Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

राहुल को दमोह से भाजपा प्रत्याशी घोषित किए जाने के बाद मलैया परिवार की भूमिका पर सबकी नजर.. सिद्धार्थ मलैया निकालेंगे आशीर्वाद यात्रा.. डॉ सुधा मलैया शक्ति पुत्र महाराज की शरण मे.. इधर पूर्व मंत्री जयंत मलैया को भोपाल तलब किए जाने की खबर..

 दमोह में मलैया परिवार की भूमिका पर सबकी नजर..

दमोह। रविदास जयंती के मौके पर दमोह पहुंचे CM श्री शिवराज सिंह और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा द्वारा मीडिया के सवालों के जवाब में राहुल सिंह को दमोह से विधानसभा उपचुनाव में भाजपा टिकट की घोषणा के बावजूद हेलीपैड पर पूर्व मंत्री जयंत मलैया के पुत्र सिद्धार्थ मलैया ने मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद  मीडिया से चर्चा के दौरान पार्टी प्रत्याशी का अधिकृत फार्म अभी जारी नहीं होने बात करके अपने तेवर स्पष्ट कर दिए थे।  इसी के साथ मलैया परिवार की एक एक गतिविधियों पर सभी की नजरें लग गई है।

कल सिद्धार्थ मलैया द्वारा आशीर्वाद गार्डन में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में पहुंचकर संगठन के संरक्षक बनकर सभी को चैंकाया था वही आज पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया की धर्मपत्नी डॉ सुधा मलैया ने परमहंस योगीराज शक्तिपुत्र महाराज के आश्रम में पहुंचकर उनसे मुलाकात कर जिस तरह से आशीर्वाद लिया है उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद राजनीतिक माहौल गरमाया हुआ है।

हालांकि यह मुलाकात शक्तिपुत्र महाराज द्वारा चलाए जा रहे नशा मुक्ति अभियान के परिपेक्ष में बताई जा रही है वही इस मुहिम को भाजपा की वरिष्ठ नेत्री डॉ सुधा मलैया द्वारा भी समर्थन दिए जाने से आगामी दिनों में मध्यप्रदेश में शराबबंदी की मांग को परिपेक्ष में देखा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती पूर्व में ही मध्यप्रदेश में शराबबंदी को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान की नीतियों पर निशाना लगा चुकी है वही आगामी दिनों में इस मुद्दे को लेकर उनको सुधा मलैया का भी साथ मिल सकता है। 

सिद्धार्थ मलैया की प्रेस कांफ्रेस पर लगी रही सबकी नजर


इधर पूर्व मंत्री जयंत मलैया के पुत्र युवा भाजपा नेता सिद्धार्थ मलैया द्वारा अपने निवास पर अचानक बुलाई गई पत्रकार वार्ता से भी सियासी हलचल मची रही तथा सभी की नजरे इस वार्ता की चर्चा पर लगी रही लेकिन छौना मलैया ने मजे हुए राजनैतिक की तरह मीडिया से ऐसी कोई भी राजनीतिक चर्चा नही की जो खबरों की सुर्खियां बनती। हालांकि उनके द्वारा आशीर्वाद यात्रा निकाले जाने की पुष्टि जरूर की गई है। 
इधर 2 मार्च को मानस भवन में होने वाले एक सम्मान समारोह में मंत्री पुत्र अभिषेक भार्गव के साथ सिद्धार्थ मलैया की मौजूदगी को लेकर भी अनेक कायास निकाले जा रहे हैं। इधर इन सभी हालातों की खबर भोपाल तक पहुंचने के बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा द्वारा पूर्व मंत्री जयंत मलैया को तत्काल भोपाल तलब किए जाने की खबर भी सामने आई है।
कुल मिलाकर दमोह चुनाव में राहुल सिंह को भाजपा टिकट के मामले में जिस तरह से प्रदेश अध्यक्ष और मुख्य मंत्री ने घोषणा करने में जल्दबाजी की है उससे मलैया परिवार से बरसों से जुड़े रहे हजारों हजार लोगों की सहानभूति और अधिक बढ़ गई है। वही अनेक लोग इनसे निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने भी गुजारिश करते नजर आ रहे हैं जबकि अनेक कांग्रेसी भी कांग्रेस में शामिल होने का खुला आमंत्रण दे रहे हैं। इसके बावजूद मलैया परिवार अंगद के पैर की तरह अपनी पैतृक पार्टी भारतीय जनता पार्टी में ही रहेगा इतना तो तय है। इधर मलैया परिवार के सदस्य सामाजिक सरोकार से जुड़े मुद्दों को लेकर नई राह पर बढ़ने की तैयारी में है जबकि मलैया समर्थक तबका जरूर भाजपा से दूर होकर घर बैठ सकता है। 

हालांकि इन सब हालातों से कांग्रेस को कोई खास लाभ होने की उम्मीद नजर नहीं आ रही क्योंकि कांग्रेस की टिकट का सौदा भी भोपाल में हो जाने की खबर के बाद स्थानिय कांग्रेसी हाथ पर हाथ धरे बैठने की मंशा बनाये नजर आने लगे है। अभी उप चुनाव की घोषणा होने और प्रत्याशियों की अधिकृत घोषणा होने में समय शेष है लेकिन इस बीच राजनीतिक समीकरण कितने बदलेंगे इसका सभी को इंतजार है खासकर महामहिम राष्ट्रपति के सिंगरामपुर दौरे के बाद आने वाली चुनावी तपन ग्रीष्म की तपन को पीछे छोड़ देगी इतना अभी से तय नजर आने लगा है। पिक्चर अभी बाकी है.. राजेंद्र अटल

Post a comment

0 Comments