Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

नौगजा पहाड़ी पानी टंकी पर चढ़कर नहाते आधा दर्जन किशोरों का वीडियो वायरल.. दहशत व जनाक्रोश के बाद पुलिस ने चार को हिरासत में लिया.. कोरोना वायरस संक्रमण काल में पेयजल सुरक्षा को लेकर नपा की घोर लापरवाही उजागर..

पानी टंकी पर चढ़कर नहाते किशोरों का वीडियो वायरल.
दमोह। देश दुनिया के साथ दमोह में भी  कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर चिंता बनी हुई है। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए करीब डेढ़ महीने से लॉक डाउन के साथ तरह तरह से सुरक्षा इंतजाम करके सावधानी बरतने लोगों को सतर्क किया जा रहा है। वही पुलिस प्रशासन विभिन्न विभागों से जुड़े कोरोना योद्धा संक्रमण को रोकने के लिए दिन रात एक करते हुए  विपरीत परिस्थितियों में भी पानी सफाई स्वास्थ्य सुरक्षा विद्युत जैसे आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करा रहे हैं। 
इसके बावजूद पेयजल सुरक्षा के मामले में नगर पालिका प्रशासन की घोर लापरवाही सामने आई है। शहर के मध्य नौ गजा पहाड़ी पर स्थित पानी टंकी पर चढ़कर करीब आधा दर्जन किशोरों के नहाने का घटनाक्रम सामने आया है। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही लोग इसकी  पुष्टि करने में जुट गए। और जैसे ही यह पता लगा कि यह पूरा नजारा शुक्रवार शाम करीब साढ़े पांच 6 बजे का है तथा नहाने वाले नाबालिक समुदाय विशेष से संबंध रखते हैं तो तो लोगों के बीच दहशत के साथ आक्रोश भरा माहौल निर्मित होते देर नहीं लगी। 
मामला उच्चाधिकारियों तक पहुंचने के बाद पुलिस ने वायरल वीडियो में नजर आ रहे शोभा नगर सुल्तानी मोहल्ला क्षेत्र के निवासी चार नाबालिगों को हिरासत में लेने में देर नहीं की। वही नगर पालिका अधिकारी कपिल खरे द्वारा टंकी के पानी को खाली कराने के बाद पुनः सफाई करा कर कल भरे जाने के बाद ही जल सप्लाई कराने की बात कही गई है। कोतवाली टीआई एचआर पांडे का कहना है कि 5 में से चार नाबालिगों को हिरासत में लेकर धारा 269, 270, 277, 34, 188 आपदा प्रबंधन की धारा सहित प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई है। वहीं पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।
पुलिस प्रशासन द्वारा समय रहते इस गंभीर घटनाक्रम को लेकर सक्रियता दिखाने से मामले का पटाक्षेप होता नजर आ रहा है। वहीं मामले को सांप्रदायिक रंग देकर तूल देने वालों के मंसूबों पर भी पानी फिरता दिख रहा है। लेकिन फिर भी सवाल यही उठता है कि यदि कोई बच्चा डूब जाता या इनके नहाने के बाद यही पानी सप्लाई होने पर इसको पीने से कोई बीमार पड़ता और फिर इसके बाद  इस वीडियो को वायरल किया जाता तो निर्मित तनावपूर्ण हालात का जिम्मेदार कौन होता.. पिक्चर अभी बाकी है..

Post a comment

1 Comments

  1. गुटखा खाना और खाकर थूकना अपराध हो गया। और एक हजार रुपए का जुर्माना भी हो गया, मैं प्रदेश प्रशासन से कहना चाहता हूं।आप उन गूटखा बनाने वालोें पर और बेंचने बालों को जेल की हवा क्यों नहीं खिलाते, शराब बेचने वालोें पर कार्रवाई क्यों नहीं करते,अगर जनता को गुटखा नहीं मिलेगा और शराब नहीं मिलेगी तो वह ऐंसी चीज खाएगा और पियेगा ही क्यों।
    पुरानी कहावत में कहा गया है:-ना होगा बांस,
    ना बनके बजेगी बांसुरी।
    जय हिन्द,जय भारत।

    ReplyDelete