Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

मामूली विवाद पर कांग्रेस नेता संजय चौरसिया को चांटा मारना महंगा पड़ा.. समुदाय विशेष के दर्जन भर युवकों ने किया लाठी-डंडों से हमला.. इधर अजय मुड़ा हत्याकांड में पुलिस कार्रवाई से असंतुष्ट संगठनों ने किया बंद का आव्हान..

 समुदाय विशेष के युवकों का संजय पर लाठी-डंडों से हमला

दमोह। जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष संजय चौरसिया के ऊपर समुदाय विशेष के करीब दर्जन भर युवकों द्वारा लाठी-डंडों से हमला किए जाने की जानकारी रविवार दोपहर सोशल मीडिया पर वायरल होते ही शहर में हड़कंप के हालात निर्मित हो गए तथा जिला अस्पताल में उनसे घटना की जानकारी लेने के लिए कांग्रेश जनों के अलावा मीडिया कर्मियों की भीड़ लग गई।

घटना के संदर्भ में संजय चौरसिया का कहना था कि विंध्यवासिनी मंदिर के समीप वह दो अन्य लोगों के साथ आ रहे थे। इसी दौरान पीछे से बाइक पर आ रहे दो युवक खुद की बाइक से अनियंत्रित होकर अचानक गिर गए। जिसके बाद समुदाय विशेष के उक्त युवकों द्वारा गाली गलौज शुरू कर दी गई और मना करने पर कुछ ही मिनट बाद करीब दर्जन भर लोगों को बुलवाकर उन पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया गया। जिसके बाद पुलिस को सूचना दिए जाने पर कोतवाली पुलिस ने उन्हें घटनास्थल से जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। 

इधर इस घटना के संदर्भ में कोतवाली टीआई एचआर पांडे का कहना है कि विंध्यवासिनी मंदिर के समीप बाइक पर से गिरने को लेकर दो युवकों का संजय से विवाद हुआ था जिस पर से संजय द्वारा एक युवक को चांटा मार दिए जाने पर से उपरोक्त युवक अपने घर से अन्य करीब दर्जन भर लोगों को बुलाकर ले आए जिनके द्वारा संजय के साथ लाठियों से मारपीट की गई है। वही पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत अपराध पंजीबद्ध करते हुए सात आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया संजय को देखने अस्पताल पहुंचे


इधर घटना की जानकारी लगने पर पूर्व वित्त मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता जयंत मलैया रविवार शाम जिला अस्पताल पहुंचे जहां उन्होंने कांग्रेस नेता संजय चौरसिया से घटना के बारे मेंं जानकारी ली तथा शहर में इस तरह के बढ़ते  घटनाक्रमों पर घटनाक्रमों पर चिंता जताई..

अजय मुड़ा हत्याकांड के विरोध में दमोह बंद आज..

दमोह पिछले दिनों शहर के बजरिया बाढ़ इलाके में शिक्षक अजय मुड़ा की मामूली बात पर से दर्जन भर से अधिक कसाईयो ने उनकी नृसंश हत्या कर दी थी। जिसके बाद विभिन्न संगठनों ने प्रशासन को ज्ञापन देकर 3 दिन के अंदर विभिन्न मुद्दों पर कार्यवाही नहीं होने पर धरना बंद आंदोलन की चेतावनी दी थी। इसी के चलते विभिन्न संगठनों द्वारा 11 जनवरी को दमोह बंद का आवाहन किया गया है। स्वर्गीय अजय मुड़ा के हत्यारोपियो पर पुलिस द्वारा आवश्यक कार्यवाही नहीं किए जाने, शासकीय भवनों एवं चिन्हित स्थानों से अवैध अतिक्रमण नहीं हटाए जाने तथा भीड़ भाड़ वाले इलाकों में खुलेआम मटन मास की बिक्री होने के विरोध में दमोह बंद तथा धरने का यह शांतिपूर्ण  आवाहन करते हुए  आम नागरिकों दुकानदार व्यापारी भाइयों से सहयोग की अपील की गई है।

Post a comment

1 Comments

  1. दमोह पुलिस विभाग में स्थानांतरण जरूरी है बनर्जी जैसे टी आई की जरूरत है,,

    ReplyDelete