Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

राम के बिना लखन की सभा फीकी.. सीएम ने कांग्रेस को कोसा, सांसद विधायक मोबाइल मे बिजी रहे..

CM शिवराज सिंह की सभा रही पहले से फीकी–
दमोह जिले के पथरिया विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की सभा पर भाजपा की पुरानी जोड़ी राम लखन के टूटने का असर साफ तौर पर नजर आया। राम यानी बाबा रामकृष्ण कुसमरिया की बगावत के बाद पथरिया के रण में अकेले पड़ गए भैया लखन की मदद के लिए देवउठनी ग्यारस के दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं पहुंच गए।

पथरिया के एक्सीलेंस स्कूल मैदान पर आयोजित मुख्य मंत्री की सभा में करीब 2000 लोगों की भीड़ को ध्यान में रखकर टेंट हाउस संचालक को 1600 कुर्सियों का आर्डर दिया गया था। निर्धारित समय पर सीएम शिवराज सिंह चौहान सांसद प्रहलाद पटेल के साथ जब हेलीपैड पर उतरे तो उनके स्वागत करने वालों की कतार में एक निगरानी शुदा सज्जन को देख कर लोग हैरत में पड़ गए।  मामला मुख्यमंत्री से जुड़ा था इसलिए मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारी भी कुछ कह नहीं सके। हालांकि पुलिस वाला अधिकारी इन सज्जन की माला और हरकतों पर बराबरी से नजर बनाए रखें नजर आए इधर हेलीपैड पर स्वागत के बाद मुख्यमंत्री का सभा स्थल पर मंच आसीन लोगों द्वारा भी स्वागत वंदन किया गया।


सभा मंच पर पहुंचे मुख्यमंत्री को जब चुनाव के दृष्टिगत अपेक्षित कम भीड़ का अंदाजा हुआ तो वह राम लखन की जोड़ी को याद करने से नहीं चूके। तथा लखन पटेल को जिताने का संकल्प दिलाते हुए देवउठनी ग्यारस के दिन देवताओं के उठने और कांग्रेसियों के सो जाने का आवाहन करते हुए भी नजर आए। मुख्यमंत्री ने चिर परिचित अंदाज में शासन की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का बखान भी किया।

मुख्यमंत्री की  सभा के दौरान आज उनकी वाणी में शब्दों के सुर ताल के साथ जोश का वह चिर परिचित अंदाज  नजर नही आया। हो सकता हैैैै लगातार चुनावी भाग दौड़ और आम सभाओ की थकान की वजह से गला बैठ जाने से यह स्थिति निर्मित हुई हो। इधर मुख्यमंत्री के भाषण को जब जनता जनार्दन ध्यान से सुन रही थी उस दौरान मंच पर बैठे सांसद, विधायक और पूर्व विधायक आदि मोबाइल की दुनियस में खोए नजर आ रहे थे।

वीडियो में आप साफ़ तौर पर देख सकते हैं किस तरह सांसद श्री प्रहलाद पटेल अपने मोबाइल में ना जाने क्या संदेशा तलाश रहे हैं। इधर पूर्व विधायिका सोना बाई की नजर शायद फिर से विधायक बनने की विधि गूगल में तलाश रही थी। इन के साथ बैठी विधायिका उमा देवी खटीक भी अपने मोबाइल में शायद पूर्व विधायकों को प्राप्त होने वाली सुविधाओं को सर्च कर रही है। 

जोशीले अंदाज में समाप्त हुई मुख्यमंत्री की सभा के बाद मंच खाली होते ही सभा स्थल पर लगी प्रचार सामग्री बैनर पोस्टर आदि को लूटने की लोगों में होड़ सी लग गई। इस दौरान महिलाएं और बच्चे भी पोस्टर ओं को खींचतान करके निकालकर अपने साथ ले जाते नजर आए। वहीं ड्यूटी रत महिला पुलिसकर्मी मायूसी के साथ चुपचाप सारा नजारा देखने को मजबूर नजर आई।


कुल मिलाकर पूर्व मैं जितनी भी बार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पथरिया आए हैं उस दौरान उन्हें बाबा राम कृष्ण कि विधायक लखन पटेल के साथ मंच पर मौजूद गी बराबरी से मिलती रही है। अब बाबाजी के बागी हो जाने के बाद चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री जरूर इस कमी को महसूस करते हुए यहां से रवाना हुए। और शायद देव उठनी ग्यारस पर जागने वाले  देवताओं से भी यह प्रार्थना करते रहे होंगे कि हे प्रभु बाबा कुसमरिया को वापस लौटा दोअटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments