Ticker

6/recent/ticker-posts
2 / 3

विभिन्न संगठनों के दमोह बंद को व्यापक सफलता.. प्रशासन ने 15 दिन में कार्रवाई का भरोसा दिया.. इधर पुराना थाने से मुर्शिद बाबा मैदान की तरफ जाने के लिए.. आगे बढ़ने की कोशिश करने वालो को पुलिस ने लाठियां चलाकर खदेड़ा..

 बंद को व्यापक सफलता, 15 दिन में कार्रवाई का भरोसा..

दमोह। करीब 15 दिन पूर्व शहर के बजरिया वार्ड चैनपुरा इलाके में शिक्षक अजय मुड़ा की नृशंस हत्या के बाद वर्ग विशेष के आरोपियों तथा उनकी गतिविधियों को लेकर विभिन्न संगठनों के बीच में उपजा आक्रोश 11 जनवरी को दमोह बंद के साथ मुर्शिद बाबा मैदान पर धरने के आवाहन के तौर पर सामने आया। हालांकि इस दौरान पुलिस प्रशासन द्वारा आरोपियों तथा उनके अतिक्रमण पर कार्यवाही भी की गई लेकिन उसे नाकाफी मानते हुए आज के इस बंद का ऐलान किया गया था।

विभिन्न संगठनों के दमोह बंद का असर सोमवार को सुबह से ही देखने को मिला। इस दौरान ह्रदय स्थल घंटा घर पर विभिन्न धार्मिक सामाजिक व्यापारिक संगठनों से जुड़े युवा वर्ग की बड़ी संख्या में मौजूदगी के साथ पुलिस  फोर्स भी एलर्ट रही। वही प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी के बीच घंटाघर पर देर तक नारेबाजी प्रदर्शन के बीच अपर कलेक्टर आनन्द कोपरिया ने संगठनों से जुड़े पदाधिकारियों को उनकी 6 सूत्री मांगों को लेकर आश्वस्त करते हुए 15 दिन में कार्रवाई की बात कही।

जिसमें शिक्षक अजय मुड़ा के परिजन को अनुकंपा नियुक्ति तथा आर्थिक सहायता का प्रकरण भोपाल भेजे जाने, चिन्हित अतिक्रमण स्थलों पर कार्यवाही किए जाने, जगह-जगह लगने वाली मीट मटन की दुकानों को हटाए जाने,  गढ़ी मोहल्ला मार्ग पर मुआवजा लेने के बाद भी अतिक्रमण नहीं हटाए जाने की जांच किए जाने आदि के आश्वासन एडीएम द्वारा दिए गए। जिसके बाद बजरंग दल के जिला संयोजक पवन रजक द्वारा 20 दिन में उपरोक्त कार्रवाई नहीं होने पर मुर्शिद बाबा मैदान पहुंचकर धरना देने की बात कही गई। इधर जिला व्यापारी संघ के अध्यक्ष संजय यादव द्वारा आज के बंद को समाप्त करने की घोषणा करते हुए सभी से अपनी दुकाने खोलने का निवेदन किया गया।
पुराना थाना से आगे बढ़ने पर पुलिस ने भांजी लाठियां..
दमोह बंद के दौरान विभिन्न संगठनों द्वारा मुर्शिद बाबा मैदान पर धरना प्रदर्शन का ऐलान भी किया गया था जिसके मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिस बल को पुराना थाना से आगे बढ़ने रोकने के लिए तैनात किया गया था। वही दमोह बंद के आह्वान के साथ शहर के विभिन्न मार्गों से निकल रही भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने जब पुराने थाने से गढ़ी मोहल्ला मार्च की तरफ जाने की कोशिश की तो कोतवाल एचआर पांडे के नेतृत्व में पुलिस ने लाठियां चलाकर ऐसे लोगों को खदेड़ने में देर नहीं की। जिससे कुछ देर के लिए तनातनी भरा माहौल भी बन गया। 

जबकि इस दौरान मुर्शीद बाबा मैदान पर सुबह 11 से शाम 5 बजे तक फातिहा प्रोग्राम की जानकारी सामने आई। जिससे पुलिस को भीड़ को पुराने थाने से आगे जाने से रोकने जमकर मशक्कत करना पड़ी।
इस तरह के हालात क्यों बन रहे इस पर विचार करना होगा..
दमोह नगर आपसी सामाजिक सौहार्द्र की वर्षो से मिशाल रहा है। लेकिन पिछले कुछ समय से जिस तरह से घटनाक्रम सामने आए हैं उसने इस तरह के हालात निर्मित कर दिए हैं। लंबे समय से कसाई मंडी मे गौवंश  को धड़ल्ले से ले जाकर काटने की घटनाएं सामने आने, शहर में जगह-जगह सड़क किनारे खुले आम मीट मटन की दुकान संचालित किए जाने जैसे मामलों से आम नागरिको विशेषकर हिंदू संगठन मैं नाराज ही बनी हुई थी 

वही करीब 15 दिन पूर्व घर के बाहर पेशाब करने से रोकने को लेकर हुए मामूली विवाद पर से जिस तरह से कसाई मंडी के दर्जनों युवकों ने आक्रमक रुख अपनाकर शिक्षक अजय मुड़ा और अन्य लोगो पर प्राण घातक हमला किया वह दिल दहलाने वाला था। इसके बाद ही प्रशासन को कार्रवाई करने और पुलिस को सख्त रवैया अपनाने के लिए विभिन्न संगठनों को ज्ञापन देकर 3 दिन का अल्टीमेटम देना पड़ा लेकिन अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही नाकाफी रही। जिस वजह से आज के बंद जैसे हालात सामने आए। 

 वही इसके पूर्व कल 10 जनवरी को शोभा नगर विंध्यवासिनी मंदिर के समीप जिस तरह से मामूली बात पर से कांग्रेस नेता संजय चौरसिया पर सामूहिक रूप से आक्रमक रुख अपनाते हुए हमला किया गया वह भी कहीं ना कहीं आम जनमानस के साथ विभिन्न संगठनों के बीच आक्रोश का कारण रहा।

Post a comment

0 Comments