Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

कांग्रेस ने पेट्रोलियम पदार्थो के रोज बढ़ते दामों के खिलाफ हल्ला बोल प्रदर्शन.. बढ़ती हुई महगाई के लिए मोदी सरकार को कोसा.. इधर प्रबुद्धजनों ने बंगाल में जारी हिंसा के खिलाफ ज्ञापन सौंपा.. टीम सिद्धार्थ ने मजदूर व मजदूरी समस्या को लेकर मांग पत्र सौंपा..

 महगाई के खिलाफ कांग्रेस का हल्ला बोल प्रदर्शन

दमोह। पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस के दामों में दिनोदिन हो रही बेहताशा वृद्धि को लेकर जिला कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में समस्त ब्लाकों के साथ जिला मुख्यालय पर कांगे्रस जनों ने जंगी प्रर्दशन किया। टंडन कन्हैया पेट्रोल पंप पर धरना देते हुए जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मनु मिश्रा, विधायक अजय टंडन ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कहती थी कि वह सत्ता में आये तो मंहगाई रफूचक्कर हो जायेगी किन्तु आज तो डीजल पेट्रोल, रसोई गैस, खाने वाला तेल अथवा अन्य वस्तुए के आम आदमी को दाम सुनकर ही चक्कर आने लगते है हमारे पी.एम. मोदी जी आप जब घर नहीं चला पाये तो देश की जनता का कैसे भला कर पायेगे। 

 रतनचंद जैन, तेजीराम रोहित, सतीश जैन, यशपाल ठाकुर, निधि श्रीवास्तव, परम यादव, कमलेश उपाध्याय, ललित नायक, भूपेन्द्र आजमानी, बृजेश पटेल, प्रफुल्ल श्रीवास्तव, अमिता सिंह, वीरेन्द्र ठाकुर, सुदामा दुबे, आशुतोष शर्मा, रजनी ठाकुर, दिनेश रैकवार, अभिषेक डिम्हा, अफजल खान, गीता ठाकुर, डब्बू चैबे, अनिल जैन, अजय सरवरिया, कमला निषाद, शशि चैधरी, किरण रैकवार ने कहा कि इस देश को प्रधानमंत्री मोदी नहीं अंबानी चला रहे। भाजपा राज में चारो तरफ भुखमरी बेरोजगारी का आलम है किंतु मोदी जी कभी आंसू बहाकर कभी अपना दुखड़ा सुनाकर मन की बात सुनाने में लगे है। 


अब तो उन्हें सत्ता का नशा हो चुका है किस प्रदेश की सरकार गिरनी है किसकी बनानी है किसे कहां फंसाना है यही संदेश उनके मंत्री संतरी दे रहे है मंहगाई का ग्राफ कहां पहुंच गया है यह जानने की उनको फुर्सत भी नहीं है। कोरोना काल में कितने व्यक्तियों को दुखद अवसान हुआ उनके आकड़े भी छुपाने में लगी है सरकार। विरोध प्रदर्शन करने वालों में अमर सिंह, मुरसलीम कुरैशी, शानु जुनेजा, संदीप बरदिया, धनसिंह, सौरभ अयाची, वीरेन्द्र दुबे, अनुज ठाकुर, राजेश साहू, सादिक कांॅजी, आशीष ठाकुर, वीर सिंह, अजय जाटव, मिक्की चंदेल, जुगराज सिंह, गोपाल रैकवार, एके चिश्ती सहित सैकड़ो की संख्या में काग्रेसी कार्यकर्ताओ की मौजूदगी रहीं।

बंगाल में जारी हिंसा के खिलाफ ज्ञापन सौंपा..

दमोह। पश्चिम बंगाल में चुनाव पश्चात जिस तरीके से आम नागरिकों एवं महिलाओं के साथ लगातार अत्याचार की घटनाओं का अंजाम दिया जा रहा है वह बहुत ही निंदनीय है जिसकी दमोह के प्रबुद्ध जन तीखे शब्दों में भर्त्सना करते हैं और राष्ट्रपति से मांग करते हैं कि पश्चिम बंगाल में राज्यपाल को निर्देशित कर वहां पर निर्दोष लोगों पर सत्तारूढ़ पार्टी के कार्यकर्ताओं एवं जिहादियों द्वारा किए जा रहे अत्याचार एवं हिंसक घटनाओं पर तत्काल रोक लगाकर संप्रदायिक दंगा फैलाने वाले सत्तारूढ़ पार्टी के कार्यकर्ताओं एवं जिहादियों पर कठोर कार्यवाही की जाए,इस आशय का ज्ञापन शहर के प्रबुद्ध जन नागरिकों ने दमोह कलेक्ट्रेट पहुंचकर राष्ट्रपति को दिए जाने हेतु दमोह कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य को सेकड़ो लोगो द्वारा हस्ताक्षरित ज्ञापन सौंपा।

 ज्ञापन द्वारा यह भी मांग की गई कि राष्ट्रपति पश्चिम बंगाल के राज्यपाल को अपने संवैधानिक अधिकारों के तहत निर्देशित करें कि वह राज्य सरकार को दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही करने एवं प्रभावित लोगों को शीघ्र न्याय दिलवाने के कार्य के साथ उचित मुआवजे की व्यवस्था करें ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो इसके लिए कठोर कदम उठाए जाएं ज्ञापन में यह भी कहा गया कि हिंसा की सभी घटनाओं की केंद्रीय एजेंसी अथवा न्यायिक जांच से दोषियों एवं घटनाओं के पीछे रहे षड्यंत्रकारी शक्तियों, संगठनों तथा व्यक्तियों की पहचान कर उन पर प्रकरण दर्ज किए जाएं। ज्ञापन सौंपते हुए प्रबुद्ध जनों ने बंगाल की हिंसा पर सत्ताधारी दल के पक्षपाती रवैया एवं हिंसक हमलों पर पुलिस प्रशासन के मूकदर्शक बने रहने एवं घटनाओं की एफ आई आर दर्ज करने में आनाकानी करने और पीड़ितों के मेडिकल नहीं कराने को लेकर निंदा की। ज्ञापन देने वालो में उपभोक्ता फोरम के पूर्व सदस्य राजेश ताम्रकार, अधिवक्ता संघ के प्रभारी अध्यक्ष मनीष चैबे, कोषाध्यक्ष श्यामसुंदर विश्वकर्मा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला समरसता प्रमुख राजीव बद्री सिंह ठाकुर, अधिवक्ता गोपाल पटेल, व्यापारी संघ के अध्यक्ष संजय यादव प्रमोद जैन,आशीष कटारे उपस्थित रहे।

मजदूर व मजदूरी को लेकर कलेक्टर को मांग पत्र सौंपा

दमोह। विश्व और देश के साथ दमोह पर भी कोराना महामारी की मार पड़ी है जिससे सभी प्रभावित हुये है ऐसी ही कुछ परिस्थितियों को देखकर सिद्धार्थ मलैया और उनकी टीम ने एक सुझाव और मांग पत्र कलेक्टर एस कृष्ण चैतन्य को सौंपा और शीध्र उस पर अमल करने की बात कही। 

सिद्धार्थ मलैया ने बताया गया कि वर्तमान में जिले में मजदूरी दर कॉफी कम है जो 192 है मजदूरी दर को बढ़ाया जाये, जो रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत 100 दिन के रोजगार देने की अवधि है उसे बढ़ा कर 150 दिन किया जाये, साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत शहरी क्षेत्र में मकान बनाने 2,50,000 लाख और ग्रामीण क्षेत्र में 1,50,000 रू. दिये जाते हैं उसे ग्रामीण क्षेत्रों में भी 2,50,000 रू. किया जाये, साथ ही जो प्रधानमंत्री आवास योजना का कोटा है उसे बढ़ा दिया जाये। किसान के लिये जो प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के 6000 रू. सालाना दी जाती है उसे दमोह जिले में बढ़ाया जाये, उपरोक्त कदम उठाने से जिले को त्वरित आर्थिक गति मिलेगी और जीवन बेहतर होगा। 

भाजपा महामंत्री रमन खत्री ने बताया कि दमोह जिला 125 आशावान जिलों में से एक जिला है, जहां कॉफी लोग रोजगार की तलाश में पुणे सूरत दिल्ली व अन्य महानगरों को पलायन करते हैं, साथ ही कोविड 19 महामारी की पिछली दोनों लहरों ने मजदूर वर्ग को आर्थिक रूप से तोड़ दिया है जिसे उनकी आर्थिक स्थिति चरमरा गयी है। कपिल सोनी ने बताया कि मजदूर, किसान और मध्यम वर्ग इस देश की रीढ़ है यदि यह वर्ग स्वंय को सुरक्षित महसूस करेगा इसका अर्थ होगा कि भारत भी आर्थिक मजबूत होगा, इसलिए इन वर्गों के लिये हमारी यह कुछ मांगे हैं जिससे यह वर्ग आर्थिक मजबूत रहे।

 कलेक्टर को मांग पत्र सौंपने सिद्धार्थ मलैया, रमन खत्री महामंत्री भाजपा, मनीष तिवारी, मनीष जैन बंटी, कपिल सोनी जिलाध्यक्ष पिछड़ा वर्ग मोर्चा, देवेन्द्र राजपूत मंडल अध्यक्ष, संतोष रोहित मंडल अध्यक्ष, विवेक अग्रवाल पार्षद प्रतिनिधि, भरत यादव युवा मोर्चा महामंत्री, नीलेश सिंघई मंडल महामंत्री, रीतेश सोनी मंडल उपाध्यक्ष आदि उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments