Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

पर्यूषण पर्व की खुशियां मातम में बदली.. रात के अंधेरे में बिना बाउंड्री के छत से गिरे सगरा सरपंच के पुत्र सजल जैन की सांसे थमी.. किसी ने सोचा नहीं था शाम तक उत्तम क्षमा बोलने वाला रात में दुनिया से विदा हो जाएगा..

 रात के अंधेरे में बिना बाउंड्री के छत से गिरने से मौत

दमोह।  जिले के नोहटा थाना अंतर्गत सगरा ग्राम में पर्यूषण पर्व समापन पश्चात दुखद घटना घटनाक्रम सामने आया है यहां के सरपंच दिनेश जैन का बड़ा बेटा देर रात बेचैनी होने पर टहलने के लिए छत पर गया था इसी दौरान अंधेरे में टहलते हुए बिना बाउंड्री की छत से वह नीचे गिर गया तथा उसके प्राण पखेरू उड़ गए। सुबह घटनाक्रम की जानकारी आसपास के गांव वालों को लगने पर पूरे क्षेत्र में गमगीन माहौल बना हुआ है।


प्राप्त जानकारी के अनुसार नोहटा थाना के ग्राम पंचायत सगरा के सरपंच जिनेश जैन का बड़ा बेटा सजल जैन 27 वर्ष शनिवार को दिनभर पर्यूषण पर्व समापन कार्यक्रमों में सक्रिय बना रहा था। वही रात्रि में अपने घर में सोते समय करीब 3 बजे घबराहट के साथ बेचैनी होने पर उसकी नींद खुल गई तथा वह अपनी मां को बेचैनी होने की बात बता कर छत पर टहलने के लिए चला गया। इसी दौरान अंधेरे में वह छत के बिना बाउंड्री वाले हिस्से के पास पहुंच गया और वहां से नीचे गिर गया। जिससे उसकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। 

इस दुखद दर्दनाक घटनाक्रम की जानकारी लगने पर परिजन सजल को लेकर जिला दमोह अस्पताल पहुचे गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। इधर जानकारी लगने पर नोह्नटा थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच कार्रवाई करते हुए मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। वही पोस्ट मार्टम उपरांत शव परिजनों के सुपुर्द किए जाने पर गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया।

 उल्लेखनीय है की पर्वराज पर्यूषण के समापन आयोजन में सजल ने बढ़ चढ़कर भाग लिया था। शाम तक वह अपने मिले-जुल वालों से उत्तम क्षमा बोल कर पर्यूषण पर्व की शुभकामनाएं देता नजर आया था उस दौरान किसी को यह सपने में भी उम्मीद नहीं थी शाम तक उत्तम क्षमा बोलने वाला रात में दुनिया से विदा हो जाएगा। इस घटनाक्रम से बाद परिजनों के साथ सकल जैन समाज में गमगीन माहौल बना हुआ है वही सभी को इस घटनाक्रम में स्थापित करके रख दिया है। परमपिता परमेश्वर मृत आत्मा को अपने चरणों में स्थान दे और परिजनों को क्या गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। ओम शांति शांति शांति.. अभिषेक खरे की रिपोर्ट

Post a Comment

0 Comments