Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

दमोह विधानसभा उपचुनाव की बेला में होली के दूसरे दिन.. भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह का नामांकन जमा कराने पहुचे.. सीएम शिवराज जनसभा में पहले जैसा रंग नही जमा पाए.. मंच पर भीड़ के बावजूद शहरी मतदाताओं से पाडांल को नहीं भरवा पाए भाजपाई..

मुख्यमंत्री शिवराज पहले जैसा रंग नही जमा पाए..

दमोह। दमोह विधानसभा उपचुनाव की बेला में भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह का नामांकन जमा कराने के साथ जनसभा को संबोधित करने के लिए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और मंत्रिमंडल के सदस्यों की फौज के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह होली के दूसरे दिन दमोह आए थे। वह करीब 5 घंटे तक दमोह में रहे, विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल हुए इसके बावजूद वह पहले जैसा रंग नहीं जमा पाए।मंच पर भीड़ के बावजूद शहरी क्षेत्र के मतदाताओं से पाडांल को ठसाठस नहीं भरवा पाए भाजपाई 

 होली के दूसरे दिन और मार्च के सेकंड लास्ट दिन दमोह पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा का पार्टी नेताओं द्वारा आत्मीय स्वागत किया गया। हेलीपैड से नेता गण सीधे तहसील कार्यालय पहुंचे जहा भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह का नामांकन जमा कराया गया। इसके बाद पूर्व मंत्री जयंत मलैया के निवास पर पहुंचे जहां देर तक मंत्रणा चलती रही। इसके बाद तहसील ग्राउंड पर आयोजित आम सभा स्थल पर देर तक चलता रहा। 

तहसील ग्राउंड पर सजे उपचुनावी सभा मंच पर जहां नेताओं की भीड़ की वजह से रेलम पेल भरे हालात थे वही पांडाल में वैसी दमोह भीड़ नहीं थी जो पिछले महीने शिवराज के आगमन के दौरान नजर आई थी। इस मौके पर दिग्विजय सरकार में मंत्री रहे कांग्रेसी नेता मुकेश नायक के भाई पूर्व जनपद अध्यक्ष सतीश नायक, मंडी अध्यक्ष प्रतिनिधि गोपाल ठाकुर, पूर्व विधायक प्रतिनिधि पवन गुप्ता, पूर्व छात्र नेता बिल्लू बाधवा, शालनी सिंह सहित सौ लोगो ने भाजपा की सदस्यता ली।

पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया पर जहां सबकी नजरें टिकी हुई थी वही श्री मलैया दमोह में पूर्व में हुए उपचुनाव के अनुभव साझा करते हुए लोगों से यह उपचुनाव भी 28000 से अधिक वोटों से जिताने की अपील करते नजर आए। कैबिनेट मंत्री गोपाल भार्गव विपक्ष में रहकर विकास नहीं होने का संदेश और मंत्र देते लोगो को सत्ता के साथ चलने का सन्देशा देते नजर आए। सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल महाभारत के प्रसंग के जरिए दया धर्म का संदेश देने की कोशिश करते दिखे। 

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा दमोह भाजपा के दिवंगत नेताओं और पूर्व अध्यक्षों के नाम लेकर उनके योगदान को याद करते नजर आए। भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह के भाषण का फोकस कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन पर रहने के साथ बस स्टैंड की चिंता भी झलकती नजर आई।

 जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान भाजपा सरकार और कमलनाथ सरकार के बीच के अंतर को समझाने की कोशिश करते हुए नजर आए उन्होंने कमलनाथ सरकार के करीब डेढ़ साल के कार्यकाल मैं बंद कर दी गई विभिन्न योजनाओं का बारी-बारी से उल्लेख करते हुए याद दिलाया कि उन्होंने संभल जैसी योजनाएं फिर से चालू कर दी हैं वही जल्द ही कन्यादान योजना और तीर्थ दर्शन योजना जैसी योजनाएं भी चालू होने जा रही हैं। 


मुख्यमंत्री ने करीब घंटे भर के धुआंधार भाषण के दौरान एक-एक करके अपनी सरकार की उपलब्धियां और कमलनाथ सरकार के कारनामों को गिनाते रहे। जिसे पूर्व से प्रायोजित विभिन्न न्यूज चैनल और यूट्यूब चैनल लाइव दिखाते रहे। जिस वजह से मुख्यमंत्री के उपरोक्त भाषण को यहा रिपीट करना नाइंसाफी होगी। वैसे भी राहुल और उनकी टीम जिस तरह से स्थानीय मीडिया की अनदेखी करती आ रही है उसे देखकर कहा जा सकता है की टीम राहुल बहुत बड़े मुगालते में चल रही है तथा उनको स्थानीय मीडिया की शायद कोई जरूरत भी नहीं है..

Post a Comment

0 Comments