Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

केंद्रीय मंत्री सिंधिया के प्रयासों से आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति का ग्वालियर में स्टॉपेज शुरू.. लेकिन केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल के निर्वाचन क्षेत्र दमोह में छग सम्पर्क क्रांति को रुकवाने का प्रयास करने वाला कोई नही.. इधर गोंडा बिहार के सांसद ने अपने क्षेत्र को दिलाई सितंबर माह में चार नई ट्रेनो की सौगात..

केंद्रीय मंत्री सिंधिया के प्रयासों से आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति का ग्वालियर में स्टॉपेज शुरू..

ग्वालियर। हजरत निजामुद्दीन से तिरुपति जी के बीच चलने वाली आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति एक्सप्रेस का आज से ग्वालियर में रुकना शुरू हो गया है। पिछले दिनों केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने केंद्रीय रेल मंत्री को पत्र लिखकर इस गाड़ी के ग्वालियर स्टेशन पर स्टॉपेज दिये जानी की मांग की थी।


ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति ट्रेन के पहली बार स्टॉपेज के मौके पर आज रेलवे स्टेशन पर आयोजित समारोह में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जहां स्वयं हरी झंडी दिखाकर ट्रेन को रवाना किया वही उन्होंने प्रधानमंत्री श्री मोदी एवं केंद्रीय रेल मंत्री को धन्यवाद भी दिया। इस मौके पर वह अपने दिवंगत पिता स्वर्गीय माधवराव सिंधिया को याद करना भी नहीं भूले।

 इस दौरान उन्होंने अपने पिता द्वारा ग्वालियर में शताब्दी ट्रेन जैसी गाड़ियों के स्टॉपेज आदि के लिए किए गए प्रयासों को याद किया भाजपा के अनेक बड़े नेता, सांसद विधायक के अलावा रेलवे अधिकारी भी मौजूद रहे। मप्र के ग्वालियर में आंध्र प्रदेश संपर्क क्रांति का स्टॉपेज विधिवत शुरू हो जाने के बाद अब इस बात की कोई शंका नहीं बची है कि संपर्क क्रांति ट्रेन को केंद्रीय मंत्री स्थानीय सांसद और रेल मंत्री चाहे तो किसी भी प्रदेश में स्टॉपेज दे सकते हैं।

 लेकिन महत्वपूर्ण रेल सुविधाओं के मामले में वर्षो से उपेक्षित बीना कटनी रेल खंड पर आज तक दक्षिण भारत और नागपुर आदि के लिए कोई रेल सेवा नहीं मिल पाने और क्षिप्रा एक्सप्रेस जैसी ट्रेन जिसे की स्वर्गीय माधवराव सिंधिया ने रेल मंत्री रहते हुए चालू कराया था उसको आज तक प्रतिदिन नहीं हो पाने की मुख्य वजह इस क्षेत्र को सिंधिया जैसा नेतृत्व नहीं मिल पाना ही कहा जा सकता है। अब दमोह सागर बासी श्री सिंधिया से ही अपेक्षा कर रहे हैं की वह अपने पिता द्वारा शुरू कराई गई क्षिप्रा एक्सप्रेस तथा चंबल एक्सप्रेस ट्रेनों को प्रतिदन करवा कर उनके द्वारा की गई शुरुआत को पूरा करने में भी महती भूमिका का निर्वहन करे।

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल के क्षेत्र में छग संपर्क क्रांति को आज तक नही मिल सका स्टापेज..
दमोह। पश्चिम मध्य रेलवे अंतर्गत बीना कटनी रेल खंड के दमोह रेलवे स्टेशन को मॉडल स्टेशन का दर्जा प्राप्त वर्षो बीत चुके है। इसके बावजूद कुंडलपुर बांदकपुर जैन तीर्थ क्षेत्रों वाले दमोह जिले के टिकट लेकर यात्रा करने वाले स्वाभिमानी रेल यात्रियों को सप्ताह में तीन दिन चलने वाली छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति अनेक वर्षों से बिना रुके निकलती जा रही है। जबकि यह ट्रेन मप्र के शहडोल, कटनी, सागर आदि में वर्षो से रुक रही है। इसी तरह इसी समय पर सप्ताह में एक दिन चलने वाली दुर्ग जम्मू ट्रेन भी बिना रुके निकल रही है। जबकि इसी समय पर जबलपुर निजामुद्दीन के बीच तीन चलने वाली मप्र संपर्क क्रांति दमोह में दो मिनिट को रुकती है

जबकि पिछले 7 वर्षों से दमोह संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व मोदी कैबिनेट में विशिष्ट स्थान रखने वाले केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल कर रहे हैं। जिनको उनके समर्थक प्रदेश के आगामी मुख्यमंत्री के तौर पर भी देखते नजर आते हैं इसके बावजूद यदि इनके कार्यकाल में नई रेल सेवा मिलना तो दूर जो ट्रेन बिना रुके निकल जाती हैं और इनका स्टॉपेज मिलना सपने जैसा बना हुआ है। जबकि जानकारों का कहना है कि दक्षिण पूर्व रेलवे के डीआरएम को यदि श्री पटेल एक पत्र भी लिख दे तो संपर्क क्रांति और जम्मू ट्रेन दमोह में रुकते देर नहीं लगेगी।
नई ट्रेनों और स्टॉपेज के लिए मांग करने पर अब गुस्से में देते है टका से जबाव..

वर्ष 2014 में दमोह सांसद चुने जाने के बाद सभी को  पूरी उम्मीद थी कि रेल सुविधाओं में जमकर इजाफा होगा। लेकिन यह उम्मीदे फिलहाल मृग मरीचिका जैसी ही साबित होती नजर आई हैं। पिछले 7 साल में अपने सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल को ज्ञापन देने के साथ रेल सुविधाओं की मांग करते करते थक चुके मीडिया कर्मियों से लेकर अन्य समाजसेवी अब जब कभी नई ट्रेन और स्टॉपेज को लेकर चर्चा भी करते हैं तो सांसद महोदय गुस्से के साथ झल्लाते हुए पूरी बात सुनने को भी तैयार नही होते है। जिससे रेल सेवा समिति के लोगों ने भी अब स्टेशन मास्टर को ज्ञापन देने तक सीमित हो गए है।
2 साल बाद भी दोबारा शुरू नहीं हो सकी राज्यरानी एक्सप्रेस और और पैसेंजर ट्रेन है
श्री पटेल की बेरुखी का ही है नतीजा है कि कोरोना काल में बंद की गई दमोह भोपाल राज्यरानी एक्सप्रेस और दमोह भिंड ग्वालियर ट्रेन से लेकर बीना कटनी खंड पर चलने वाली पैसेंजर गाड़ियों को दोबारा शुरू कराए जाने के मामले में रेलवे के अधिकारी कोई रुचि नहीं ले रहे हैं। वही रतलाम मंडल के अधिकारी रेल मंत्री की घोषणा के बावजूद क्षिप्रा एक्सप्रेस को प्रति दिन नहीं चला पा रहे हैं। जबकि श्री पटेल के पूर्व रेल मंत्री पीयूष गोयल से लेकर वर्तमान रेल मंत्री अश्वनी जी से बेहद नजदीकी संबंध रहे हैं। लेकिन इनका कोई लाभ उनके निर्वाचन क्षेत्र दमोह के लोगों को आज तक नहीं मिल सका है। यह हालात को रेल सेवाओं की चाह रखने वाले नागरिकों के लिए किसी दुर्भाग्य से कम नहीं है।
बिहार के गोंडा सांसद के व्यक्तिगत प्रयासों से सितंबर माह में दिलाई चार नई ट्रेनो की सौगात..
बिहार के गोड्डा से भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी जी से नजदीकी संबंध और अपने व्यक्तिगत प्रयासो से अपने संसदीय क्षेत्र व बिहार को 4 नई ट्रेन व एक ट्रेन के स्टापेज की सौगात दिलाई है। 

नई ट्रेनों में देवघर पुणे, देवघर गोवा, आसनसोल अहमदाबाद, भागलपुर रांची इंटरसिटी और गौड्डा कोलकाता एक्सप्रेस शामिल है। देवधर पुणे एक्सप्रेस कटनी जबलपुर होकर निकलेगी यदि केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल थोड़ा सा भी प्रयास करते है तो यह नई ट्रेन कटनी बीना खंड से होकर निकल सकती है। जिस से दमोह सागर वालो को पुणे के लिए एक सीधी कनेक्टिविटी तो मिल ही सकती है।
दुर्ग निजामुद्दीन हमसफर 28 सितंबर से नए टाइम पर फिर पटरी पर लौटेगी..
कोरोना काल मे बंद कर दी गई 22867/68 गाड़ी क्रमांक दुर्ग निजामुद्दीन द्वि साप्ताहिक हमसफ़र ट्रेन नए विशेष क्र. 08223/24 से फिर शुरू हो रही है।इसकी नई समय सारणी मे कुछ घण्टो का बदलाव किया गया है।

08223 दुर्ग हज़रत निजामुद्दीन द्विसाप्ताहिक हम सफ़र विशेष दिनांक 28 सितम्बर से प्रत्येक मंगलवार एवं शुक्रवार को दुर्ग से चलेगी रात 9.25 पर दमोह से सागर तरफ रवाना होगी। वापसी मे 08224 हज़रत निजामुद्दीन दुर्ग द्विसाप्ताहिक हमसफ़र दिनांक 29 सितम्बर से प्रत्येक बुधवार एवं रविवार को हज़रत निजामुद्दीन से रवाना की जाएगी। जो दमोह से रात 9.40 पर कटनी की और रवाना होगी।  दमोह सागर क्षेत्र सहित कटनी बीना रेल खण्ड पर जरूरी रेल सेवाओं की सौगात नहीं मिलने तक सांसदों को उनकी क्षमताओ का अहसास दिलाने के लिए खबरों का यह सिलसिला जारी रहेगा। पिक्चर अभी बाकी है राजेंद्र अटल

Post a Comment

0 Comments