Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

मध्य प्रदेश के बजट में 9 नए मेडिकल कॉलेज प्रस्तावित जिनमें दमोह भी शामिल.. लेकिन कार्य के लिए बजट में फंड का उल्लेख नही.. जबकि मुख्यमंत्री दमोह में मेडिकल कॉलेज का भूमि पूजन कर इसे राहुलसिंह की देन बताकर उनको BJP टिकिट का कर चुके हैं ऐलान..

 बजट में 9 नए मेडिकल कॉलेज प्रस्तावित, दमोह भी शामिल..

भोपाल/दमोह। मध्य प्रदेश के इस वर्ष के बजट में जिन नए कार्यों को स्वीकृति दी गई है उनमें 9 मेडिकल कॉलेजों का प्रस्ताव भी शामिल है जिनमे दमोह का नाम भी शामिल है। लेकिन इनके कार्य आरंभ या अन्य कार्य के लिए राशि का कोई उल्लेख बजट में नहीं किया गया है। जिससे इस साल के बजट में प्रस्तावित चिकित्सा महाविद्यालयों के प्रारंभिक कार्यों के लिए फंड कहां से आएगा उसको लेकर असमंजस के हालात बने हुए हैं। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों दमोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेडिकल कॉलेज घोषणा के साथ इसके लिए भाजपा के आगामी प्रत्याशी राहुल सिंह को श्रेय दिया था, वही भूमि पूजन भी किया था।


प्रदेश के वर्ष 2021 22 के बजट का जो खाका सामने आया है उसमें प्रस्ताव क्रमांक 63 में उल्लेख किया गया है कि 2003 तक मप्र में पांच चिकित्सा महाविद्यालय संचालित थे। इसके बाद में 7 और मेडिकल कॉलेज खोले गए तथा एक निर्माणाधीन है। वही नौ नए मेडिकल कॉलेज प्रदेश के श्योपुर राजगढ़ मंडला सिंगरौली नीमच मंदसौर दमोह छतरपुर और सिवनी में प्रस्तावित है। 
बजट में प्रस्तावित 9 नए चिकित्सा महाविद्यालयों में दमोह का नाम भी शामिल होने से जहां दमोह वासियों ने राहत की सांस ली है वह इस बात पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं कि प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज के लिए बजट में किसी प्रकार की राशि प्रावधान का उल्लेख क्यों नहीं किया गया ? क्या इस वर्ष मेडिकल कॉलेज का कोई भी  कार्य प्रारंभ नहीं किया जाएगा ? 
उल्लेखनीय है कि 27 फरवरी को दमोह पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल की मौजूदगी में तहसील ग्राउंड पर मेडिकल कॉलेज हेतु भूमि पूजन शिलान्यास किया था।

 जिसके बाद से ही इस बात की अटकलें लगाई जा रही थी कि बजट में इसके लिए राशि प्रावधान किया जाता है अथवा नहीं ?
वही इन 9 मेडिकल कॉलेजों में कटनी का नाम शामिल नहीं होना भी आश्चर्यजनक है क्योंकि पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने  प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के साथ कटनी में भी मेडिकल कॉलेज हेतु भूमि पूजन शिलान्यास किया था।  दमोह उपचुनाव की बेला में भाजपा वालों को इसी में तसल्ली है कि कम से कम बजट में मेडिकल कॉलेज का प्रस्ताव तो शामिल कर लिया गया है। जबकि आमजन को है समझ में नहीं आ रहा कि जब बजट में प्रस्ताव शामिल किया गया है तो इस वर्ष खर्च के लिए राशि का कोई उल्लेख क्यों नहीं किया गया ? 

उल्लेखनीय है कि पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा के कद्दावर नेता जयंत मलैया को हराकर कांग्रेस विधायक बनने के बाद कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए राहुल सिंह ने मेडिकल कॉलेज के मुद्दे पर ही कांग्रेस को छोड़कर भाजपा में शामिल होने का मुख्यमंत्री के समक्ष पहले भोपाल में तथा 27 फरवरी को दमोह में मंच से एलान किया था। जिससे या तो साफ हो गया था कि मेडिकल कालेज का प्रस्ताव राहुल सिंह की ही देन है तथा इसे बजट में शामिल किया जाना अभी उपचुनाव की नजदीकी बेला है फिर भी बजट प्रावधान नहीं होना आश्चर्यजनक है।

Post a Comment

0 Comments