Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

मप्र विधानसभा उपचुनाव नतीजों के पूर्व.. भगवान जागेश्वरनाथ के दरवार में नेताओं का जमावड़ा.. मलहरा से भाजपा प्रत्याशी प्रधुम्न सिंह, पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया, पूर्व नपाध्यक्ष मनु मिश्रा सहित अनेक नेताओं का बांदकपुर में दर्शन जनसंपर्क..

नतीजों के पूर्व नेताजी भगवान जागेश्वरनाथ की शरण में

दमोह। मप्र में विधानसभा की 28 सीटों के उपचुनाव के परिणामों की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है वहीं प्रमुख प्रत्याशियों के साथ उनके समर्थकों के दिलों की धड़कन भी तेज हो गई है। प्रत्याशियों के साथ उनके परिजनों व समर्थको का मन्दिरो में पहुंचकर विजय की कामना हेतु दर्शन पूजन के साथ प्रार्थनाओ का दौर भी जारी है। 
बुंदेलखंड के पावन धाम भगवान जागेश्वर नाथ की नगरी बांदकपुर में वैसे तो आमदिनों के साथ प्रत्येक सोमवार को श्रद्धालुओं का मेला लगता है लेकिन इस सोमवार को यहां पहुंचने वालो में बड़ा मलहरा से भाजपा प्रत्याशी प्रदुमन सिंह लोधी, प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया और दमोह नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष मनु मिश्रा प्रमुख रहे। 10 नवंबर को बड़ा मलहरा चुनाव नतीजों के साथ दमोह जिले के एक नहीं अनेक नेताओं का भविष्य तय होने वाला है शायद यही वजह है कि आज जागेश्वर नाथ के दरबार में आज अनेक नेता दंडवत नजर आए। 

बड़ा मलहरा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी प्रदुमन सिंह ने  सोमवार सुबह बांदकपुर पहुंचकर भगवान जागेश्वर नाथ के दर्शन किए और इसके बाद वह कल की मतगणना संबंधित तैयारियों को लेकर बड़ा मलहरा रवाना हो गए। दमोह जिले के हिंडोरिया क्षेत्र के मूल निवासी प्रदुमन सिंह ने 2 साल पूर्व  कांग्रेस में शामिल होकर कांग्रेस टिकट पर बड़ा मलहरा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा नेत्री और शिवराज सरकार की मंत्री ललिता यादव को करीब 15000 वोटों से करारी शिकस्त दी थी। वहीं करीब 4 महीने पूर्व वह विधायक पद से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए थे। इसके बाद उन्हें खाद्य आपूर्ति निगम का अध्यक्ष बनाए जाने के साथ मलहरा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी भी बनाया गया। उपचुनाव के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी रामसिया भारती कांटे की टक्कर देती नजर आई है। लेकिन बसपा के अखण्ड प्रताप एक वार फिर कांग्रेस का गणित बिगाड़ते नजर आ रहे है। वह खुद तो जीत से कोसो दूर है कांग्रेस को भी जीत से दूर करते दिख रहे है।

पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया और प्रद्युम्नसिंह साथ साथ.. 

विधानसभा के 28 उपचुनाव के पूर्व ही दमोह विधायक राहुल सिंह द्वारा कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लेने से एक और उपचुनाव की स्क्रिप्ट लिखी जाने लगी है। वही 5 साल के लिए घर बैठ गए भाजपा कांग्रेस के प्रमुख दावेदार नेताओं को भी एक बार फिर अपनी किस्मत आजमाने का मौका मिल गया है। इस कड़ी में सबसे पहला नाम लगातार 28 साल तक दमोह विधान सभा से अजेय योद्धा रहे पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया का है। आज भी श्री मलैया के साथ भाजपा के प्रमुख पदाधिकारी बांदकपुर में नजर आए वहीं इस दौरान प्रद्युम्नसिंह भी श्री मलैया से आर्शीवाद लेते नजर आए।

भाजपा के बुजुर्ग नेताओं में शुमार हो चुके श्री मलैया आज भी लोकप्रियता के मामले में अन्य सभी नेताओं से काफी आगे हैं। शायद यही वजह है उपचुनाव में भाजपा टिकिट के मामले में पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच श्री मलैया आज भी पहली पसंद बने हुह है। वही श्री मलैया और उनके बेटे सिद्धार्थ ने पार्टी कार्यकर्ताओं तथा अपने समर्थकों के बीच पहुंचकर उनका मन टटोला शुरू कर दिया है। 
सोमवार को भगवान जागेश्वर नाथ के धाम में बांदकपुर भाजपा नेताओं में पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रीतमसिंह लोधी, उपाध्यक्ष अखिलेश हजारी, महामंत्री रमन खत्री, वरिष्ठ नेता हाकमसिंह पूर्व मंडल अध्यक्ष राजकुमार जैन, पूर्व सरपंच सनील डबुलया आदि के साथ श्री मलैया ने स्थानीय नेताओं कार्यकर्ताओं से मुलाकात की।  
 हालांकि अभी यह कहना मुश्किल है कि आगामी दिनों में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव में श्री मलैया को भाजपा अपना प्रत्याशी बनाएगी क्योंकि दमोह सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल पहले ही साफ कर चुके हैं के उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी के रूप में राहुल सिंह जनादेश प्राप्त करने मैदान में उतरेंगे। लेकिन यह भी तय है कि यदि बड़ा मलेहरा से प्रद्युम्नसिंह की यदि हार होती है तो दमोह से राहुलसिंह की टिकिट का विरोध करने का एक भाजपा नेताओं को एक ओर कारण मिल जाएगा। 
इधर मलैया का यह बयान भी अब चर्चाओं में छाया..

पिछले दिनों दमोह पहुंचे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री बीडी शर्मा भी श्री मलैया को इशारों इशारों में बता चुके हैं कि उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह होंगे। वही श्री मलैया भी साफ संकेत दे चुके हैं कि व राहुल का प्रचार नहीं कर पाएंगे। इस चर्चा को लेकर सोशल मीडिया पर भोपाल के एक अखबार की खबर भी अब लगातार वायरल हो रही है। जिसमें श्री मलैया के हवाले से कहा गया है ना  राहुल का विरोध करेंगे और न काम करेंगे और ना पार्टी छोड़ेंगे।

इधर एक दिन पूर्व दमोह आकर पूर्व वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया और विधायक रामबाई से मुलाकात करने वाले नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह का भी एक बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि पार्टी तय करेगी कि दमोह में उपचुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी कौन होगा। इससे साफ होता है कि टिकिट के मामले में मलैया की डगर इतनी आसान नहीं है जितनी उनके समर्थक मानकर चल रहे हैं। 

इधर भाजपा में रहकर अनेक मौकों पर श्री मलैया का खुले मंच से विरोध करने वाले जिला पंचायत के अध्यक्ष शिवचरण पटेल भी अब बदले हुए हालात में श्री मलैया के साथ नजदीकी बढ़ाते नजर आ रहे हैं। आपको बता दें कि यह वही शिवचरण है जो पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान बाबाजी यानि रामकृष्ण कुसमरिया के साथ खड़े नजर आए थे। और उनको बगावत की राह पर ले जाने के साथ श्री मलैया की राह में कांटे बोने का आरोप भी इन पर खुलकर लगा था। अब जबकि बाबा जी की भी भाजपा में वापसी हो चुकी है ऐसे में शिवचरण की मलैया से नज़दीकियां अनेक चर्चाओं को जन्म देती नजर आ रही हैं।

पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष मनु मिश्रा भी बांदकपुर पहुंचे

पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस टिकट के प्रमुख दावेदारों में शुमार रहने के बाद भी अंतिम समय में टिकट की दौड़ में राहुल सिंह से पिछड़ जाने वाले पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष मनु मिश्रा भी भगवान जागेश्वर नाथ के अनन्य भक्तों में शामिल है। सोमवार को अपने जन्मदिन की पूर्व बेला में उन्होंने भी भगवान जागेश्वर नाथ के दर्शन पूजन करके अभिषेक किया। वही उनके समर्थक कांग्रेस नेताओं को इस बात की पूरी उम्मीद है की दो साल पूर्व टिकिट मिलने का जो कार्य अधूरा रह गया था वह अब भगवान जागेश्वर नाथ की कृपा से आने वाले दिनों में पूरा होने जा रहा है। 

 केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल की प्रतिष्ठा भी दांव पर..

बड़ा मलहरा उपचुनाव के परिणामों के पूर्व केंद्रीय मंत्री और दमोह सांसद प्रह्लाद पटेल की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगती नजर आ रही है। दरअसल बड़ा मलहरा क्षेत्र दमोह लोकसभा के अंतर्गत आता है 2 साल पहले हुए विधान सभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में प्रद्युम्न सिंह ने जहां 15 हजार से ज्यादा वोटों से भाजपा प्रत्याशी राज्य मंत्री ललिता यादव को हराया था वही इसके एक साल बाद हुए लोकसभा चुनाव में सांसद और भाजपा के लोक सभा प्रत्याशी प्रह्लाद पटेल ने बड़ा मलहरा क्षेत्र से 52 हजार से अधिक वोटों से जीत दर्ज की थी। 


अब जबकि प्रदुम्न सिंह और प्रह्लाद पटेल एक ही झंडे के नीचे हैं ऐसे में इस उपचुनाव में प्रद्युम्न सिंह को मिलने वाली वोटों पर सभी की नजर रहेगी। क्योंकि उमा भारती के पूर्व विधानसभा क्षेत्र के अलावा पिछले 2 लोकसभा से बड़ा मलहरा प्रहलाद पटेल के लोकसभा का हिस्सा है और ऐसे में यहां से भाजपा प्रत्याशी की जीत और वोटों से उनकी प्रतिष्ठा को भी जोड़ कर देखा जा रहा है भले ही वह इस मामले में कुछ भी कहने से बचते रहे हो। पिक्चर अभी बाकी है.. 
अटलराजेंद्र जैन

Post a comment

0 Comments