Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

दीपावली पर इस बार गोबर से बनें दीपक और अन्य सामग्री मिलेगी.. नगरपालिका नही कर पाएगी टेक्स वसूली.. कलेक्टर ने तिंदौनी व बांदकपुर में समूह द्वारा निर्मित सामग्री देखीकर सराहना की.. आम नागरिकों से उपयोग की अपील..

 मिट्टी के दीये एवं प्रतिमाओं पर टेक्स वसूली पर रोक..

दमोह। दीपावली पर्व के अवसर पर जिले के ग्रामीण एवं दूर दराज के अंचलों से मिट्टी के दीपक (दीया) एवं प्रतिमायें तैयार कर ग्रामीणों द्वारा विक्रय हेतु बाजारों में लाये जाते है। इस संबंध में कलेक्टर श्री तरूण राठी ने जिले की सभी नगरीय निकायों एवं ग्राम पंचायतों को आदेशित किया है कि मिट्टी के दीये एवं प्रतिमाओं के विक्रय किये जाने हेतु आने वाले ग्रामीणों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो इसका पूर्ण ध्यान रखा जाये, उनसे किसी भी प्रकार के कर की वसूली नहीं की जाये। 

 कलेक्टर ने निर्देशित किया है कि मिट्टी के दीये के साथ गोबर आदि  से बनाये गये दीये का अधिक से अधिक उपयोग को प्रोत्साहित करने हेतु व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाये। आदेश का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित किया जाये।

कलेक्टर ने तिंदौनी में बन रही सामग्री का जायजा लिया

दमोह। कलेक्टर श्री तरूण राठी ने ग्राम तिंदौनी पहुंचकर स्व-सहायता समूहों द्वारा गोबर से निर्मित हो रहे दीपों और अन्य सामग्रियों का अवलोकन किया। यहां दीपक आदि बना रही महिलाओं से चर्चा की, उनकी बातें सुनी और उनकी हौसला अफजाई की। श्री राठी ने यहां बन रहे दीपक के अलावा ओम, स्वास्तिक, भगवान गणेश जी-लक्ष्मी जी की मूर्ति अन्य सामग्रियों का अवलोकन किया। कुछ महिलाएं बना रहीं थी, तो कुछ उसमें रंग भर रही थीं। श्री राठी ने उत्पादों को देखकर महिलाओं को अग्रिम राशि देते हुए, दीपक मूर्ति आदि उन्हें देने के लिए कहा।

यहां पर समूहों की महिलाओं ने बताया कि अभी तक लगभग 2 हजार दीपक बन गये हैं। कलेक्टर के पहुंचने पर इन महिलाओं का उत्साह देखते ही बनता था। महिलाएं गोबर की लकड़ी और गमला भी बना रही थीं। साथ ही यहां दीपावली की पूजा के हिसाब से पैकेट भी तैयार कर रहे हैं, उसमें दीपक, माता लक्ष्मी- भगवान श्री गणेश सहित अन्य सामग्री रखी जायेगी। यहां पर 10 महिलाएं काम कर रही हैं। कलेक्टर श्री राठी ने इन महिलाओं के काम को देखकर खूब सराहा। समूह का नाम पंजाब समूह बताया गया।

यहां पर समूह द्वारा धूपबत्ती का भी निर्माण किया जा रहा है। साथ ही गोबर की लकड़ी और गमले भी तैयार किये जा रहे है। कलेक्टर ने साम्रगियों को देखकर खुशी का इजहार करते हुए इन साम्रगियों का खरीदने की मंशा जाहिर करते हुए अग्रिम राशि दी और कहा कि तैयार कर हमें दीजिएगा। उन्होंने यहां महिलाओं के साथ न केवल कारण की प्रकृति के बारे में जाना और उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी और उनकी मांग पर उनके साथ फोटो भी खिचवाई। इस अवसर पर सरपंच सोमेश गुप्ता भी मौजूद रहे। उन्होंने पंचायत में समूहों की गतिविधियों की जानकारी दी साथ ही बताया कि नट समाज की महिलाओं को समूह से जोड़ा गया है ताकि वे अपना पारम्परिक काम छोड़कर अजीविका से जुड़ रही हैं। इस अवसर पर एनआरएलएम के जिला परियोजना समन्वयक श्याम गौतम और उनके अधिनस्थ स्टाप तथा सीईओ जनपद पंचायत श्री मिश्रा भी मौजूद रहे।

कलेक्टर ने आमजनों से की उपयोग करने की अपील

दमोह कलेक्टर श्री तरूण राठी ने कहा जिले मे स्व-सहायता समूहों की महिलाओ के द्वारा गोबर के दीपक और मूर्तिया बनाई जा रही हैं। उन्होंने कहा हम सब सकंल्प लें इस बार की दीपावली स्वदेशी दीपावली के रूप मे मनायेंगे, जिसमे मिट्टी से बनी चीजें एवं गोबर से बने विशेष रूप से दीए साथ ही मूर्तिया, हवन सामग्री, धूपबत्ती आदि का उपयोग करें और शीघ्र ही स्टाल कलेक्ट्रेट के आसपास शुरू किया जायेगा। उन्होंने कहा स्टाल मे लोग आये हम अलग से जानकारी शेयर करेगें, लोग आये ओर समूह की महिलाओ का उत्साहवर्धन करें, ताकि ये महिलाए एक अच्छी परंपरा को जन्म देगी, यही मेरी सभी से अपील हैं।

कलेक्टर ने तिंदौनी बारात घर का किया अवलोकन

दमोह। कलेक्टर श्री तरूण राठी ने ग्राम तिंदौनी के भ्रमण के दौरान 22 लाख की लागत से बनाये गये बारात घर का अवलोकन किया। इस घर में हॉल-कमरों के अलावा भोजन बनाने का कक्ष भी बनाया गया है। पंचायत स्तर पर इस तरह का निर्माण सामान्य तौर पर देखने को नहीं मिलते हैं। कलेक्टर श्री तरूण राठी ने अवलोकन के बाद कहा कि यह स्थान सरपंचों के और अन्य प्रशिक्षण के लिए भी उपयुक्त रहेगा। भ्रमण के दोरान अन्य अधिकारियों के साथ ही सरपंच सोमेश गुप्ता भी मौजूद रहे।

बांदकपुर में देखा समूहों की महिलाओं का काम.. 

दमोह। कलेक्टर श्री तरूण राठी आज दोपहर ग्राम बांदकपुर पहुंचे और यहां पर जय- जागेश्वर समूह की महिलाओं द्वारा सिलाई कार्य और मिट्टी के दीपक एवं अन्य सामग्री निर्माण का अवलोकन किया। यहां पर समूह की तुलसा प्रजापति ने बताया यहां पर 50 सिलाई मशीन लगाई जाना है, अभी हम पैटीकोट और निकर बनाये जा रहे हैं, यह भी बताया कि कटनी से पूरी सामग्री ग्राम बांदकपुर और घाट पिपरिया को मिल रही है और हम समूह की महिलाएं काम कर रही है। डीपीएम श्री गौतम ने बताया समूह की महिलाएं स्कूल की गणवेश भी सिलाई करेंगी। जनसंपर्क अधिकारी YA कुरैशी की रिपोर्ट..

Post a comment

0 Comments