Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सागर लोकायुक्त की टीम ने पवई में रिश्वतखोर पटवारी को पकड़ा.. अतिक्रमण का केस खत्म कराने मांगे थे एक लाख रुपए.. रिश्वत की प्रथम किस्त में 25,000 रुपए लेते रंगे हाथों पकड़ा गया पटवारी.. भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर कार्रवाई जारी..

 लोकायुक्त ने पवई में रिश्वतखोर पटवारी को पकड़ा
पन्ना/ सागर। कोरोना संक्रमण काल में जब लोगों को जान के लाले पड़े हुए हैं तब भी रिश्वतखोरी का दंश लगातार असर दिखा रहा है। ताजा मामला पन्ना जिले के पवई क्षेत्र में सामने आया है। जहां एक पटवारी को सागर और लोकायुक्त की टीम ने 25000 रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा है। रिश्वत की रकम अतिक्रमण के एक मामले को रफा-दफा करने के लिए ली जा रही थी।
कार्रवाई करने वाली लोकायुक्त सागर टीम के निरीक्षक अभिषेक वर्मा ने बताया कि पवई निवासी विकास जैन द्वारा लोकायुक्त सागर में शिकायत की गई थी की पवई बस स्टैण्ड के समीप उसके द्वारा बाउण्ड्रीवॉल निर्माण कराने पर राजस्व विभाग द्वारा उसके खिलाफ अतिक्रमण का केस बनाया गया था। तहसीलदार न्यायालय में विचाराधीन  इस केस को खारिज करने के एवज में पटवारी राजेंद्र सोनी द्वारा एक लाख रुपये की मांग की जा रही थी। इसी शिकायत पर कार्रवाई करते हुए लोकायुक्त सागर की टीम ने रिश्वत की प्रथम किश्त के रूप में 25 हजार रुपये की राशि विकास जैन द्वारा पटवारी आवास में पहुंचक राजेन्द्र सोनी को दी गई। तभी लोकायुक्त पुलिस की टीम ने दबिश देकर उसे रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। 
पवई जैसे छोटे से कस्बे में लोकायुक्त कार्रवाई की भनक लगते ही पटवारी आवास के बाहर जहां लोगों की भीड़ लगी रही वही लोग रिश्वतखोरी को लेकर तरह-तरह की चर्चा करते हुए भी नजर आए जबकि आरोपित पटवारी राजेंद्र सोनी खुद को साजिश के तहत फंसाने की बात करता दिखा। उसका कहना है कि विकास जैन की तरफ से मंदिर के चंदे की रसीद काटी थी जिसके रुपए देने के नाम पर ट्रैप कार्रवाई की गई है। मौके पर अभी पटवारी के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण पंजीबद्ध करने की कार्रवाई जारी है।

Post a comment

0 Comments