Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

पूर्व मुख्यमंत्री की चक्काजाम की चेतावनी से हड़बड़ाए अधिकारियों ने.. शिवराज सिंह चौहान के सामने मंच से कर दी सभी किसानों की धान खरीदी की घोषणा.. 20 जनवरी तक शेष बचे किसानों को दिए जायेंगे टोकन..

20 जनवरी तक किसानों की धान खरीदी की घोषणा
दमोह। पिछले अनेक दिनों से धान खरीदी नहीं होने तथा लगातार धान रिजेक्ट किए जाने जैसे हालात से परेशान हालत से परेशान तेंदूखेड़ा झलोन क्षेत्र के किसानों के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रशासन को खुली चेतावनी और चक्का जाम आंदोलन की धमकी कारगर साबित होती नजर आई। 
तेंदूखेड़ा क्षेत्र के किसानों की धान खरीदी करने में हीला हवाली करने वाले अधिकारियों ने रविवार की रात पूर्व मुख्यमंत्री चौहान की मौजूदगी में खुले मंच से सभी किसानों की धान खरीदी की घोषणा करने के साथ 20 जनवरी को शेष रह जाने वाले किसानों की धान टोकन देकर खरीदने का भरोसा भी दिलाया। जिसके बाद श्री चौहान ने किसानों का धरना प्रदर्शन आंदोलन यह कहते हुए समाप्त करा दिया गया कि यदि इसके बाद भी किसानों की परेशानी दूर नहीं हुई तो वह खुद आकर आंदोलन करेंगे तथा जिला स्तर पर जगह-जगह जाम लगाकर आंदोलन किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि रविवार को जबलपुर में आयोजित  गृह मंत्री अमित शाह की सीएए के समर्थन में आयोजित जनसभा में जा रहे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की गाड़ी को रोककर झलोन क्षेत्र के किसानों ने अपनी धान खरीदी नहीं होने का दुखड़ा सुनाया था जिसके बाद श्री चौहान ने दमोह कलेक्टर को मोबाइल लगाकर शाम 4:00 बजे तक किसानों की धान खरीदी शुरू कराने को कहा था। अन्यथा के हालात में जबलपुर से वापस लौटते समय चक्का जाम आंदोलन की चेतावनी दी गई थी। श्री चौहान की चेतावनी को प्रशासन ने गंभीरता से लेते हुए तुरंत है पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों की टीम जहां तेंदूखेड़ा रवाना कर दी थी वहीं धान खरीदी में लगे नागरिक आपूर्ति निगम और सहकारी बैंक के अधिकारियों को भी तेंदूखेड़ा भेज दिया गया था।
इधर श्री चौहान के जबलपुर से तेंदूखेड़ा आगमन के पूर्व ही बड़ी संख्या में भाजपा नेताओं का जमावड़ा हो गया था। इसी के साथ तारादेही तिराहे पर धरना प्रदर्शन भी चालू हो गया था। जिसमें पूर्व मंत्री दशरथ सिंह, विधायक धर्मेंद्र सिंह लोधी, हटा विधायक पीएल तंतुवाय, सांसद प्रतिनिधि मूरत सिंह मंडल अध्यक्ष गणेश यादव, भाजपा जिला महामंत्री रुपेश सेन सहित अनेक नेता किसानों की समस्याओं को खुले मन से उजागर करते प्रदेश सरकार को कोसते रहे थे। शाम 7:00 बजे जैसे ही पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान धरना स्थल पर पहुंचे तो किसानों की समस्या को लेकर उन्होंने माइक संभालते ही प्रदेश सरकार की नीतियों को कोसना शुरू कर दिया। 
इसी दौरान प्रशासन की ओर से जिला सहकारी बैंक के खरीदी से जुड़े फील्ड अधिकारी ब्रजेन्द्र शर्मा और एसडीएम गगन विशेन ने मंच पर पहुंचकर सभी किसानों की धान खरीदी किए जाने की घोषणा करते हुए स्पष्ट कर दिया कि 20 जनवरी के बाद जिन किसानों की धान रह जाएगी उनकी धान को टोकन देकर खरीद लिया जाएगा। इसके बाद ही किसानों के समर्थन में भाजपा का धरना आंदोलन समाप्त हुआ और श्री चौहान सागर की ओर रवाना हुए।
 जाते-जाते चौहान चेतावनी देने से नहीं चूके यदि किसानों की पूरी धान नहीं खरीदी गई तो 20 तारीख के बाद वह पुनः दमोह जाकर जिला स्तर पर आंदोलन का शंखनाद करते हुए जगह-जगह जाम लगवाने से नहीं चूकेंगे। किसानों के इस बड़े आंदोलन के समाप्त हो जाने से प्रशासन ने जहां राहत की सांस ली है वही उसके सामने अब सबसे बड़ी चुनौती अमानक धान की खरीदी करना होगा। तेंदूखेड़ा से विशाल रजक की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments