Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

वन टू का फोर.. भाजपा नेता के के्रशर मंजूरी की आड़ में चल रहा था दूसरा अवैध के्रशर.. विधायक रामबाई के भ्रमण के दौरान खुलासे से हड़कंप.. भाजपा के पूर्व विधायक और खनिज विभाग के बड़े अधिकारियों पर संरक्षण के आरोप..

विधायक के निरीक्षण में फर्जी क्रेशर संचालित मिला- 
दमोह। अंग्रेजी में "वन टू का फोर" तथा बुंदेलखंडी में "आड़ में झाड़" की की कहावत तो सभी ने सुनी होगी। लेकिन आज इसे चरितार्थ होते भी देखा जा सकता है। करोड़ों की लागत से भाजपा शासन में शुरू हुई पंचम नगर सिचाई परियोजना के दौरान खड़ेरी क्षेत्र में नहरों के लिए की गई खुदाई में भारी मात्रा में पत्थर तथा गिट्टी निकली थी। परंतु नहरे बनने के पहले ही कार्ययोजना में संशोधन करते हुए पाईपों के जरिए पानी सप्लाई की मंजूरी करा दी गई थी। जिससे स्थानीय लोगों को भले ही अभी तक लाभ नहीं मिला हो लेकिन नेता, अधिकारी, ठेकेदारों के गठजोड़ को कमाई का एक ओर मौका मिल गया था। इधर पंचम नगर की नहरों की खुदाई में निकले हजारों ट्राली पत्थरों को गिट्टी तथा रेत में बदलकर निर्माण कार्यो में खफाने का दौर भी खड़ेरी क्षेत्र में भाजपा शासन काल के दौरान ही शुरू हो गया था। इसको लेकर बाद में हो हल्ला मचने पर भाजपा नेता के भाई को एक के्रशर की परमीशन भी खनिज विभाग से दिला दी गई थी। जो सरकार बदलने के बाद भी जारी है। इधर इस परीमशन की आड़ में एक ओर र्केशर का संचालन शुरू करके गिट्टी और रेत का निर्माण करके धड़ल्ले से शासन की आंखों में धूल झोंकी जाती रही। 
 "वन टू के फोर" के इस मामले की जानकारी लगने पर पथरिया विधायक रामबाई सिंह परिहार गुरूवार को खेड़ेरी के समीप चल रहे के्रशर का निरीक्षण करने पहुची। इस दौरान उन्होंने जब खनिज निरीक्षक की मौजूदगी में के्रशर संचालकों से लीज सहित परमीशन के कागजात दिखाने को कहां तो जगदीश पटेल के के्रशर से संबंधित कुछ कागजात तो पेश कर दिए गए लेकिन समीप ही चल रहे दूसरे के्रशर संचालक जयकांत राय के केशर संबंधी परमीशन, लीज सहित अन्य कोई भी कागजात नहीं मिले। 
जिसके बाद विधायक रामबाई ने तहसीलदार जानकी उईके को मौके पर बुलाकर जांच करते हुए कड़ी कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिए है। इस दौरान मीडिया से चर्चा के दौरान विधायक रामबाई ने भाजपा के पूर्व विधायक लखन पटेल का नाम लिए बिना उनका तथा खनिज विभाग के एक बड़े अधिकारी भदोरया के कथित संरक्षण से खनिज के इस अवैध करोवार के फलीभूत होने के आरोप लगाते हुए पूरे मामले की जानकारी भोपाल तक देने तथा किसी को भी नहीं बखशे जाने की  बात कहीं है। 
इसी तरह गूगरा कला में संचालित दुलीचंद पटेल के अवैध के्रशर पर भी कारवाई कराने की उन्होंने बात कहीं है। वहीं बताया जा रहा है कि दमोह के एक खबरची की क्रेशर संचालक से सेटिंग नहीं जम पाने से उसकेे द्वारा विधायक रामबाई के निरीक्षण के जरिए अपना उल्लू सीधा करने की जुगाड़ जमाई गई है। देखना होगा विधायक की विजिट के बाद उजागर हुए फर्जीवाड़े पर खनिज विभाग कोई बड़ा एक्शन लेता है अथवा पूर्व की तरह कुछ अन्य नेता पत्रकारों के निरीक्षण के बाद बने ढाक के तीन पात जैसे हालात में सब कुछ जारी रहता है।  अभिजीत जैन के साथ राजेंद्र तिवारी की रिपोर्ट 

Post a comment

0 Comments