Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया के खिलाफ जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल ने फिर खोला मोर्चा.. लगाए गंभीर आरोप.. भाजपा नेता सिद्धार्थ मलैया और कांग्रेस नेता प्रदीप खटीक के खिलाफ मामला दर्ज कराने.. बसपा के बाद कुर्मी समाज संगठन ने सौपा ज्ञापन..

  बसपा के बाद कुर्मी समाज संगठन ने सौपा ज्ञापन..
 दमोह। पिछले दिनों हटा के कांग्रेस नेता सोमेश चौरसिया और प्रदीप खटीक की पत्रकार वार्ता में पहुंचकर बसपा विधायक श्रीमती रामबाई और जेलर पर गंभीर आरोप लगाने वाले भाजपा नेता और पूर्व मंत्री पुत्र सिद्धार्थ मलैया की राजनैतिक घेराबंदी के साथ उनके खिलाफ मामला दर्ज कराने की कवायद तेज हो गई है। इस संदर्भ में बसपा के बाद आज कुर्मी क्षत्रिय समाज संगठन के बैनर तले एसपी को ज्ञापन सौंपकर कार्यवाही किये जाने की मांग की गई है।
दमोह कुर्मी समाज संगठन और जिला पंचायत के अध्यक्ष शिवचरण पटेल के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कुर्मी समाज के लोग तहसील ग्राउंड पर एकत्रित होने के बाद एसपी ऑफिस पहुंचे। जहां एसपी हेमंत चौहान को ज्ञापन सौंपते हुए पिछले दिनों हटा में चौरसिया परिवार द्वारा आयोजित बंद और प्रदर्शन सभा के दौरान भाजपा नेता सिद्धार्थ मलैया तथा कांग्रेस नेता प्रदीप खटीक के द्वारा भड़काऊ बयान बाजी किए जाने के आरोप लगाते हुए इनके खिलाफ मामला दर्ज कर पूर्व के मामले में सहआरोपी बनाने की मांग की गई।
इस दौरान मीडिया से चर्चा के दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया पर बेहद गंभीर आरोप लगाते नजर आए। यहां तक की दमोह जिले में पार्टी की वर्तमान स्थिति और गुटबाजी के लिए भी श्री मलैया को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके जिला पंचायत अविश्वास प्रस्ताव से लेकर चौरसिया हत्या कांड में उनके बेटे इंद्रपाल पटेल का नाम शामिल करवाने को लेकर भी वह श्री मलैया पर खुलकर आरोप लगाने से नहीं चूके।
यह पहला मौका नहीं है जब शिवचरण पटेल ने पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया के खिलाफ बयान बाजी करते हुए मोर्चा खोला हो। पिछले साल भी श्री पटेल के खिलाफ जब अविश्वास प्रस्ताव आया था तब भी उन्होंने श्री मलैया के साथ पूर्व विधायक लखन पटेल के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए 8 फरवरी 2019 को मीडिया के समक्ष जमकर बयानबाजी की थी। वही अविश्वास प्रस्ताव में अध्यक्ष पद बच जाने के बाद उन्होंने चुप्पी साध ली थी।
12 फरवरी 2019 को अविश्वास प्रस्ताव के दौरान श्री पटेल के साथ जहां बसपा विधायक और पूर्व में जिला पंचायत के उपाध्यक्ष रही श्रीमती रामबाई खुलकर सामने आ गई थी वही अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले सदस्यों के द्वारा जिला पंचायत के क्रियाकलापों को लेकर अध्यक्ष शिवचरण पटेल से लेकर तत्कालीन उपाध्यक्ष श्रीमती रामबाई पर गंभीर आरोप लगाए गए थे। इस दौरान जिला पंचायत सदस्य चंद्रवती अठ्या की किडनैपिंग का क्लाइमेक्स भी सामने आया था।
इस दौरान स्वर्गीय देवेंद्र चैरसिया की भाभी जिला पंचायत सदस्य श्रीमति लता चैरसिया तथा राघवेंद्रसिंह ऋषि लोधी सहित अन्य सदस्य अध्यक्ष उपाध्यक्ष की जुगलबंदी को लेकर गंभीर आरोप लगाते नजर आए थे। इसके बाद 15 मार्च 2019 को हटा में कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या के मामले में हुई रिपोर्ट में विधायक रामबाई के परिजनों के साथ जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के बेटे का भी नाम भी शामिल था। जिस में अभी तक इनकी जमानत नहीं हो सकी है वहीं इस मामले में पीड़ित चौरसिया परिवार को पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया, पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया सहित अनेक भाजपा कांग्रेस नेताओं की सुहानभूती शुरू से मिलती रही थी।
 इधर दमोह सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल अनेक अवसरों पर शिवचरण पटेल के साथ खड़े नजर आते रहे हैं। यहां तक की शिवचरण पटेल द्वारा पथरिया विधानसभा क्षेत्र से भाजपा टिकट की मांग करते हुए भाजपा के अलावा निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जो नामांकन दाखिल किया गया था उसे भी श्री प्रहलाद पटेल के द्वारा ही पहल करते हुए निकलवाया गया था। जबकि भाजपा से बगावत करके उस समय दमोह तथा पथरिया से निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले राम कृष्ण कुसमरिया के साथ शिवचरण पटेल की भूमिका पर भी सवाल व उंगलियां उठती रही थी। 
कुल मिलाकर लंबे समय से भाजपा की कुर्मी राजनीति के केंद्र बिंदु बनने के लिए शिवचरण पटेल और लखन पटेल के बीच जारी अघोषित युद्ध में तत्कालीन मंत्री जयंत मलैया का साथ हमेशा लखन पटेल को मिलने की भी यह वजह रही है कि कुसमरिया बाबा से लेकर शिवचरण बड्डा तक श्री मलैया के विरोधी होते चले गए। वही मलैया के नजदीकी सूत्रों का कहना है कि जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव के दौरान सदस्यों के मैनेजमेंट को लेकर श्री मलैया द्वारा उधार दी गई या खर्च की गई लाखो की रकम के हिसाब व वापसी की मांग के बाद से ही बड्डा द्वारा इस तरह के आरोप लगाने की बात कही जा रही हैं। वही आज कुर्मी समाज के ज्ञापन के दौरान लगाए गए आरोपों में खास बात है कि अब पिक्चर से लख पटेल भी गायब हो चुके हैं तथा 
सिर्फ जयंत मलैया और उनके बेटे टारगेट पर नजर आ रहे हैं। पिक्चर अभी बाकी है.. अटल राजेंद्र जैन

Post a comment

0 Comments