Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सागर लोकायुक्त ने रिश्वतखोर मैनेजर के साथ चपरासी को भी पकड़ा.. प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना का लोन मंजूर करने एक लाख की रिश्वत मांगना महंगा पड़ा.. जमानत हुई निरस्त.. साहब के साथ चपरासी की दीवाली जेल में !

लोकायुक्त ने बैंक मैनेजर को रिश्वत लेते हुए हाथों पकड़ा.. 
सागर। लोकायुक्त टीम ने बैंक ऑफ बड़ौदा खुरई के मैनेजर को चपरासी के जरिए 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों दबोचने के बाद न्यायालय में पेश किया। जहां से चपरासी के साथ साहब को भी जेल भेज दिया गया है। रिश्वतखोरो के खिलाफ कोर्ट के सख्त रुख को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है जब रिश्वतखोर साहब के साथ चपरासी की भी दिवाली जेल में ही मनेगी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार खुरई निवासी मयंक जैन की बहन प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना 9 लाख 90 हजार का लोन प्रकरण बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा खुरई में मंजूरी के लिए लंबे समय से अटका हुआ था। लोन केस की मंजूरी के लिए बैंक के मैनेजर जितेंद्र श्रीवास के द्वारा लोन राशि का 10 परसेंट यानि करीब एक लाख रुपये रिश्वत के तौर पर मांगा जा रहा था। जिसकी शिकायत मयंक के जैन द्वारा सागर पहुंचकर लोकायुक्त SP रामेश्वर यादव से की गई थी जिसकी पड़ताल के बाद बुधवार को खुरई पहुंची लोकायुक्त की टीम ने अपना जाल बिछाया।

 इस दौरान बैंक के चपरासी निखिल यादव के माध्यम से 20000 रुपए रिश्वत की प्रथम किस्त के रूप में लेते हुए बैंक मैनेजर जितेंद्र श्रीवास को पकड़ने में लोकायुक्त ने कोई गलती नहीं की। मामले में चपरासी को सह आरोपी बनाते हुए साहब के साथ भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं के प्रकरण में माननीय न्यायालय में पेश किया गया। जहां प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए बालों को जमानत नहीं मिल सकी और उन्हें जेल भेज दिया गया। खुरई से मनोज बाधवानी की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments