Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

बदले बदले से सरकार नजर आते है.. पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया श्री राम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण निधि संग्रह में जुटे.. इधर विधानसभा उपचुनाव की तैयारियों के साथ राहुल सिंह भाजपा के पुराने नेताओ से मेल मुलाकात के जरिये नजदीकी बढ़ाने में जुटे..

पूर्व वित्त मंत्री जुटे राम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण निधि संग्रह में..

दमोह। बदले बदले से सरकार नजर आते हैं जिनके एक इशारे पर करोड़ों के काम हो जाते थे वह खुद ही इन दिनों राम काज में जुटे नजर आते है। हम बात कर रहे हैं प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया की जो इन दिनों अयोध्या में प्रभु श्री राम मंदिर निर्माण हेतु चल रहे धन संग्रह अभियान में बड़े स्तर पर निधि जुटाने की कमान संभाले हुए हैं। श्री मलैया स्वयं अपने तथा परिवार की ओर से पांच लाख रु राशि का चेक श्री राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण हेतु भेंट कर चुके है। 
अयोध्या मंदिर निर्माण निधि संग्रह मे लगे श्री मलैया की पहली नजर अब उन लोगो पर हैं जो कम कम से एक एक लाख रु की राशि मंदिर निर्माण हेतु दान देने में सक्षम हो। ऐसे लोगों में श्री मलैया की प्राथमिकता में पहले वह लोग  हैं जो संघ परिवार या भाजपा से भले ही नही जुड़े हो लेकिन उनके 15 साल के मंत्री कार्यकाल में किसी ना किसी काम से उनके पास आते रहे हो।
श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण हेतु अपनी चंचला लक्ष्मी का उपयोग दान के रूप में करने वालों में शहर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और बस एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री शंकर राय भी शामिल है। श्री मलैया की पहल पर एक लाख रुपए का चेक देने वालो में वह अपने बेटे धर्मवीर राय के साथ सर्व प्रथम सामने आगे आए थे।
इसी तरह रिटायर प्रिंसिपल और समाजसेवी श्री सुखचैन राय और उनके बेटे आबकारी ठेकेदार संजय राय भी एक लाख रुपये की दान राशि का चेक मंदिर निर्माण हेतु श्री मलैया की पहल पर दे चुके है।
स्वर्गीय पीडी शैलार स्मृति न्यास के संयोजक तथा वैश्य महा संगठन के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष कैलाश शैलार भी एक लाख रुपए की राशि का चैक श्री मलैया को सौप चुके है। कुछ और भी नेता अधिकारी ठेकेदारों ने भी मंदिर निर्माण निधि संग्रह में श्री मलैया के पहल पर अपनी चंचला लक्ष्मी का उपयोग दान हेतु किया है। 

जहां भी श्री मलैया राम मंदिर निर्माण में ही सहयोग के लिए पहुंच जाते हैं वह व्यक्ति इंकार नहीं कर पाता। क्योंकि श्री मलैया अपने राजनैतिक जीवन में देने वालो में शामिल रहे है। शायद वह पहली बार राम नाम के काम से लेने निकले हैं इस वजह से कोई भी इनकार नहीं कर पाता।
 राहुल सिंह का पुराने भाजपाइयों से संपर्क अभियान जारी..

 कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए राहुल सिंह को वेयरहाउसिंग एंड लॉजिस्टिक कार्पोरेशन का चेयरमैन बनाए जाने के बाद उनकी दमोह से विधान सभा टिकट भी लगभग तय मानी जा रही है। भाजपा में शामिल होने के बाद 3 दिन पूर्व दमोह पहुंचे राहुल सिंह ने अपनी चुनावी तैयारियां शुरू कर दी है। हटा पहुंचे राहुल सिंह ने पूर्व विधायक विजय सिंह राजपूत, पूर्व विधायिका उमादेवी खटीक, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल आदि से मुलाकात की।
वह भाजपा के उन पुराने नेताओं का आशीर्वाद भी लेने उनके निवास पर पहुंच रहे हैं जिनके नाम पिछले विधानसभा चुनाव में कहीं ना कहीं पार्टी या श्री मलैया से नाराज नेताओं में लिए जाते रहे है।  भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष श्री बिहारी लाल गौतम की धर्म पत्नी का पिछले महीने लंबी बीमारी के बाद दुखद निधन हो गया था। वही भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष विद्यासागर पांडे के बेटे का भी कोरोना काल मे दुखद  निधन हो गया था। भाजपा के एक अन्य पूर्व जिला अध्यक्ष देवनारायण श्रीवास्तव की धर्मपत्नी का भी लंबी बीमारी के बाद पिछले महीने निधन हो गया था।
भाजपा में शामिल होने के बाद प्रथम नगर आगमन के बाद दूसरे दिन राहुल सिंह ने भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष श्री बिहारी लाल गौतम के निवास पर पहुंचकर मुलाकात करते हुए अपनी संवेदनाएं व्यक्त की बाद में वह श्री विद्यासागर पांडे के निवास पर भी पहुंचे। यहां भी उन्होंने शोक संवेदना व्यक्त की। यहा भाजपा के एक और पुराने नेता पूर्व महामंत्री किशोर अग्रवाल की खास मौजूदगी रही। इसी तरह वे देव नारायण श्रीवास्तव के यहा भी बैठने पहुचे।
वही पिछले विधानसभा चुनाव में  भाजपा छोड़ निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले  और वर्तमान में कांग्रेस नेता जिला पंचायत सदस्य राघवेंद्र सिंह लोधी ऋषि भैया के निवास पर पहुंचकर भी राहुल सिंह ने उनके बड़े भाई के निधन पर शोक संवेदना जताई सांसद और केंद्रीय मंत्री श्री प्रहलाद पटेल के निजी सचिव राजकुमार सिंह के पिताश्री के निधन पर भी उनके निवास पर पहुंचकर राहुल सिंह संवेदना जता चुके हैं। 
करीब 3 महीने के अज्ञात वास के बाद दमोह पहुंचे राहुल सिंह के स्वागत में जहां पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा के  निर्देश पर  पार्टी के जिला संगठन के पदाधिकारी व उनकी टीम सक्रिय  नजर आई थी वही अब वह अन्य नेताओं से मेल मुलाकात के जरिए अपनी चुनावी रणनीति की जमावट के साथ  सामाजिक धार्मिक आयोजनों में  अपनी उपस्थिति के साथ सहभागिता में में जुट गए हैं। 
जबकि पूर्व विधायक और पूर्व मंत्री श्री जयंत मलैया पूरी तरह से श्री राम मंदिर निर्माण निधि संग्रह में जुटे नजर आ रहे हैं। जिस से ऐसा लगता है कि श्री मलैया को भी यह संकेत मिल चुके है कि दमोह से भाजपा के अगले प्रत्याशी राहुल सिंह होंगे। वही श्री राम मंदिर निर्माण निधि संग्रह के जरिए उनको आने वाले समय में नई जिम्मेदारी के संकेत भी दिए जा चुके है। जबकि सूत्रों का कहना है की पार्टी लेवल पर यह तय हो चुका है कि राहुल सिंह दमोह विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे और श्री मलैया के बेटे सिद्धार्थ मलैया दमोह नगर पालिका चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी होंगे।
 मेडिकल के अलावा वायदे और भी किए थे राहुल ने..
 दमोह से कांग्रेस टिकट पर विधायक का चुनाव लड़ने वाले श्री राहुल सिंह ने चुनाव के दौरान मेडिकल कॉलेज की स्थापना के अलावा अनेक अन्य वादे भी किए थे। भाजपा में आने के बाद फिलहाल वह मेडिकल कॉलेज की बात ही कर रहे हैं। उनके अन्य वायदो वाले पुराने इंटरव्यू के साथ जल्द मिलते है। 
अटल राजेन्द्र जैन..

Post a comment

0 Comments