Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

भाजपा प्रत्याशी नहीं जुटा पाए भीड़.. उमा भारती की सभा में खाली रही कुर्सियां.. बाबा से गुस्सा थूकने की अपील, ऋषि पर चुप्पी..

तेजगढ़ हर्रई में उमा जी की सभा में नहीं जुटी भीड़-
दमोह जिले के जबेरा विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत हर्रई से तेजगढ़ में सोमवार को आयोजित केंद्रीय मंत्री उमा भारती की आम सभा में उम्मीद के मुताबिक  अपेक्षित भीड़ नहीं जुट सकी। जिससे सैकड़ों कुर्सियां खाली पड़ी रही  अनेक कुर्सियों को तिरछा  कर दिया गया। जिससे यह मंच से नजर नहीं आए।

पूर्व मुख्यमंत्री उमाश्री भारती जबेरा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी धर्मेंद्र सिंह लोधी के पक्ष में तेजगढ़ के हर्रई में हेलीकॉप्टर से जनसभा को संबोधित करने पहुंची थी। इस मौके पर पार्टी के बड़े नेताओं की मंच पर भीड़ लगी रही। परंतु क्षेत्र की जनता जनार्दन सामने लगे पांडाल में सिमट कर रह गई। इस दौरान पंडाल के बाहर ठंड को ध्यान में रखकर धूप में लगाई गई सैकड़ों कुर्सियां खाली पड़ी रही। 

केंद्रीय मंत्री की सभा में अपेक्षित भीड़ नहीं जुट पाने का असर उनकी भाषण शैली पर भी पर पड़ता नजर आया। उमा जी ने सभा को संबोधित करते हुए लोगों को भाजपा और शिवराज सरकार की उपलब्धियां गिनाई। कांग्रेस को विपक्ष की भी ठीक से भूमिका नहीं निभा पाने का ताना देते हुए कहा कि कांग्रेसियों ने अभी विपक्ष में बैठना नही सीखा। अतः इनको अभी विपक्ष में ही बैठने दिया जाए। 

इस मौके पर उन्होंने जनसंघ के दिनों के संघर्ष से लेकर आपातकाल की चर्चाओं को भी ताजा किया।  मंच पर आसीन वरिष्ठ नेताओं को नाम ले लेकर बुलाकर उनको गदगद कर दिया। भाजपा प्रत्याशी धर्मेंद्र सिंह को जन शक्ति पार्टी के समय भी साथ देने की बात करकेे उन्हें अपना नजदीकी बताने से उमाजी नहीं चूकी। तथा धर्मेंद्र को जिताने की अपील करते हुए करीब 20 मिनट के भाषण के बाद उन्होंने अपनी वाणी को विराम दिया।
इस मौके पर मंचा सीन वरिष्ठ नेताओं में पूर्व सांसद चंद्रभान सिंह पूर्व विधायक व पूर्व मंत्री दशरथ सिंह जबेरा से वरिष्ठ नेता रूपेश सेन, भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष बिहारी लाल गौतम, नगर पालिका की अध्यक्ष मालती असाटी और भावसिंंह साहब की खास मौजूदगी रही। वहीं पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति से मंच खचाखच भरा रहा। लेकिन मंच के सामने पांडाल में उमा जी के नाम के अनुरूप जुड़ने वाली भीड़ का एक हिस्सा भी नजर नहीं आया।
 उमा जी ने बाबा जी  के लिए कहा गुस्सा थूक दो-

आम सभा के बाद जल्दी में नजर आ रही उमाश्री भारती ने पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया की पार्टी से बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ने के मामले में मीडिया के जरिए मार्मिक अपील करते हुए कहा कि बाबाजी वापस लौट आओ गुस्सा थूक दो। हम लोग आप के निर्देशन में काम करना चाहते हैं। इधर भाजपा से बगावत कर के जबेरा से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी के मामले में सवाल के पहले ही सुश्री भारती आगे बढ़ गई।
ऋषि के समर्थन में यहीं पर जुड़े थे हजारों लोग-

हर्रई तेजगढ़ में उमा जी ने देवउठनी ग्यारस के दिन जिस स्थान पर छोटी सी जनसभा को संबोधित किया है यह वही स्थान है यहां पर ठीक 11 दिन पूर्व दिवाली के दिन सारे काम छोड़कर क्षेत्र के हजारों लोग भाजपा के प्रदेश मंत्री राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी के पक्ष में एकत्रित हुए थे। तथा भाजपा द्वारा टिकट नहीं देने पर ऋषि को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने के लिए प्रेरित किया था। बाद में जन भावनाओं के अनुरूप ऋषि ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में ताल ठोक दी थी।
चतुर्थ कोणीय मुकाबले की बड़ रही जबेरा की जंग-
जबेरा क्षेत्र के विधानसभा चुनाव के परिदृश्य पर यदि नजर डालें तो भाजपा तथा कांग्रेस को अपने बागी प्रत्याशियों का खुलकर सामना करना पड़ रहा है। भाजपा प्रत्याशी धर्मेंद्र लोधी की राह में निर्दलीय राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी की बजह से मुश्किल नजर आने लगी है । वहीं कांग्रेस प्रत्याशी विधायक प्रताप सिंह के लिए पूर्व मंत्री सालोमन के बेटे आदित्य भी निर्दलीय तौर पर कड़ी चुनौती देते नजर आ रहे हैं।
ऐसे में जबेरा की जंग आमने सामने के बजाय चार कोनों में विभक्त हो गई है। जो भी अपने कोने को सुरक्षित बचा कर बसपा, गोंडवाना पार्टी और भारतीय शक्ति चेतना पार्टी के समर्थकों से उनके प्रभाव वाले क्षेत्र में अंदरूनी तालमेल करके बड़त बना लेगा.. उसकी बढ़त को विजय में तबदील होने से कोई नही रोक सकेगा। लेकिन इसके साथ प्रमुख प्रत्याशियों को चंचला लक्ष्मी का मोह त्यागने भी ध्यान देना होगा। अन्यथा बना बनाया खेल रातों-रात बिगड़ने में भी देर नहीं लगेगी। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments