Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सितंबर के सातवें दिन मिले 36 पाजेटिव मरीज.. दो बुजुर्ग मरीजो की इलाज के दौरान सांसे थमी.. 13 योद्धाओं ने जीती कोरोना की जंग.. अभी 431 सेंपल रिपोर्ट आना शेष.. टोटल कोविड केस 839, ठीक हुए मरीज 587..

सितंबर के सातवें दिन मिले 36 पाजेटिव मरीज.. 
दमोह। सितंबर माह में कोरोनावायरस का संक्रमण पूरे शबाब पर है 7 सितंबर सोमवार को दमोह जिले में तीन दर्जन नए मरीज मिले हैं जिन को मिलाकर जिले में टोटल कोविड 19 केसों की संख्या 839 तक पहुंच गई है। इधर आज तेरह योद्धा कोरोना की जंग जीतकर विभिन्न कोविड केयर सेंटरों से डिस्चार्ज भी हुए हैं। जिससे स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 587 हो गई है। इधर कोरोना से मौत का सिलसिला भी लगातार जारी है।
 दमोह जिले में आज 36 केस सामने आए हैं, इसमें मेल 23 तथा फीमेल 13 मरीज शामिल हैं। नए मरीजों में दमोह से 01, सिविल वार्ड नंबर 4 दमोह से 02, मागंज वार्ड नंबर 1 दमोह से 01, मांगज वार्ड नंबर 5 दमोह से 01, राय चैराहा हटा से 01, सिविल वार्ड नंबर 10 दमोह से 02, बालाजी वार्ड हटा से 01, हिंडोरिया से 01, विवेकानंद कॉलोनी दमोह से 01, पुराना बाजार दमोह से 01, पुराना थाना दमोह से 01, पुराना बाजार नंबर 02 से 03, हिनौता हटा से 02, वार्ड नंबर 5 से 02, नदरई से 01, वार्ड नं. 08 से 02, वार्ड नं. 09 से 01, वार्ड नं. 12 से 01, तेंदूखेडा सरगुवा से 01, बगीया मुहल्ला दमोह से 01, बजरिया वार्ड नं. 06 दमोह से 01, हटा रोड दमोह से 01, महावीर वार्ड से 02, जबलपुर नाका दमोह से 01, सिविल वार्ड नं. 03 दमोह से 01, नया बाजार नं. 02 से 02, सिंधी कैंप से 01 मरीज है।
दो बुजुर्ग मरीजो की इलाज के दौरान सांसे थमी.. 
सितंबर के सातवें दिन कोरोनावायरस से पीड़ित दमोह जिला अस्पताल कैंपस स्थित कोविड-19 सेंटर में इलाज रख 2 मरीजों की सांस थम जाने का मामला सामने आया है। एक मरीज जैन समाज के वयोवृद्ध वरिष्ठ समाजसेवी इनके अंदर वर्ष के थे जिनकी 2 दिन पूर्व पॉजिटिव रिपोर्ट आई थी तथा कल शाम हालत बिगड़ने पर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था आज सुबह उनकी सांस थम गई इधर पथरिया फाटक क्षेत्र मैं सस्ते और अच्छे इलाज के लिए अनुसूचित जाति वर्ग के बीच में लोकप्रिय एक चिकित्सक की भी अस्पताल में कोविड-19 उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। सोमवार दोपहर जिला अस्पताल से एंबुलेंस के जरिए इन दोनों मरीजों के शवों को हटाना का मुक्तिधाम ले जाकर अंतिम संस्कार प्रशासनिक दिशा निर्देश के अनुरूप स्वास्थ्य विभाग एवं नगरपालिका की टीम के द्वारा संपन्न कराया गया।
अब जबकि प्रतिदिन बड़ी संख्या में नए कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं तथा लगभग प्रतिदिन इलाज के दौरान मरीजों की मृत्यु हो रही है। ऐसे में खुद को संक्रमण से बचाने के लिए पहले से अधिक सतर्कता के साथ आवश्यकता पड़ने पर ही बाजार में निकलने जैसी सावधानी को अंगी कार करना आवश्यक हो गया है क्योंकि आने वाला समय घरों में सुरक्षित रह कर खुद को तथा अपनों को सुरक्षित बचाने का है ना कि दूसरों के बीच में जाकर संक्रमित होने और दूसरों को करने का।

Post a comment

0 Comments