Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

क्या जेबरात बने जान के दुश्मन.. शादी के 2 माह बाद लखन का फांसी पर झूलना पहेली बना.. पत्नि ने चाचा को ठहराया पति की मौत का जिम्मेदार.. परिजनों द्वारा सागर नाका चौकी के सामने शव रखकर प्रदर्शन के बाद पुलिस ने चाचा को पकड़ा..

परिजनों द्वारा चोकी के सामने शव रखकर प्रदर्शन..

दमोह। देहात थाना सागर नाका की इमलिया लांजी गांव निवासी लखन पटेल द्वारा फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर लेने के बाद परिजनों द्वारा उसकी मौत का जिम्मेदार चाचा पप्पू पटेल को ठहराया जा रहा था। जिस के चलते  सागर नाका पुलिस चौकी के बाहर सड़क का प्रदर्शन भी किया गया था। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी चाचा को हिरासत में लेकर जांच शुरू कर दी है।

 प्राप्त जानकारी के अनुसार इमलिया लांजी निवासी लखन पटेल का 2 महीने पहले ही विवाह हुआ था वही विवाह के समय परिवार द्वारा बहु को चढ़ाए के लिए दिए गए जेबरात और के चाचा ने वापस ले लिए थे जिस पर से चाचा भतीजे के बीच मनमुटाव चल रहा था। शुक्रवार को लगा लेने पर परिजन उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे थे। जहां उसे मृत घोषित कर दिए जाने के बाद शनिवार को पोस्टमार्टम उपरांत शव परिजनों के सुपुर्द किया गया था।

शव लेकर गांव वापस जा रहे दुखी परिजनों ने जिसमें लखन की पत्नी भी शामिल थी के द्वारा आरोपी चाचा पप्पू कुर्मी पर कार्रवाई की मांग को लेकर देर तक शव वाहन को सागर नाका पुलिस चौकी के सामने खड़ा रखा गया। इस दौरान मृतक की पत्नी ने खुद को भी चाचा द्वारा धमकाये जाने की बात करते हुए उसके जेवरात आदि रख लिए जाने की बात कही। पुलिस द्वारा कार्रवाई का आश्वासन दिए जाने के बाद शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। बाद में पुलिस ने आरोपी चाचा को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

Post a Comment

0 Comments