। लेकिन बंदूक देखकर मैं नहीं रूका और वहां से तेज गति से निकलने की कोशिश की। जिस पर उसने बंदूक चला दी जिसके छर्रे छाती में बाएं तरफ आकर लगे। साथ ही बाएं कंधा के नीचे छाती से धंसे हुए हैं। घायल का यह भी कहना है कि यदि वहां रुक जाता तो उसकी जान बचना मुश्किल थी। मामले में तेंदूखेड़ा थाना पुलिस द्वारा मामला दर्ज करके घटना की जांच आरोपी की तलाश की जा रही है। वही मामला किसी पुरानी रंजिश का नजर आ रहा है।
 
अवैध पत्थरों का परिवहन करते ट्रेक्टर ट्रॉली पकड़ी
दमोह। गैसाबाद थाना पुलिस ने हटा पन्ना राजमार्ग पर सकोर गांव के पास अवैध रूप से पत्थरो का परिवहन करते एक ट्रैक्टर ट्रॉली को जब्त किया है,बताया जा रहा है, लगातार अवैध उत्खनन परिवहन की शिकायतों पर थाना प्रभारी अरविंद सिंह के निर्देश पर प्रधान आरक्षक राधेश्याम परिहार, आर भूपेंद्र पटेल ने यह कार्यवाही की है।
बिना नम्बर के आयशर ट्रेक्टर में चालक द्वारा पत्थरो का परिवहन किया जा रहा था,पुलिस ने वाहन को रोका तो रॉयल्टी अनुमति सबंधित कोई दस्तावेज नही पाए गए,जिसके बाद ट्रेक्टर को थानां में रखवाकर आरोपी सुनील पटेल पिता बाबूलाल पटेल निवासी घुटरिया पर अपराध क्रमांक 0138/22 धारा 379 आई पी सी सहित खनिज की धाराएं 4 (1क)  21 (अ) मोटर व्हीकल एक्ट की धाराओं 130, 177, 177 (3) के तहत प्रकरण दर्ज किया है। प्रकरण की जांच जारी है।
 
मप्र पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने पहली बार उपयोग किया
भोपाल। मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने नवाचार करते हुए मध्य प्रदेश के अपने ट्रांसमिशन नेटवर्क में लगभग 25 करोड़ की अनुमानित लागत से पहली बार 500 एमव्हीए क्षमता के पावर ट्रांसफार्मर को स्थापित किया है। गत दिवस 400 के व्ही सबस्टेशन भोपाल में इस विशेष डिजाइन से तैयार करवाये गये 500 एमव्हीए के पावर ट्रांसफार्मर को सफलतापूर्वक ऊर्जीकृत किया गया। मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने 400 के व्ही सबस्टेशन भोपाल में 400.220.132 केव्ही के 315 एम व्ही ए क्षमता के पावर ट्रांसफार्मर के लिये लगने वाले स्थान पर ही विशेष डिजाइन से तैयार हुए मेसर्स टी एण्ड आर द्वारा निर्मित इस 500 एमव्हीए क्षमता के पावर ट्रांसफार्मर को स्थापित किया है।
 मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी के मुख्य अभियंता श्री राजेश श्रीवास्तव ने बताया कि अब तक 400 के व्ही सबस्टेशनों में परंपरागत 315 एम व्ही ए के पावर ट्रांसफार्मर लगाये जाते रहे है। जिसके स्थान पर पहली बार 500 एम व्ही ए क्षमता का यह पहला पावर ट्रांसफार्मर है जिसे शासन की ज्यादा से ज्यादा नवाचार अपनाने की मंशा के तहत स्थापित किया गया है। यह ट्रांसफार्मर प्रथम बार खरीदा जा रहा था अतः इसकी तकनीकी बारीकियों का अध्ययन एवं खरीदने हेतु टेंडर के महत्वपूर्ण तकनीकी पैरामीटर बनाने में मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी के कार्यपालन अभियंता श्री इकबाल खान ने महती भूमिका अदा की।
175 एमव्हीए की अतिरिक्त क्षमता उतनी ही जगह में..इस नवाचार का फायदा यह है कि जितनी जगह 315 एम व्ही ए क्षमता के पावर ट्रांसफार्मर की स्थापना को लगती है उतने ही इन्फ्रा स्ट्रक्चर में 500 एम व्ही ए क्षमता का ट्रांसफार्मर स्थापित कर लिया जाता है। जिससे अतिरिक्त ट्रांसफार्मर लगाने की प्रक्रियाए धन और श्रम बच जाता है साथ ही सबस्टेशनों में बढ़ने वाली अचानक लोड डिमांड को भी पूरा किया जा सकता है। इस ट्रांसफार्मर की स्थापना के उपरांत 400 के व्ही सबस्टेशन भोपाल की क्षमता 1445 एमव्हीए की हो गई है।
भोपाल समेत अन्य क्षेत्रों को होगा बहुत फायदा..इस ट्रांसफार्मर की स्थापना से भोपाल के शहरी और औद्योगिक क्षेत्र के अलावा बैरागढ़ विदिशा मुगालिया छाप के अतिरिक्त आष्टा क्षेत्र को भी बेहद फायदा मिलेगा इस ट्रांसफार्मर की स्थापना से इन क्षेत्रों में गुणवत्तापूर्ण पर्याप्त विद्युत आपूर्ति उचित वोल्टेज में की जा सकेगी साथ ही आष्टा उज्जैन क्षेत्र को भी भोपाल से सपोर्ट मिल सकेगा।
 

Post a Comment

0 Comments