Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

22 पाजेटिव रिपोर्ट, 2 कोरोना मरीजों की मौत.. नगर पुरोहित की अंतिम यात्रा में शामिल हुए सैकड़ो शिष्य.. परिजनों ने अस्पताल की व्यवस्थाओं पर उठाए सवाल.. निजी क्लीनिक बंद, सर्दी खांसी के मरीज परेशान..

 संदिग्ध कोरोना मरीज की मौत के बाद कैसे सौप दी बॉडी
दमोह। जिले में कोरोना संक्रमण का असर बढ़ने के साथ मरीजों की संख्या में हो रही वृद्धि के बावजूद जगह जगह फीवर क्लीनिक का अभाव मरीजों की परेशानी की वजह बन रहा है। वही जिला अस्पताल में स्टाफ की कमी इलाज में लापरवाही तथा निमोनिया के इंजेक्शन का अभाव जांच उपचार कराने के लिए पहुंचने वाले मरीजों की परेशानी को दुगना कर रहा है। 
 ऐसे ही कुछ हालात में सर्दी खांसी के इलाज व निमोनिया के इंजेक्शन के अभाव में नगर पुरोहित की मृत्यु हो जाने पर उन्हें संदिग्ध कोरोना मरीज मानकर बॉडी को पीपीई किट में लपेटने के बाद परिजनों को सौंप दिए जाने तथा बाद में उनकी पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर देर रात शव को वापस लेने पहुंचे जिला अस्पताल के स्टाफ को पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में परिजनों ने अस्पताल की अव्यवस्थाओं पर अनेक सवाल किए। इस दौरान करीब 2 घंटे तक हंगामेदार माहौल के बाद स्टाफ को खाली हाथ वापस लौटना पड़ा। 
 परिजनों का साफ कहना था अस्पताल में निमोनिया के इंजेक्शन नहीं होने, इंजेक्शन की पर्ची बनवाने में उनको घंटों परेशान होना पड़ा। यहां तक की सैंपल लिए बिना कोरोना रिपोर्ट आ जाने पर भी सवाल उठाए गए। वही प्रशासन के निर्देशों के चलते प्राइवेट डॉक्टरों द्वारा मरीज को नहीं देखे जाने तथा जिला अस्पताल में आवश्यक इंतजाम नहीं होने जैसे हालात में हर मोहल्ले में फीवर क्लीनिक खोले जाने की और भी पीड़ित परिजनों द्वारा ध्यान आकर्षित कराया गया।
इधर रविवार को नगर पुरोहित की अंतिम यात्रा फुटेरा वार्ड स्थित उनके निवास से ट्रैक्टर ट्राली में शव को सजा कर निकाली गई। इस दौरान उनके चारों पुत्र जहां पीपीई किट में चल रहे थे वही उनके सैकड़ों से शव यात्रा में पीछे चलते नजर आए। बाद में फुटेरा रेलवे फाटक के पार एसडीएम तहसीलदार की मौजूदगी में सबको ट्रैक्टर ट्राली से उतरवाकर अस्पताल के शव वाहन एंबुलेंस में रखवाया गया और फिर हटा नाका मुक्तिधाम ले जाकर अंतिम संस्कार कराया गया। इस दौरान अंतिम संस्कार कराने वाले पंडित जी भी बिना दस्ताने के क्रियाएं करते देखे गए।
एक घंटे के अंतराल में कराए दो शवो के अंतिम संस्कार
कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट वाले 2 मरीजों की शनिवार को मृत्यु हो जाने के बाद आज रविवार को 1 घंटे के अंतराल से हटाना का मुक्तिधाम में प्रशासनिक नियम कायदों के अनुसार अंतिम संस्कार की क्रिया संपन्न कराई गई। पहले फुटेरा वार्ड 3 निवासी बुजुर्ग पुरोहित अंत्येष्टि संपन्न हुई इसके बाद बांसा तारखेडा निवासी रहे एक किराना दुकानदार जैन परिवार के सदस्य की अंत्येष्टि प्रशासन द्वारा करवाई गई। इनकी रिपोर्ट में पॉजिटिव आने के बाद बीती रात जिला अस्पताल में मृत्यु हो गई थी।
निजी क्लीनिक बंद होने से बढ़ गई मरीजो की परेशानी
कोरोना संक्रमण काल में प्रशासन द्वारा गांव देहातों से लेकर गली मोहल्लों में संचालित निजी क्लीनिक उनको जहां बंद करा दिया गया है वहीं मेडिकल स्टोर से भी सर्दी खांसी की दवा देने पर रोक लगा दी गई है ऐसे में अब मरीजों को होने वाली परेशानी को लेकर प्रशासन के निर्देशों पर उंगलियां उठाई जाने लगी है।
जब MPW पीएससी का चार्ज ले सकता है, तो रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट दवाई नहीं दे सकता यह स्पेशल नियम समझ से बाहर है, जिले की आम जनता हो रही स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में वंचित जहाँ एक ओर जिले के अधिकांश  स्वास्थ्य केन्द्रों पर MBBS डाक्टर उपलव्ध नहीं है। अधिकांश "पी एस सी" मिनी "पी एस सी" MPW को प्रभारी बना कर काम चलाया जा रहा। वही दूसरी ओर प्राईवेट डाक्टर या झोला छाप डाक्टर या दवा  दुकान के भरोसे स्वास्थ्य सुविधाएं मिलना भी बंद है। जबकि यह मौसम  जनरल सर्दी खांसी बुखार का सीजन होता है। लोगों में सायकोलाजिकल कोरोना का भय बना हुआ है। जो सर्दी से निमोनिया अस्थमा तक बढ रहा पुराने अस्थमा के मरीजों को दवा नहीं मिल पा रही है। जिससे उन्हे जान का खतरा बना हुआ है। जबकि एस पर ड्रग एक्ट फार्मासिस्ट मरीज को साधारण दवाई दे सकता है।
इंजेक्शन नहीं होने पर वरिष्ठ पत्रकार भोपाल रिफर
बीती रात जिला अस्पताल से भोपाल रेफर किए गए वरिष्ठ पत्रकार की निमोनिया रिपोर्ट आई थी। जिसके बाद उन्हें जिला अस्पताल में निमोनिया का इंजेक्शन नहीं होने तथा भोपाल में इलाज कराने की सलाह दी गई। रविवार को भोपाल के चिरायु हॉस्पिटल में उनकी कोविड-19 जांच हेतु सैंपल लिए जाने तथा निमोनिया का इंजेक्शन लग जाने पर हालात में सुधार आने की जानकारी भी सामने आई है।
6 सितंबर को 22 पॉजिटिव केस सामने आए
दमोह जिले में आज 22 केस सामने आए हैं, इसमें मेल 15 तथा फीमेल 07 मरीज हैं। नए मरीजो में बालाजी वार्ड हटा से 01, राय चौराहा हटा से 02, रमाकवि वार्ड हटा से 02, गांधीवार्ड हटा से 01, वार्ड नंबर 10 पटेरा से 01, वार्ड नंबर 13 पथरिया से 01, वार्ड नंबर 9 पथरिया से 02, वार्ड नंबर 7 पथरिया से 01, मिशन हॉस्पिटल नर्सिंग क्वार्टर से 03, एम आई सी एस कंपाउंड से 01, जबलपुर नाका से 01, मेहता बगीचा से 01, पंलदी चौराहा से 01, इंदिरा कॉलोनी सिविल वार्ड नंबर 2 से 3, विजयनगर दमोह से 01 मरीज है।  कोरोना पेशेन्ट की परेशानी की पिक्चर अभी बाकी है..

Post a comment

0 Comments