Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

मासूम से दरिंदगी दिखाने वाला हैवान गांव का ही सचिन सेन निकला.. पांच रूपए का लालच देकर ले गया था भूसे की सार में..पुलिस ने आठ घंटे में पतासाजी करके 25 हजार के इनामी पर शिंकजा कसा.. सागर आईजी ने किया घटनाक्रम का खुलासा..

पुलिस ने 8 घंटे में 25 हजार के इनामी पर शिंकजा कसा
दमोह जिले के जबेरा थाना अंतर्गत एक मासूम बालिका के साथ दरिंदगी दिखाते हुए बलात्कार करने के आरोपी का पता लगाने के साथ पुलिस ने 8 घंटे में उसे गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता हासिल की है आरोपी गांव का ही एक युवक निकला है। जिसने सूने पड़े एक मकान में मासूम को जबरन ले जाकर वारदात को अंजाम दिया और बाद में घर में छुप कर बैठ गया। पहले मामले में दो आरोपियों के नाम सामने आ रहे थे लेकिन अचानक एक नाम जो प्रभावशाली  वर्क से बताया जा रहा था,  का नाम गायब हो जाने को लेकर भी तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है।
  दमोह पुलिस कंट्रोल रूम में गुरुवार शाम 7:30 बजे अचानक बुलाई पत्रकार वार्ता में सागर आईजी  अनिल शर्मा ने डीआईजी आर एस डहेरिया एसपी हेमंत चौहान एवं एएसपी विवेक लाल की मौजूदगी में पूरे घटनाक्रम की जानकारी पत्रकारों को देते हुए पत्रकारों के सवालों के जवाब भी दिए। उन्होंने बताया कि बुधवार शाम करीब 7 बजे मासूम को अकेला देखकर सचिन सेन में 5रूपए का लालच दिया। तथा भूसा रखने की सार नुमा सुने कमरे में ले जाकर उसके साथ जबरदस्ती करते हुए बलात्कार की वारदात को अंजाम दिया इस दौरान उसके चीखने पर मुंह दबाने के साथ आंखों को आघात पहुंचाने से भी आरोपी नहीं चूका तथा पीड़िता जब बेहोश हो गई तो चुपचाप अपने घर आकर सो गया।
गुरुवार सुबह जबेरा थाने में पीड़िता की मां द्वारा दर्ज कराई गई रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ 363, 366, 376, 307 सहित अन्य धाराओं में अपराध पंजीबद्ध किया था। पीड़िता का जबेरा स्वास्थ्य केंद्र में प्राथमिक उपचार के बाद उसे जबलपुर रेफर कर दिया गया था इधर घटना की जानकारी लगते ही जबेरा टी आई दीपक खत्री पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। 
बाद में दमोह से SP हेमंत चौहान ने मौके पर पहुंचकर जानकारी ली तथा आरोपी की पतासा जी एवं गिरफ्तारी पर  10000 रूपए का इनाम घोषित करते हुए एसआईटी टीम का गठन एडिशनल एसपी विवेक लाल के नेतृत्व में किया था। इधर दोपहर में सागर डीआईजी आर एस डहेरिया और बाद में आईजी अनिल शर्मा भी मौके पर पहुंचे थे तथा उनके द्वारा ए नाम की राशि को बढ़ाकर 25000 रूपए कर दिया गया था

प्रदेश भर में इस घटना को लेकर आक्रोश भरे माहौल तथा स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा सख्त कदम उठाने के निर्देशों के बीच पुलिस ने गांव के करीब 3 दर्जन लोगों से अलग-अलग पूछताछ की। इस दौरान गांव के कुछ युवकों पर कल शराब पीकर आने की जानकारी भी सामने आई थी। वही शक के आधार पर सचिन सेन नाम के युवक से पूछताछ की गई तो उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया था। तथा अपराध में गांव के ही एक प्रभावशाली व्यक्ति के बेटे का नाम भी शामिल होना बताया था। शायद यही वजह थी कि पहले इस मामले में 2 लोगों के शामिल होने की जानकारी ऊपर तक पहुंची थी और मुख्यमंत्री ने भी 2 लोगों के पकड़ जाने की बात कही थी। लेकिन बाद में  एक आरोपी का नाम ही पत्रकार वार्ता में सामने आया इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं व्याप्त है।
बताया जा रहा है कि वारदात के वक्त आरोपी शराब के नशे में धुत थे। ऐसे में सवाल यह भी उठ रहा है कि जब ला डाउन के दौरान लोगों को चाय और पान नहीं मिल पाता ऐसे में गांव में शराब का बिकना आश्चर्यजनक है। वही पत्रकार वार्ता के दौरान जब इस मामले में आईजी का ध्यान आकर्षित कराया गया तो उनका कहना था कि अलग से जांच का विषय है। फिलहाल 8 घंटे के अंदर अंधे हैवानियत भरे मामले का पर्दाफाश हो जाने से पुलिस ने जहां राहत की सांस ली है। मासूम की आंखें फोड़े जाने के मामले में आईजी का कहना है कि उसका मुंह दबाने के दौरान आरोपी की उंगली आंखों में लगने की वजह से आंखों को चोट पहुंची है जिसमें अब सुधार है। 
पिक्चर अभी बाकी है.. जल्द बताएंगे नोहटा जबेरा सहित जिले के विभिन्न क्षेेत्रों में लाक डाउन के दौरान कहा कि ऐसी देसी अंग्रेजी शराब बिक रही है और जिम्मेदार क्यों आंखों पर पट्टी बांधे हुए.. अटल राजेंद्र जैन

Post a comment

0 Comments