Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

नौकरी का झांसा देकर मेघालय की युवती को सागर में देह व्यापार के दलदल में धकेलने का भंडाफोड़.. समय रहते पुलिस की सजगता से युवती की आबरू बची..

सागर पुलिस ने मेघालय की युवती को मुक्त कराया-
सागर। उत्तर पूर्व के राज्य मेघालय की राजधानी शिलांग की निवासी एक युवती को नौकरी का झांसा देकर सागर लाए जाने तथा उसे देह व्यापार के दलदल में ढकेले जाने के घिनौने कारोबार का पुलिस ने खुलासा किया है। समय रहते पुलिस को सूचना मिल जाने से युवती की आबरू लूटने से बच गई तथा उसे इस वेश्यावृत्ति के धंधे में  ले जाने की कोशिश करने वाली एक महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है।
सागर एसपी अमित सांघी को मेघालय पुलिस से सूचना प्राप्त हुई थी कि शिलांग निवासी एक युवती को होटल सबलोक में छोड़कर कोई महिला चली गई है। जिस पर कोतवाली टीआई राजेश बंजारे उप निरीक्षक सुरभि बिल्थरे और महिला आरक्षक प्रियंका में सागर के कटरा बाजार स्थित होटल सबलोक पहुंचकर रूम नंबर 107 से मेघालय की युवती को मुक्त कराया तथा उसे कोतवाली लाकर आपबीती सुनी। 

युवती ने बताया कि जूलियाना नाम की महिला उसे नौकरी दिलाने दिल्ली ले गई थी। जहां से शिल्पी नाम की महिला उसे सागर ले आई। उसे जब एहसास हुआ कि उसे नौकरी के बजाय वेश्यावृत्ति के दलदल में धकेला जा रहा है तो उसने अपनी मां को शिलांग सूचना दे दी तथा उसकी मां ने स्थानी पुलिस की मदद से सागर पुलिस को सूचना भेजकर उसे बचा लिया।

सागर एडिशनल एसपी राजेश व्यास ने बताया कि उक्त युवती द्वारा शिल्पी नाम की महिला की फोटो दिखाए जाने पर उसकी पतासाजी करने पर वह मकरोनिया निवासी निकली। जहां उसका अड्डा संचालित होने की जानकारी भी सामने आई है। मकरोनिया टी आई उपमा सिंह ने सपना को भी हिरासत में ले लिया। इधर मेघालय पुलिस को सूचना दिए जाने पर आज वह सागर पहुंची। तथा अपने साथ आरोपी महिला तथा पीड़िता को शिलांग ले गई है। 
 इस मामले में सागर पुलिस ने सजगता से काम नहीं लिया होता तो मेघालय प्रांत की युवती की आबरू सागर में लूटने का दाग लगते देर नहीं लगती। वहीं इस पूरे मामले से यह बात भी साफ हो गई है कि मकरोनिया सहित सागर के प्रमुख हिस्से देह व्यापार के अड्डे बने हुए हैं। तथा शिल्पी सपना जैसी महिलाएं नौकरी का लालच देकर बाहरी युवतियों को इस दलदल में फसा रही हैं।

Post a comment

0 Comments