Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

शराब के नशे में जीजा करता था बहन को परेशान.. इसलिए ग्वालियर में सीआरपीएफ के आरक्षक साले ने पथरिया से गाड़ी किराए पर लेकर की थी जीजा की हत्या.. हटा थाना क्षेत्र के अंधे हत्याकांड का एसपी ने किया खुलासा..

तीसरे अंधे हत्याकांड का एसपी ने किया खुलासा..

दमोह। शराब के नशे में रिश्तो को तार-तार करने के साथ रिश्तो के कत्ल के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। इसी कड़ी में आज एक और खुलासा हुआ है। पिछले दिनों हटा के जमुनिया इलाके में लुहारी निवासी पंचम अहिरवार का रक्तरंजित शव मिलने के बाद पुलिस के लिए इस अंधे हत्याकांड का खुलासा करना चुनौती बना हुआ था। जिसके बाद एसपी ने स्पेशल टीम गठित करते हुए दस हजार रु का इनाम भी घोषित किया था।


आज पुलिस कंट्रोल रूम में एसपी डीआर तेनीवार ने एएसपी शिव कुमार सिंह एवं हटा एसडीओपी वीरेंद्र बहादुर सिंह की मौजूदगी में अंधे हत्याकांड का चौंकाने वाला खुलासा प्रेस कॉन्फस में किया । मामले में पंचम का हत्यारा और कोई नहीं बल्कि उसका सगा साला भरत अहिरवार निकला है। जो की किंदरहो पथरिया का निवासी तथा ग्वालियर में सीआरपीएफ आरक्षक था। भरत को शक था की जीजा पंचम उसकी बहन को शराब के नशे में मारपीट करता है।


 इसी के चलते उसने 14 जुलाई की रात साथ ही नरेंद्र अहिरवार निवासी सागर नाका के साथ मिलकर टवेरा गाड़ी किराए से लेकर जीजा पंचम अहिरवार के सिर पर घन एवं पत्थर पटक कर हत्या की थी तथा शव को जमुनिया हटा के पास फेंककर यह लोग भाग गए थे। उनके इस कृत्य में टवेरा चालक लखवानी पथरिया निवासी संदीप पाली को भी सहअभियुक्त बनाया है।


एसपी डीआर तेनीवर ने बताया कि इस अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में एडिशनल एसपी शिव कुमार सिंह के निर्देशन एसडीओपी हटा वीरेंद्र बहादुर सिंह के मार्गदर्शन में हटा थाना प्रभारी एचआर पांडे सूबेदार स्टेनो त्रिलोक सिंह साइबर सेल प्रभारी एएसआई रामाशंकर, प्रधान आरक्षक राकेश सेठिया आरक्षक अजीत दुबे एवं अजीत नायक पवन पटेल एवं मनीष यादव हटा का विशेष योगदान रहा।

Post a Comment

0 Comments