Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

शराब दुकान खोलने के निर्णय पर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने शिवराज सरकार पर साधा निशाना.. इधर मप्र शराब एशोसियन ने किया दुकाने खोलने से इंकार.. दमोह में कल से किराना दुकाने 4 घंटे, शराब दुकाने 12 घंटे खुलेंगी.. नरसिंहगढ़ शराब दुकान में चोरी या षड्यंत्र ..

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा का शिवराज सरकार पर निशाना
भोपाल। देश भर में कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु जारी लाक डाउन 3 के दौरान मप्र में शिवराज सरकार द्वारा शराब दुकान खोले जाने के निर्णय की प्रदेश भर में तीखी प्रतिक्रिया सामने आ रही हैै। इस मामले में प्रदेश के पूर्व जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। श्री शर्मा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहां कि लोगों को राशन नहीं मिल रहा लेकिन शराब उपलब्ध कराई जा रही है।
 पूर्व जनसंपर्क मंत्री पी सी शर्मा ने कहा कि शराब की दुकानें बंद की जाए मंदिर नहीं खुल रहा है मस्जिद नहीं खुल रही है ऐसे में शराब की दुकानें खुल्ला उचित नहीं है वहीं उन्होंने पत्रकारों के लिए मांग की है  बड़े पत्रकारों को तो आर्थिक सहायता मिल जाती है लेकिन जो पत्रकार  जमीन से जुड़कर काम कर रहे हैं उनको भी सहायता राशि दी जाए। 
मप्र शराब एशोसियन का इंकार दुकाने खोलने से इंकार  
इधर भोपाल में मप्र शराब एशोसियन द्वारा वर्तमान शर्तों के आधार पर कल से शराब दुकानें खोलने से इंकार कर दिए जाने की खबर भी सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि प्रदेश के प्रमुख शराब ठेकेदारों ने इस मामले में आबकारी आयुक्त से मुलाकात करके अपना पक्ष स्पष्ट कर दिया है। यदि सरकार इनकी मांगो को नहीं मानती है तो हो सकता है दुकानें खोलने के आदेश के बाद भी शराब दुकान में ताले पड़ रहे। तथा सुरा प्रेमियों को अपना शोक पूरा करने के लिए ब्लैक में भी शराब नही मिले..
लॉक डाउन में शराब खरीदने पुलिस से कैसे बचेंगे..  
दमोह। ग्रीन जोन में शामिल दमोह जिले में कल 5 मई से सुबह 7:00 बजे से शाम के 7:00 बजे तक देसी विदेशी शराब की दुकानों के साथ भांग की दुकानें भी धड़ल्ले से खोली जाएंगी। लेकिन किराना पशु आहार आटा चक्की खाद बीज आदि की दुकान है पूर्व की तरह सुबह 8 से 12 याने 4 घंटे के लिए ही खोली जा सकेंगी।  
सोमवार दोपहर जिला दंडाधिकारी तरण राठी द्वारा दमोह जिले में 5 मई से शराब दुकान खोले जाने के  आदेश जारी कर दिए गए है। जिसकी खबर लगने से करीब डेढ़ माह से दोगुने तीनगुने दामों में शराब खरीदने  वालों के चेहरे खिल गए हैं वही शराब खोरी से राहत महसूस करने वाले महिला वर्ग के चेहरे पर पर टेंशन की लकीरे साफ देखी जा सकती है। सोशल मीडिया पर भी इस मामले में  काफी तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। लोग यहां तक लिख रहे है कि मंदिर में भीड़ से कोरोना फैलेगा ओर कलारी की भीड़ से कृपा बरसेगी। शराब लेने जाने वालों की उंगली पर वोटिंग करने वालों की तरह नहीं छूटने वाली स्याही के निशान लगाए जाने और ऐसे लोगों का पीडीएस का सस्ता अनाज और दानदाताओं द्वारा दी जाने वाली खैरात की सामग्री पर भी रोक लगाने जैसे कमेंट भी बाटस ग्रुपों में जमकर कापी पेस्ट हो रहे है। 

 इधर आज से आवश्यक सामग्री की दुकानों को खोले जाने के मामले में केंद्र तथा राज्य सरकार के दिशा निर्देशों के अनुसार ग्रीन जोन वाले जिलों में छूट की उम्मीद कर रहे दमोह वासियों को किसी प्रकार की कोई रियायत नहीं मिलने के बाद लोग यह सवाल उठाने से भी नहीं चूक रहे हैं जब लाक डाउन के दौरान किराना आदि सामग्री लेने वालों को पुलिस 12 बजे के पहले डंडे दिखाकर भगाने लगती है। ऐसे में शराब लेने जाने वालों को पुलिस कैसे पहचानेगी तथा क्या गारंटी होगी कि दारू की बोतल दिखाने या पिए हुए नजर आने के बाद पुलिस उस पर अपना डंडा नहीं चलाएगी..
नरसिंहगढ़ दुकान में फर्जी चोरी की जांच अधूरी. 
देहात थाना अंतर्गत नरसिंहगढ़ के सीतानगर रोड शराब दुकान से लाखों की अंग्रेजी शराब चोरी होने की फर्जी घटना की जांच अभी तक शुरू नहीं हो सकी है। वहीं शराब दुकान के पीछे की दीवार में छेद करके लाखों की शराब की बाटल चोरी हो जाने की बात किसी के पल्ले नहीं पड़ रही है। स्थानीय जानकारों का कहना है कि एक कूट रचित साजिश के तहत इस बात को प्रचारित किया जा रहा है। जिससे लाक डाउन के दौरान रातों-रात चंपत पिपरिया तथा आसपास के इलाकों में कई गुना महंगे दामों में दिन दहाड़े बेची जाती रही है। यहां तक की लाक डाउन में जबलपुर से लाकर भी शराब बिक्रय की खबर सामने आई है। 

इस मामले में नरसिंहगढ़ के किसी भी नागरिक से चर्चा करने पर यही जवाब मिल रहा है कि यहा कोई चोरी नहीं हुई है, षड्यंत्र रचा गया है। सीसीटीवी कैमरे बंद कराकर रातों रात दुकान से शराब निकलवा कर बिकवा दी गई है। विक्रय की गई शराब का हिसाब आबकारी विभाग को नहीं देना पड़े और पुलिस की नजरों में से चोरी की घटना बताया जा रहा है इस मामले में 2 दिन पूर्व नरसिंहगढ़ चौकी प्रभारी को सादे कागज पर आवेदन देकर औपचारिकता पूरी करने की कोशिश की थी। ऐसे मैं चौकी प्रभारी मनोज यादव के लिए जन अपेक्षा के अनुरुप अब अग्नि परीक्षा जेसे हालात बने हुए हैं। देखना होगा इसमें वह कितना इतना खड़ा उतरते हैं। पिक्चर अभी बाकी है.. 
अभिषेक पाठक की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments