Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

तेंदूखेड़ा नरसिंहपुर की मदनपुर चेकपोस्ट पर पकड़ा गया पत्थरवाज जावेद.. जबलपुर मेडिकल से फरार NSA बंदी, कोरोना पाजेटिव पर था दस हजार का इनाम.. ट्रक से राजमार्ग पहुचकर बाइक चोरी करके वापिस भाग रहा था इंदौर..

 जबलपुर मेडिकल से फरार जावेद पकड़ा गया.. 
नरसिंहपुर। जबलपुर मेडिकल से इलाज के दौरान फरार हुए इंदौर निवासी एनएसए के आरोपी जावेद खान को पुलिस की कड़ी नाकेबंदी के बीच नरसिंहपुर जिले के तेंदूखेड़ा थाना अंतर्गत मदनपुर चेक पोस्ट से सोमवार को आखिरकार पकड़ लिया गया है, इसकी गिरफ्तारी पर जबलपुर एसपी द्वारा 10000 रूपए का इनाम घोषित किया गया था।
 सोमवार सुबह नरसिंहपुर जिले के तेंदूखेड़ा थाना अंतर्गत मदनपुर चेकपोस्ट पर पुलिस जांच के दौरान बाइक से जा रहे जावेद को एएसआई बसंत शर्मा ने पहचानने में देर नहीं की तथा उसे हिरासत में ले लिया गया। पुलिस पूछताछ के दौरान उसने बताया कि जबलपुर मेडिकल से भागने के बाद वह एक आईसर ट्रक के सहारे राजमार्ग चौराहे तक पहुंचा तथा यहां से एक बाइक चोरी करके वह इंदौर जा रहा था। लेकिन रास्ते में मदनपुर चेक पोस्ट पर उसे सबसे पहले वनरक्षक प्रेम से साहू ने देखा और वह पकड़ लिया गया। बाद में साथी वनरक्षक आ गए और पुलिस को भी बुलाया गया।
 खास बात है कि वह बाइक चोरी करने के अलावा अपने कपड़े भी बदल चुका था लेकिन सोशल मीडिया के जरिए चारों तरफ उसके फरारी का मैसेज पहुंच जाने तथा पुलिस के अलावा वन रक्षकों के अलर्ट रहने की वजह से आखिर कार वह पकड़ा गया। एनएसए में निरुद्ध कोरोना पॉजिटिव जावेद की गिरफ्तारी से आम नागरिकों ने राहत की सांस ली है। क्योंकि उसके फरार हो जाने के बाद लोग आशंकित थे कि ना जाने वह कितने लोगों के संपर्क में आने के बाद उनको भी संक्रमित कर दे। वनरक्षक प्रिंस साहू और उसकी टीम के सभी सदस्य को नरसिंहपुर कलेक्टर में पुरुष को सम्मानित करने की घोषणा की है।
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों इंदौर में कोरोना मरीजों की जांच करने के लिए गई स्वास्थ्य कर्मियों की टीम पर कुछ पत्थरबाजों द्वारा हमला किया गया था। जिसके बाद पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ एनएसए के तहत कार्यवाही करते हुए उन्हें जबलपुर सेंट्रल जेल भेज दिया गया था। जहां प्रवेश के पूर्व कराई गई जांच में इंदौर निवासी जावेद कोरोना पाजेटिव पाया गया था। जिसका इलाज जबलपुर मेडिकल में चल रहा था। 
रविवार को वह मौका पाकर फरार हो गया था। जिसकी गिरफ्तारी पर जबलपुर एसपी ने 10000 रूपए का इनाम घोषित करते हुए चारों तरफ नाकाबंदी के निर्देश दिए थे। इसके बाद भी वह जबलपुर से भागने में सफल रहा। कोरोना पॉजिटिव जावेद की गिरफ्तारी से आम नागरिकों ने राहत की सांस ली है। उसे हिरासत में लिए जाने के बाद पुलिस इस बात की भी पूछताछ कर रही है कि वह मेडिकल से भागने के बाद कहां-कहां किन किन लोगों के संपर्क में आया। वहीं इसकी गिरफ्तारी के जबलपुर वापस लाया जा रहा है। 

Post a comment

0 Comments