Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

फुल अनलॉक को लेकर व्यापारियों के मन की मुराद पूरी, लेफ्ट राइट का आदेश हुआ निरस्त.. प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह से चर्चा के बाद कलेक्टर ने दी पूरा बाजार एक साथ खोलने को हरी झंडी.. कोरोना गाइडलाइन का रखना होगा ध्यान, रविवार को जनता कर्फ्यू रहेगा जारी..

 आखिरकार लेफ्ट राइट का आदेश हुआ निरस्त.. 

दमोह। डेढ़ माह के कोरोना कर्फ्यू के बाद 5 जून से बाजार खोलने शुरू हुई अनलॉक प्रकिया के सांप लेफ्ट राइट के सिस्टम से बाजार खोलने की अनुमति दी गई थी लेकिन 5 दिन में ही व्यापारियों का सब्र का बांध टूटने लगा था और उनके द्वारा पूरा बाजार खोलने की पुरजोर मांग प्रशासन से की जा रही थी। इसके बाद कलेक्टर ने प्रभारी मंत्री से चर्चा कर पूरा बाजार अनलॉक करने की परमिशन दे दी है।



कोरोना संक्रमण काल के चलते इस साल भी शादी विवाह के सीजन को गव चुके व्यापारी वर्ग द्वारा पूरा बाजार खोले जाने की मांग प्रशासन से की गई थी इसको लेकर शुक्रवार को जिला व्यापारी संघ के अध्यक्ष संजय यादव के नेतृत्व में व्यापारी संघ के प्रतिनिधि मंडल ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर व्यापारियों की मांगों से कलेक्टर एसके चेतन्य को अवगत कराया था। 

बैठक के दौरान कलेक्टर ने आश्वस्त किया था कि जिले के कोविड प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह को जल्द व्यापारियों की मांगों से अवगत कराया जाएगा। जिस के बाद मंत्री जी से चर्चा उपरांत कलेक्टर ने पूरा बाजार खोलने की इजाजत दे दी है लेकिन व्यापारियों के साथ ग्राहकों को भी कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करना होगा मांस के सोशल डिस्टेंस आदि ध्यान रखना होगा वहीं रविवार को जनता कर्फ्यू पूर्व की तरह जारी रहेगा। प्रशासन के उपरोक्त निर्णय की खबर से व्यापारियों ने राहत की सांस ली है तथा प्रशासन का आभार जताया है।

कल व्यापारियों ने किया था अध्यक्ष का घेराव..


उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व भी जिला व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष संजय यादव ने कल कलेक्टर से मुलाकात करके व्यापारियों की मांग रखी थी लेकिन कलेक्टर ने सोमवार को होने वाली आपदा प्रबंधन समिति की बैठक का इंतजार करने को कहा था जिसके बाद शाम को अनेक व्यापारियों ने अध्यक्ष संजय यादव का घेराव करके साफ कर दिया था कि यदि उनको परमिशन नहीं दी गई तब भी हुआ है दुकान खोलेंगे जिसके बाद आज पुणे व्यापारी संघ का प्रतिनिधिमंडल कलेक्टरों से मिला था और स्पष्ट कर दिया था कि व्यापारी अब मानने वाले नहीं है। जिसके बाद आज यह निर्णय लिया गया है जिसकी मुख्य वजह जिले में कोविड-19 केसों की संख्या में लगातार कमी कहा जा सकता है। अभिजीत जैन की रिपोर्ट

Post a Comment

0 Comments