Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

बटियागढ़ में उठाईगिरी और अड़ी बाजी की वारदात से हड़कंप.. दमोह के किराना व्यापारी का 3 लाख रुपयों से भरा बैग लेकर अज्ञात तत्व फरार.. इधर कार सवार लोगों के साथ अड़ी बाजी का प्रकरण पंजीबद्ध.. दूसरे पक्ष ने मोबाइल लूट का आरोप लगाया..

 किराना व्यापारी का तीन लाख रुपए से भरा बैग गायब 
दमोह। जिले के बटियागढ़ थाना अंतर्गत उठाई गिरी तथा अड़ीबाजी के दो घटनाक्रम सामने आने के बाद पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण पंजीबद्ध करके जांच शुरू कर दी है। दिनदहाड़े बस स्टैंड के समीप आशीष किराना स्टोर में घटित उठाई गिरी की वारदात में दमोह के एक किराना व्यापारी का करीब तीन लाख रुपए के नोटों से भरा बैग गायब हो गया।
 
प्राप्त जानकारी के अनुसार दमोह के किराना व्यापारी सौरभ जैन बटियागढ़ में गुरुवार को स्थानीय दुकानदारों के पास उधारी वसूल करने के लिए गए थे दोपहर करीब 3 बजे वह बटियागढ़ बस स्टैंड के पास आशीष किराना स्टोर पर पहुंचे। जहा दुकान के काउंटर पर बैग रखकर और दुकान दार द्वारा दिए गए रुपए गिनने लगे। बाद में रुपए रखने के लिए उन्होंने काउंटर पर रखा अपना बैग जैसे ही उठाना चाहा तो वह गायब था। आसपास तलाश करने पर भी जब बैग का कोई पता नहीं लगा तो उन्होंने ने थाने पहुंचकर पुलिस को इसकी सूचना दी। 
बटियागढ़ थाना प्रभारी दीपक खत्री ने बताया कि प्रकरण पंजीबद्ध करके अज्ञात आरोपी की तलाश की जा रही है। घटनास्थल के आसपास की  सीसीटीवी फुटेज के ज़रिए भी पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है। इधर पीड़ित सौरभ जैन का कहना था कि बैग में फुटकर दुकानदारों द्वारा उधारी के वसूल किए गए ढाई से तीन लाख रुपए की रकम रखी हुई थी। जो बैग के साथ गायब हो गई।
कार सवारों को रोकने पर अड़ीबाजी का मामला दर्ज-
बटियागढ़ थाना अंतर्गत शाहजदपुरा क्षेत्र में कार सवार युवकों को रोक कर मारपीट झीना झपटी के के मामले में पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ अड़ीबाजी का मामला दर्ज किया गया है। जबकि दूसरे पक्ष द्वारा मोबाइल आदि की लूट किए जाने के आरोप लगाए जा रहे हैं। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार बटियागढ़ निवासी कासिम खान, रफीक खान, कैमरामैन शुभम शर्मा के साथ बुधवार रात सादपुर से लौट रहे थे। शाहजदपुरा के पास इनकी कार को को रोक कर चार्ली लोधी एवं साथियों द्वारा गुंडा गर्दी की गई। बटियागढ़ थाना प्रभारी दीपक खत्री ने बताया कि मामले में अड़ीबाजी का मामला दर्ज किया गया है। वहीं आरोपी पक्ष से जुड़े लोगों का कहना है उनके मोबाइल आदि की लूट की गई और उनके खिलाफ मामला भी दर्ज करा दिया गया है।

Post a comment

1 Comments

  1. दमोह पुलिस 302 के मुजरिमों को तो ढूंड सकती है परंतु चोरी लूट के मरीज नहीं ढूंढ पाती ये सच है मेरी चोरी का 15दिन बाद भी कोई सुराग नहीं लगा है

    ReplyDelete