Ticker

6/recent/ticker-posts

टीवी एक्टर चाहत पांडे को मामा के घर जाकर तोड़ फोड़ करना महंगा पड़ा.. मामी की शिकायत पर पुलिस ने चाहत और उसके भाईयो तथा मां के खिलाफ किया मामला दर्ज.. इधर सीजीएम कोर्ट ने नहीं दी बेल.. मजबूरी में जाना पड़ा तीनों को जेल..

मामा के घर तोड़फोड़ मामले में चाहत सहित तीन को जेल
दमोह। चर्चित टीवी कलाकार चाहत पांडे को अपनी मां तथा भाइयों के साथ मामा के घर जाकर तोड़फोड़ गाली गलौज के साथ गुंडागर्दी करना महंगा पड़ गया है। चाहत की मामी की रिपोर्ट पर पहले तो कोतवाली में विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया और फिर न्यायालय में पेश किए जाने पर इनकी जमानत को निरस्त कर दिया गया। जिसके बाद चाहत को भाई और मां के साथ जेल जाना पड़ा है।
यह कोई फिल्मी स्टोरी या टीवी सीरियल का क्लाइमेक्स नहीं बल्कि पारिवारिक वाद विवाद को लेकर घर-घर में निर्मित होने वाले हालातों का एक ताजा उदाहरण है। दरअसल कोरोना वायरस संक्रमण काल के चलते शुरू हुए महामारी के दौर और लाक डाउन में टीवी एक्टर्स चाहत मणि पांडे करीब 3 माह पूर्व अपनी कानपुर निवासी एक सहेली के साथ दमोह स्थित अपनी मां और भाई के निवास पर आ गई थी। तब से वह दमोह में ही थी। 
इस दौरान वह प्रधानमंत्री मोदी के आवाहन पर अपनी कानपुर निवासी सहेली के साथ घर के छत पर खड़े होकर दीप जलाने से लेकर घण्टी बजाते हुए लगातार चर्चाओं में बनी रही थी। इधर चर्चित लोकगीत गायक जित्तू खरे की राई पर अपने ही घर में राई नृत्य की प्रैक्टिस करती वह एक वार फिर चर्चाओं में आ गई थी।
बंसी बन में बजी हम नाचे आंगन में गीत पर राई करने वाली चाहत पर महीने भर पूर्व कानपुर निवासी कलाकार ने दमोह की जबलपुर नाका चौकी पहुंचकर चाहत और उनके परिवार पर गंभीर आरोप लगाते हुए एक बार फिर चाहत परिवार को चर्चा में ला दिया था। जैसे तैसे यह मामला शांत हुआ ही था कि इनके पारिवारिक विवाद का क्लाइमेक्स शुरू हो गया। 
दरअसल चाहत के मामा का घर दमोह के असाटी वार्ड में स्थित है जहां इनके मामा मामी अपनी गोद ली बेटी के साथ रहते हैं। करीब महीने भर पूर्व जब चाहत के ऊपर उनकी कानपुर निवासी सहेली ने गंभीर आरोप लगाए थे और इसको लेकर मीडिया में किरकिरी हुई थी तो चाहत के मामा तनुज पाराशर ने अपने न्यूज़ पोर्टल में चाहत के फेवर में खबर लगाई थी। 
तभी से चाहत की माँ तथा मामी के बीच व्हाट्सएप पर चैट के जरिए बातचीत शुरू हो गई थी।लेकिन कुछ ही दिन में व्हाट्सएप चैट पर ही जब टकराव विवाद के हालात निर्मित होने लगे तो मामी ने चाहत की मां को व्हाट्सएप पर ब्लॉक कर दिया। इसी के साथ एक नए विवाद की शुरुआत हो गई। 
करीब एक सप्ताह पूर्व चाहत का भाई तथा मां अपने मामा के निवास पर पहुंचे थे। जहाँ  गाली गलौज करके एक सप्ताह बाद मामा पर हमला करने की धमकी देते हुए वापस लौट गए। जिसकी शिकायत कोतवाली में दर्ज कराए जाने के साथ मोबाइल पर धमकाने की ऑडियो क्लिप पुलिस को पेश की गई थी। लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज करने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं की थी। 
इधर मंगलवार 16 जून को एक सप्ताह का वक्त पूरा होने के साथ रात करीब 8:30 बजे चाहत का भाई अपनी मां तथा बहन के साथ असाटी वार्ड स्थित मामा के घर पर जा पहुंचा। जहां इनके द्वारा तोड़फोड़ गाली गलौज करते हुए जमकर उत्पात मचाया गया। पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी में रिकॉर्ड हो जाने के साथ घटना की शिकायत कोतवाली पहुंचने पर पुलिस को एक बार पुनः विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज करना पड़ा। 
और इसी के चलते आज चाहत पांडे उसके भाई और मां को सीजीएम कोर्ट में पेश किए जाने के बाद जेल भेज दिया गया। फिल्मी स्टोरी तथा टीवी सीरियल के ड्रामों को पीछे छोड़ता यह पारिवारिक विवाद आगे चलकर क्या गुल खिलाएगा यह बता पाना फिलहाल मुश्किल है। लेकिन सोशल मीडिया पर व्हाट्सएप चैट पर मामी द्वारा अपनी भाभी को ब्लॉक कर दिए जाने पर से सामने आए पूरे हालात और घटनाक्रम ने वर्तमान सामाजिक परिदृश्य पर व्हाट्सएप चैटिंग के लगातार दुष्प्रभाव के हालात को उजागर करके रख दिया है।
 घर में रहकर भी घर परिवार के सदस्यों के लिए टाइम नहीं निकाल पाने तथा व्हाट्सएप पर दिन-रात बिजी रहने वालों के लिए यह घटनाक्रम एक सबक हो सकता है। ऐसे में सोशल मीडिया और व्हाट्सएप पर ज्यादा समय देने वाले लोग सतर्क रहें क्योंकि यह रिश्तो को जोड़ने से ज्यादा तोड़ने में अहम भूमिका निभाते देखे जा सकते हैंआज नहीं तो कल इन सभी की जमानत हो जाएगी लेकिन रिश्तो में "जानी दुश्मन" जैसी आई कड़वाहट क्या फिर से "आपसी चाहत" में बदल पाएगी यह सबसे बड़ा सवाल है। इसका जवाब वक्त केे सिवा किसी के पास नही है। अटल राजेंद्र जैन..

Post a comment

0 Comments