Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

फलों की खाली कैरेट की आड़ में गेंहू तस्करी.. कर्नाटक के ट्रक में चोरी छिपे जा रहा था 140 बोरी गेंहू.. SP के निर्देश पर मडियादो पुलिस ने पकड़ा, हटा मंडी ने 5 गुना जुर्माना लगाया.. मलहरा छतरपुर के गल्ला व्यापारी व कपिल गैंग से जुड़े तार.. !

 कर्नाटक के ट्रक में चोरी छिपे जा रहा था140 बोरी गेंहू..  
दमोह। जिले में गेहूं उपार्जन के पहले किसानों से कम दाम में चोरी छुपे गेहूं की खरीदी करके और मंडी टैक्स की चोरी करते हुए प्रदेश के बाहर रवाना किए जाने का एक और मामला सामने आया है। एसपी के निर्देश पर मडियादो थाना पुलिस द्वारा ट्रक को पकड़े जाने तथा हटा मंडी की टीम द्वारा 5 गुना जुर्माना की कार्यवाही की गई है। फलों की कैरेट की आड़ में मेंगलोर जा रहे इस गेंहू तस्करी के तार मलहरा के चर्चित असाटी और दमोह के कपिल गैंग से जुड़े बताए जा रहे हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार लॉक डाउन के दौरान हटा अनुविभाग के मड़ियादो थाना अंतर्गत मादो गांव में कर्नाटका पासिंग के ट्रक क्रमांक KA 67-0108 में मंगलवार को दिन दहाड़े गेहूं के बोरे लादे जा रहे थे। जिसकी जानकारी स्थानीय पुलिस को दिए जाने पर भी अनदेखी की जा रही थी।
 जिसके बाद इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के साथ खबर एसपी हेमंत चौहान तक पहुंची बाद में मंगलवार रात एसपी के निर्देश पर मजबूरी में मौके पर पहुंची बढ़िया दो पुलिस में जांच कार्रवाई शुरू की। पुलिस ने जब गेहूं से संबंधित दस्तावेज दिखाने को कहा तो ट्रक चालक ने एक स्थानीय किसानों को आगे कर दिया।
 जिसके द्वारा उपरोक्त गेंहू पहले खुद का और बाद में अन्य किसानों से खरीदने की बात कही गई। जिसके बाद हटा कृषि उपज मंडी मंडी के अधिकारियों को सूचना देकर मौके पर बुलाया गया। जिनके द्वारा जांच करने पर 140 बोरी गेहूं पाए जाने पर 5 गुने मंडी टैक्स वसूलने की कार्रवाई करते हुए करीब साढ़े 12 हजार का जुर्माना की रसीद देर रात काटकर अपनी जिम्मेदारी से मुक्ति पा ली। वही लाक डाउन में यह सब होने की वजह से मडियादो थाना पुलिस द्वारा निषेधाज्ञा उल्लंघन 188 शायद अन्य धाराओं के तहत कार्रवाई की जा रही है।
मामले में खास बात है कि ट्रक में गेहूं के बोरे भरने के बाद पीछे से तथा ऊपर से इन्हें छिपाने के लिए सब्जी तथा फल के खाली कैरेट भर दिए गए थे। वही बीती रात रजपुरा थाना पुलिस ने रात 2 बजे डीएसपी के पी सिंह के निर्देशन में चेकिंग के दौरान इसी ट्रक क्रमांक KA 67-0108 को पकड़ा था। इस दौरान ट्रक चालक ने नेशनल परमिट का हवाला देकर फल सब्जी के परिवहन का हवाला देकर गुमराह करने की कोशिश की। जिस पर इसे मडियादो तरफ जाने देने की वजह छतरपुर तरफ भेज रवाना कर दिया गया था। लेकिन मंगलवार सुबह दूसरे रास्ते से घूम कर यह मडियादो पहुंच गया। 
गेहूं तस्करी से जुड़े  इस ताजे मामले में सूत्रों का कहना है हटा कृषि उपज मंडी के लाइसेंस पर गांव गांव में किसानों से  औने पौने दामों पर गल्ला खरीदने का काम करने वाले  छतरपुर जिले के मलहरा के गल्ला व्यापारी भागीरथ असाटी तथा दमोह की कपिल गैंग के तार भी इस से जुड़े हुए हैं। जानकारों का कहना है कि यह लोग 15 सो रुपए क्विंटल में नगद में गांव में आकर गेहूं खरीदते हैं। जिससे घर बैठे गेहूं बिक जाने तथा आने-जाने की ढुलाई वाहन का खर्च बचाने अनेक किसान इन्हें धड़ल्ले से बेच रहे हैं। 
यहां उल्लेखनीय है कि लॉक डाउन में सभी थाना क्षेत्रों में पुलिस जांच के चलते यह ट्रक पकड़े गए हैं। वही कल से सरकारी गेहूं उपार्जन प्रारंभ हो जाने से अब किसानों की आड़ में धड़ल्ले से गड़बड़ी का मौका मिलना शुरू हो जाएगा। गौरतलब है कि पूर्व के वर्षों में कलेक्टर जे विजय कुमार और नीरज कुमार के टाइम पर गेहूं तस्कर गिरोह के खिलाफ 4 एफआईआर दर्ज हुई थी। जिनकी कार्यवाही को विभाग के अधिकारी दबाए बताए जा रहे हैं। वही  चर्चित गल्ला व्यापारी जमानत पर है अथवा फरारी में इसका पता नहीं लग सका है। 
हटा मंडी में धड़ल्ले से जारी इस फर्जीवाड़े को लेकर सूत्रों का कहना है कि लॉक डाउन में 22 मार्च से 14 अप्रैल के बीच हटा मंडी द्वारा संबंधित फर्म को 285 ट्रकों के अनुज्ञा बनाए गए। जो कि अवैधानिक और  फर्जी है। जानकारी मिली है कि जो एफ आई आर हुई थी और उस दौरान लगी रोक पर भी हटा मंडी सचिव ने उस आधार पर अनुज्ञा बना दिए हैं। पूरी हटा मंडी इसमें लिप्त है। जल्द और खुलासे के साथ फिर मिलते हैं। पिक्चर अभी बाकी है..अटल राजेन्द्र जैन

Post a comment

0 Comments