Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

मुख्यमंत्री की फटकार और आईजी की क्लास के बाद दमोह पुलिस एक्शन मोड में.. एसपी ने किया कुछ वारदातों का खुलासा.. निखार हॉस्पिटल, दमयंती पुरम, बांदकपुर नाले मे शव मिलने की गुत्थी उलझी.. सोना मामले में पुलिस की चांदी इधर पुराने टीआई की फिर कोतवाली पर नजर..

 नाबालिग से गैंगरेप कर सुसाइड को मजबूर करने वाले आरोपी महीने भर बाद पकड़े गए

दमोह। सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश में अपराधों की समीक्षा के दौरान दमोह तथा नीमच एसपी को अपराधों पर अंकुश लगाने सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए थे मंगलवार को सागर आईजी ने भी दमोह पहुंचकर अधिकारियों की क्लास लेते हुए ऐसे ही कुछ निर्देश दिए थे उसके बाद आज बुधवार को एसपी डीआर तैनीवार ने कुछ मामलों का खुलासा करते हुए मीडिया को जानकारी दी। इस दौरान एडिशनल एसपी शिव कुमार सिंह और सीएसपी अभिषेक तिवारी, टीआई सतेंद्र सिंह भी मौजूद रहे।

 तेजगढ थाना अन्तर्गत 23 अगस्त 21 को एक 17 साल की किशोरी के साथ गांव के ही कमल यादव और नरेन्द्र लोधी ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। जिससे क्षुब्ध होकर पीड़िता ने जहरीले पदार्थ का सेवन करके खुदकुशी कर ली थी। मामले में आरोपियों के खिलाफ थाना तेजगढ में अपराध क्रं. 323/21 धारा 305,376(डी),506,34 ताहि.5/6 पाक्सो एक्ट का प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया गया था। वारदात के महीने भर बाद तेजगढ़ थाना प्रभारी ब्रजेश पाण्डेय व इमलिया चौकी प्रभारी इमलिया रामदास राय ने 22 सितंबर को फरार आरोपी कमल यादव एवं नरेन्द्र लोधी दोनो निवासी डोहरी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया। जहा से उनको जेल भेज दिया गया है।
पटेरा पुलिस ने पास्को एक्ट व रैप के आरोपी को रायसेन से पकड़ा.. इसी तरह पास्को एक्ट व रैप के एक मामले में फरार चल रहे कोटा ग्राम निवासी रशिद मुसलमान को पटेरा थाना पुलिस ने रायसेन जिले से गिरफ्तार किया है। पटेरा थाने में अपराध क्रमाक 281/21 धारा 376, (2)n, 506 ताहि.5/6 पाक्सो एक्ट. 3(2)5 SCST एक्ट पंजीबद्ध था। जिसके फरार आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु एसडीओपी हटा वीरेन्द्र बहादुर के निर्देशन में गठित टीम के सदस्य थाना प्रभारी पटेरा भल्ला प्रसाद दुबे दवारा रायसेन से आरोपी रसीद को गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया गया जहा से उसे जेल भेज दिया गया।
डकैती की योजना बनाते 7 बदमाशों को पकड़ा
दमोह कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत पुराने लोको में डकैती की योजना बनाते हुए 7 बदमाशों को सीएसपी अभिषेक तिवारी और कोतवाली टीआई सतेंद्र सिंह द्वारा पुलिस टीम के साथ गिरफ्तार किया गया है। उनके पास से देसी कट्टा लाठी तलवार बल्लम आदि हथियार भी बरामद किए गए हैं इधर साइबर सेल की मदद से 13 लोगों के गुम मोबाइल तलाश करके आज वापस किए गए।
कोतवाली पुलिस की सोना मामले में हुई चांदी..!
पिछले दिनों कोतवाली पुलिस द्वारा एक सर्राफा व्यापारी को सुबह पुराना थाना क्षेत्र से सोने के जेवरात के साथ पकड़े जाने के बाद शाम को सतना से आई टेक्स टीम द्वारा करीब आधा किलो सोने पर जीएसटी चोरी का जुर्माना लेकर मामले को क्लोज कर दिया गया था। लेकिन इस मामले में कोतवाली पुलिस की जमकर चांदी होने की चर्चाएं पूरे सराफा क्षेत्र में व्याप्त है। जानकारों का कहना है कि पकड़े गए व्यापारी के पास 4 किलो से अधिक सोने के जेवरात थे लेकिन सेटलमेंट के चलते मामला निपटा दिया गया।
पुराने टी आई की लगी है फिर कोतवाली पर नजर
दमोह कोतवाली में लंबे समय तक रहे टीआई हरिराम पांडे की नजरें एक बार फिर दमोह वापसी पर लगी हुई है। कुछ महीने पहले ही उनको पथरिया भेजा गया था जहां से उन्होंने हटा थाने की जुगाड़ जमा ली थी। सूत्रों का कहना है कि हटा का माहौल भी उनकों रास नहीं आ रहा है। जिसके बाद उनको वापस दमोह में सेटल करने के चक्कर में कुछ नेता और खबरची खबरों को ट्वीट करके तथा एसपी के दरबार में सिफारिशों के जरिए जोर लगाए हुए हैं।
समाजसेवी का जुआ फड़ और क्रिकेट सट्टे के फिर शुरु होने का इंतजार..
कोतवाली प्रभारी सत्येंद्र सिंह के कार्यकाल में भले ही जुआ सट्टा का छिटपुट कारोवार चल रहा हो लेकिन तथाकथित समाजसेवी का जुआ फड़ और क्रिकेट के सट्टे पर अंकुश लगने की खबर ने उन लोगों को बेचैन कर रखा है जो आईपीएल के दौरान रोज लाखों कमाते थे। वही दीपावली की नजदीकी के चलते समाज सेवी के फ़ड़ से मिलने वाले हफ्ते की याद ने उन दलालों को भी बेचैन कर रखा है जिनकी पुराने टीआई के कार्यकाल में जमकर चांदी रहती थी।
 निखार हॉस्पिटल के ऊपर फांसी पर टँगे मिले शव की गुत्थी कब सुलझेगी..?
31 अगस्त को दमोह के गार्डलाइन क्षेत्र में संचालित डॉक्टर निखार मेमोरियल हॉस्पिटल के ऊपरी हिस्से में वाहन चालक का फांसी पर झूलता महीना पुराना शव मिला था। लेकिन 22 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस ने इस मामले में किसी प्रकार का कोई खुलासा नहीं किया है।

 जबकि मृतक की पत्नी द्वारा प्रेम त्रिकोण को लेकर जहां खुलासे किए गए थे वही फांसी पर लटके शव के पैर जमीन में टिके होने, अस्पताल प्रबंधक और संचालिका के बयानों में अंतर होने, प्रथम दृष्टया मामला हत्या कर शव लटकाए जैसा नजर आने के बाद भी सीएसपी अभिषेक तिवारी से लेकर पुलिस के अधिकारी मामले में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।
दमयंती पुरम में मिले शव की नहीं हो पाई शिनाख्त..

देहात थाना अंतर्गत मारुताल बाईपास के आगे बने दमयंती पुरम के एक आवास में 11 सितंबर को महीनों पुराना शव मिलने से सनसनी के हालात निर्मित हो गए थे। इस दौरान मौके पर पहुंचे सीएसपी अभिषेक तिवारी ने मामले के जल्द खुलासे की उम्मीद की थी। लेकिन करीब 11 दिन बाद भी मृतक की शिनाख्त नहीं हो सकी है। ऐसे में उसकी किन हालातों में मौत हुई, उसने खुदकुशी की या हत्या हुई थी इसका भी अभी तक पर्दाफास नहीं हो सका है।  
बांदकपुर नाले में मिली नाबालिक की मौत की गुत्थी भी नही सुलझी..
गणेश विसर्जन के दिन 19 सितंबर की सुबह बांदकपुर से 1 किलोमीटर आगे एक नाबालिग छात्रा का नाले में शव मिलने से सनसनी के हालात निर्मित हो गए थे। प्रथम दृष्टया मामला हत्या कर शव को नाले में फेंके जाने का नजर आने पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज करके जांच शुरू की थी। लेकिन इस मामले में भी अभी तक गुत्थी सुलझती नजर नहीं आ रही है। जिसकी एक बजह मृतकों के परिजनों द्वारा भी ज्यादा जानकारी नहीं देना बताया जा रहा है.. पिक्चर अभी बाकी है

Post a Comment

1 Comments

  1. दमोह पुलिस चोरों की वारदातों को भी सुलझाने में नाकाम साबित हो रही लगातार तीन चोरियां होने और तीनों की एफ आई आर होने के बाद भी नतीजा शून्य,,तो चोरों से मिली भगत समझा जाये

    ReplyDelete