Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

जबलपुर में एसेसिरिज मोबाईल व्यवसायी से लाखों की लूट.. पुलिस ने चंद घण्टो में पांच बदमाशो को पकड़ 20 लाख से अधिक बरामद किए..कर्ज एवं नशे के चक्कर मे बन गए लुटेरे..

 कर्ज एवं नशे के चक्कर मे बन गए लुटेरे..

जबलपुर में कर्ज और नशे के शिकार करीब आधा दर्जन युवकों द्वारा प्लानिंग करके एक बड़े मोबाइल व्यवसाई से लाखों की लूट की वारदात को दिनदहाड़े अंजाम दिए जाने से जहां सनसनी का माहौल बना रहा वहीं पुलिस ने भी तत्परता दिखाते हुए चंद घंटों में वारदात के आरोपियों को गिरफ्तार करके पर्दाफाश कर दिया है..

जबलपुर। अमखेरा रोड पर 10 जून को लूट होने की  सूचना पर थाना प्रभारी गोहलपुर श्री विजय तिवारी हमराह स्टाफ को लेकर पहुंचे जहॉ राजकुमार तिवारी उम्र 39 वर्ष निवासी काली मंदिर के पास मदनमहल ने बताया कि वह मोबाईल एसेसीरिज का धंधा करता है, मोबाईल एसेसिरिज का सामान लेने दिल्ली जाता है, एवं दिल्ली से सामान   जबलपुर लाकर  मोबाईल दुकानो में आर्डर के अनुसार डिस्ट्रीब्यूट करता है। 

10 जून को दोपहर 3-30 बजे जयंती काम्पलैक्स स्थित मोबाईल दुकानदारों से लगभग 20-22 लाख रूपये मोबाईल एसेसरीज खरीदने दिल्ली जाने हेतु लेकर इकट्ठा कर एक काले रंग के बैग में रख लिया, कुल कितने रूपये थे डायरी देखकर हिसाब लगाकर बता पाऊंगा, रिप्लेसमेंट के 12 डिब्बे भी उसी बैग में रखे थे। बैग को उसने अपनी पैशन मोटर सायकिल एमपी 20 एमडी 3578 मे सामने हैण्डल पर रखकर मोटर सायकिल चलाकर गोहलपुर होते हुये अमखरा रोड पर अपनी मुंह बोली बहन के घर जा रहा था।  शाम लगभग 3-45 बजे जैसे ही अमखेरा रोेड पर कन्हैया डेरी के पास  भरत यादव के घर के सामने रोड पर पहुंचा तभी एक ब्लू कलर की बिना नम्बर की एक्सिस  जिसमे 2 लडके सवार थे आये एवं उसके दाहिने तरफ वाहन सटाकर मोटर सायकिल के हैण्डिल पर रखा हुआ रूपयों एवं सामान से भरा हुआ काले रंग का बैग खींचते हुये छीनकर  खजरी बाईपास रोड तरफ भाग गये। उसने दोनेा का पीछा किया लेकिन पकड नहीं पाया। एक्सिस सवार दोनों युवकों की उम्र 20 से 22 वर्ष होगी।

खुलासे

 घटना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराने के बाद एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देशन पर पुलिस कन्ट्रोल रूम ने शहर एवं देहात मे नाकेबंदी कराते हुए रेल्वे स्टेशन बस स्टैण्ड को चैक करने हेतु सम्बंधित थाना प्रभारियों को बताया गया। साथ ही सरहदी जिले कटनी, दमोह, नरसिंहपुर, सिवनी, मण्डला, उमरिया, डिण्डोरी के कन्ट्रोलरूम को घटित हुई घटना की जानकारी देते हुये नाकेबंदी कराने हेतु सूचित किया गया।

इधर सूचना पर सीएसपी गोहलपुर अखिलेश गौर एवं एएसपी (शहर) गोपाल खाण्डेल, (शहर दक्षिण/अपराध)  संजय अग्रवाल तथा एसपी  सिद्धार्थ बहुगुणा स्वयं भी मौके पर पहुंचे। एसपी ने घटना के सम्बंध में राजकुमार तिवारी से विस्तृत चर्चा करते हुये लुटेरों के सम्बंध मे पतासाजी करने हेतु सीसीटीव्ही कैमरे के माध्यम से सर्च करने हेतु आदेशित किया। गया। थाना प्रभारियों कें नेतृत्व में क्राईम ब्राचं एवं थाना स्टाफ की विशेष टीमें गठित कर एक्सिस सवार लुटेरों की पतासाजी हेतु लगायी गयी।

उपरोक्त घटित हुई सनसनीखेज घटना को जबलपुर पुलिस ने चुनौती के रूप में लिया। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जबलपुर जोन जबलपुर श्री उमेश जोगा (भा.पु.से.) एवं उप पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर रेंज जबलपुर श्री आर.आर. सिंह परिहार (भा.पु.से.) के मार्गदर्शन तथा पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से. के नेतृत्व में गठित विशेष टीम सी.सी.टी.व्ही. एवं रूट मैपिंग टीम, सायबर टीम, के द्वारा अपनी-अपनी भूमिका निभाते हुये   सीसीटीव्ही के फुटैज के आधार पर संदिग्धों का हुलिया देखकर संदिग्ध आरोपियों की पहचान हेतु मुखबिरों को बताया गया। जिससे पता चला कि गाडी चलाने वाला आरोपी कमलेश उर्फ कम्मू झारिया हैं जो थाना गोहलपुर क्षेत्र का आदतन अपराधी है। 

                                नोट

 सूचना पर तत्काल कार्यवाही करते हुये थाना गोहलपुर की एक टीम कमलेश उर्फ कम्मू के घर भेजी गयी जैसे ही पुलिस टीम कमलेश के घर के पास पहुंची तो कमलेश अपने साथी अंशु उर्फ अशुंल के साथ गाडी से तेज गति से भागने लगा, जिसका पीछा गोहलपुर पुलिस की टीम करने लगी टीम के द्वारा लगभग 30 कि.मी के आसपास आरोपियों का पीछा किया गया , पुलिस को पीछा करता देख पनागर में दोनों आरोपी छिप गये। चारों तरफ खमरिया, रांझी, गोसलपुर भागने के रास्तों पर पुलिस पार्टियॉ लगी हुई थी, आरोपी आगे कहीं रास्ते में नजर नहीं आये, पनागर में  कई थाना प्रभारी अपनी टीमों के साथ पहुंचे तथा घेराबंदी एवं नाकाबंदी करते हुये दोनों  आरोपियों को धर दबोच लिया गया।

  पूछताछ पर दोनो आरोपी कमलेश एवं अंशु ने अपने अन्य साथी शिवम चौरसिया उर्फ मोदी, सुमित बेन एवं गौरव चौरसिया के साथ मिलकर लूट की घटना करित करना स्वीकार किया। पतासाजी करते हुये शिवम चौरसिया एवं सुमित बेन को नरसिंहपुर पुलिस की सहायता से गाडरवारा मे पकड़ा गया।

आरोपियों ने सिलसिलेवार घटनाक्रम बताया कि गौरव चौरसिया जयंती कॉम्पलैक्स स्थित मोबाईल दुकान में कामा करता है जिसे मालूम था कि राजकुमार तिवारी व्यापरियों से पैसा कलेक्ट कर मोबाईल एसेसिरिज खरीदने दिल्ली जाता है। गोैरव चौरसिया ने यह बात अपने साथी शिवम चौरसिया जो कि रिश्ते का भाई लगता है को बतायी, शिवम चौरसिया क्योंकि कर्ज मे डूबा था जिसे पैसों की जरूरत थी, शिवम चौरसिया ने अपने साथी सुमित बेन एवं  कमलेश को बतायी तथा योजना के अनुसार जयंती काम्पलैक्स में रैकी करते हुये राजकुमार तिवारी जब जयंती काम्पलैक्स स्थित दुकानदारों से रूपये कलेक्ट कर बैग में रखकर निकला तो गौरव जो कि जयंती काम्पलैक्स में था ने राज कुमार के पैसा लेकर निकलने की जानकारी अपने साथियों को दी, तो एक एक्सिस पर कमलेश एवं अंशु तथा दूसरे एक्सिस पर शिवम एवं सुमित मोटर सायकिल से जा रहे राजकुमार तिवारी का पीछा करने लगे, कमलेश एवं अंशु राजकुमार के ठीक पीछे चल रहे थे, मौका मिलते ही अमखेरा रोड में कन्हैया डेरी के पास हैण्डिल में टंगा बैग छीनकर कमलेश एवं अंशु भागते हुये खजरी खिरिया होते हुये बेलखाडू पहुंचे जहॉ शिवम एवं सुमित भी पीछे पीछे पहुंच गये, बेलखाडू से चारों मझोली क्षेत्र के जंगल में पहुंचे जहॉ चारों ने आपस मे छीने हुये रूपये बांट लिये थे।

                  पूछताछ करते हुये आरोपियों की निशादेही पर पकड़े गये लुटेरों से छीने हुये 20 लाख रूपये एवं घटना में प्रयुक्त एक बिना नम्बर की एक्सिस स्कूटी,  एवं एक एक्सिस क्रमंाक एमपी 20 एसएस 9423 तथा  4 मोबाईल एवं 1 काला बैग जप्त किये गये।  चारों आरोपियों को प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश कर पूछताछ हेतु चारों को 3 दिन के पुलिस रिमाण्ड में लिया गया है।

एक अन्य आरोपी गौरव चौरसिया जो फरार था जिसे भी सरगर्मी से तलाश करते हुये आज शाम को विजय नगर क्षेत्र से पकडा गया है जिसने पूछताछ पर लगभग 3 लाख रूपये   छिपाकर रखना बताया है जिसकी बरामदगी हेतु टीम रवाना है।

लूट की घटना कारित करने का उदेश्य-

1.- कमलेश उर्फ कम्मू एवं अंशु उर्फ अशुंल चौधरी आदतन अपराधी हैं जो कम समय में  अधिक पैसा कमाने की महत्वकांक्षा रखते हैं। दोनों के विरूद्ध अगल-अलग थानों में हत्या का प्रयास, मारपीट एवं एनडीपीएस एक्ट के जैसे गंभीर अपराध दर्ज हैं ।  

2.- आरोपी शिवम चौरसिया उर्फ मोदी की तुलाराम चौक पर हार्डवेयर एवं सुमित बेन  की मदनमहल में चिकिन बिरियानी सैंटर की दुकान है, दोनों अत्याधिक कर्ज में डूबे हुये हैं, अपना कर्जा चुकाने के लिये  लूट की है।

 *उल्लेखनीय भूमिका* -  लुटेरों केा घेराबंदी कर चंद घंटो में पकड़ने  पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा    (भा.पु.से.) के नेतृत्व में जबलपुर जिले मे पदस्थ समस्त राजपत्रित अधिकारियों एवं थाना प्रभारियों तथा थानों में पदस्थ अधिकारी/कर्मचारियों एवं क्राईम ब्रांच, सायबर सेल, की सराहनीय भूमिका रही।  

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री उमेश जोगा (भा.पु.से.) पुलिस महानिरीक्षक जबलपुर जोन, जबलपुर ने टीम को 25 हजार रूपये के नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने की घोषणा की है।

 

 

Post a Comment

0 Comments