Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

मप्र में घटते कोरोना केस के साथ मुख्य मंत्री दे रहे छूट.. वही मास्क, वाहन चेकिंग व अन्य कारवाई के जुर्माना के नाम पर आम जनता के साथ बन रहे लूट जैसे हालात.. शहर में जुर्माना वसूलने वाली नगर पालिका के दफ्तर में किसी को नही मास्क की परवाह..

 नपा के दफ्तर में मास्क से लगाने सभी को परहेज

दमोह। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर में लगातार गिरावट दर्ज होने के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना कर्फ्यू में लगातार छूट के साथ सन्डे को भी बाजार खुलवाकर व्यापारी दुकानदार वर्ग को राहत देने की कोशिश की है। दूसरी और मास्क और वाहन चेकिंग के नाम पर आम जनता के साथ कतिपय कर्मचारियों द्वारा अघोषित लूट जैसा व्यवहार किया जा रहा है। इधर कोरोना काल मे इस साल का सीजन गवा चुके दुकानदारों को अब बाहर तक सामग्री फैलाने या अन्य मामलों को लेकर भी परेशान किया जाने लगा है। जिससे अनेक दुकानदार तनाव ग्रस्त होते नजर आने लगे हैं। 


बुधवार को भी मास्क कोरोना जांच अभियान व फुटपाथ पर सामान फैलाने के नाम पर दुकानदारों के ऊपर तहसीलदार की मौजूदगी में नगर पालिका के अमले के द्वारा जुर्माने की कार्यवाही की गई। वही इस दौरान अनेक दुकानदार आपत्ति दर्ज कराते हुए भी नजर आए। दूसरी ओर नगर पालिका के दफ्तर में मौजूद लगभग सभी कर्मचारी बिना मास्क के ही कार्य संचालन करते यह संदेश देते नजर आए की अब कोरोना दूर दूर तक नहीं है।


उल्लेखनीय है कि इस साल कोरोना काल मे लगातार बढ़ते पेट्रोल डीजल रसोई गैस खाद्य तेल के बढ़ते दाम और महंगाई से परेशान हाथ पर हाथ धरे बैठे रहने वाले दुकानदारों को कोरोना कर्फ्यू के उलंघन के नाम भी लगातार जुर्माने की कारवाई का शिकार बनाया जाता रहा है। अब बाजार खुलने के बाद अब विभिन्न बजहो से चालानी कार्रवाई जारी रहने से दुकानदारों में अब आसंतोष जैसे हालात भी नजर आने लगे है। 


स्थानीय अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों द्वारा भी व्यापारी वर्ग की परेशानी को नजरअंदाज किए जाने के बाद अब दुकानदार व्यापारी टैक्स अदाता वर्ग ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से अपील की है कि वह इस तरह की हालात को स्वयं संज्ञान में लेकर दमोह जिले में जारी इस तरह की मनमानी पर अंकुश लगाने दिशा निर्देश देवे अन्यथा शिकायती ज्ञापन के जरिए व्यापारी वर्ग को भी अपनी बात प्रधानमंत्री राष्ट्रपति तक पहुंचाने को मजबूर होना पड़ेगा।

मास्क व वाहनों चैकिंग के नाम पर 28 लाख 60 हजार से अधिक का जुर्माना वसूला जा चुका है..

दमोह। 30 जून को जारी जनसंपर्क विभाग के प्रेस नोट के अनुसार कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य के निर्देश पर कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध जिला प्रशासन द्वारा लगातार कार्रवाई की जा रही है। अब तक मास्क नहीं लगाने वाले 11508 व्यक्तियों के विरूद्ध कार्रवाई कर 13 लाख 01 हजार 400 रूपये अधिरोपित जुर्माना वसूला गया। इसमें दमोह में 5250, हटा में 1062, पथरिया में 1532, तेंदूखेड़ा 892, बटियागढ़ में 851, पटेरा में 1013 तथा जबेरा में 908 व्यक्तियों से जुर्माना वसूला गया।
इसी प्रकार वाहनों के संबंध में की गई कार्यवाही में अभी तक 4845व्यक्तियों से 15 लाख 60 हजार 330 रूपये का जुर्माना वसूल किया गया। आज जिले की तहसील हटा में 04, पथरिया में 12 हटा एवं पटेरा में 02  वाहनों पर चालानी कार्यवाही की गई।
यह सरकारी आंकड़े बता रहे हैं की कोरोना काल मे मजबूरी में निकलने वालो के साथ किस तरह चालानी कार्रवाई करके जुर्माना वसूला गया। यह सिलसिला अभी भी जारी है। खास बात यह है कि अनेक लोगों से जुर्माने की जो राशि ली गई तथा उनको जो रसीद दी गई उसमे भी राशि का अंतर देखने को मिलता है। यदि चालानी वसूली कार्यवाही की निष्पक्ष जांच कराई जाए तो चौंकाने वाली हेरा फेरी सामने आएगी..  पिक्चर अभी बाकी है

Post a Comment

1 Comments

  1. सडक पर दुकान लगाने वालों पर कार्य वाही होना ही चाहिए आखिर वाहन चालकों को परेशानी होती पेट्रोल के दाम कहाँ से कहाँ पहुँच गये यदि रास्ता खुदा नहीं मिलता तो वाहन एवरेज भाई गडबडा जाता है,

    ReplyDelete