Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

वन विभाग में अधिकारियों का जंगल राज..! मजदूरी नही मिलने से गुस्साए सैकड़ो मजदूरो ने आधी रात तक किया हटा बस स्टैंड पर प्रदर्शन.. SDM ने चर्चा कर भुगतान का भरोसा दिलाया..

 मजदूरो ने आधी रात तक किया हटा बस स्टैंड पर प्रदर्शन
दमोह। वन विभाग में अधिकारियों के जंगल राज जैसे हालात किसी से छिपी नहीं है बाहरी मजदूरों को बुलाकर गड्ढे मजदूरी का काम कराने और भुगतान के नाम पर चुप्पी साध लेने जैसे हालात लगभग हर साल त्यौहार के पहले सामने आते हैं। ऐसा ही नजारा एक बार फिर हटा रजपुरा क्षेत्र के जंगलों में गड्ढा खोदने के काम करने वाले मजदूरों के मामले में सामने आया है। जिन्होंने दिवाली के पहले अपने हजारों लाखों रुपए मजदूरी भुगतान के नहीं मिलने पर आधी रात तक हटा बसस्टेंड पर धरना देकर प्रदर्शन किया। जानकारी लगने पर हटा एसडीएम से चर्चा की और भुगतान कार्रवाई कराने का भरोसा दिलाया।
कटनी के ढीमरखेड़ा गांव से करीब 3 माह पहले हटा के जंगलों में मजदूरी करने आए इन मजदूरो का कहना है कि उनके द्वारा पूर्व में तथा कुछ माह पहले पोधारोपण और गड्ढे आदि कार्यो को दिन रात मेहनत करके किया गया  लेकिन मजदूरी के नाम पर  उन्हें ठेंगा दिखा दिया गया  जिससे उनकी किराना खाने-पीने की सामग्री वालों की उधारी हो गई है वहीं अब त्यौहार के मौके पर जब उनका अपने गांव अपने घर जाने का मौका आ गया  तब  रेंजर महोदय  मजदूरी देने की बजाय गायब हो गए।  ऐसे में उन्हें  ठंड भरे मौसम में अपने बीवी बच्चों के साथ  सड़क पर उतर कर प्रदर्शन करने को मजबूर होना पड़ा है। 
परिवार सहित दीवाली पर घर जाने को निकले यह मजदूर हटा वन परिक्षेत्र कार्यालय से वेरँग वापिस लौटकर हटा बस स्टैंड पर एकत्रित हुए तथा वन विभाग मुर्दाबाद की तख्तियां तैयार करके प्रदर्शन शुरू कर दिया। उनका कहना है कि वन विभाग के रेंजर द्वारा उन्हें 13 रुपये प्रति गढ्ढे मजदूरी के हिसाब से कार्य पर लगाया गया था। रजपुरा ,बटियागढ़ सहित कई क्षेत्रों में करीब 2 महीने कार्य करने के बाद भी मजदूरी नही मिली। उसके बाद प्लान्टेशन और लेंटाना सफाई और पुनः गढ्ढे कराए गए। लेकिन नाम मात्र का भुगतान हुआ। वह दीपावली के मौके पर अपना पूरा भुगतान चाहते हैं  लेकिन रेंजर गायब हो गए हैं। इधर मजदूरी नही मिलने से मजदूर परिवारों पर राशन, किराना का कर्ज हो गया। त्योहार पर अब वह घर जाना चाहते लेकिन खाली हाथ अब खाने तक को मोहताज हैं।मामले की नजाकत को समझते हुए हटा sdm राकेश मरकाम ने देर रात हटा  रेंज अधिकारी की उपस्थिति में सभी प्रदर्शनकारी मजदूरों को तहसील कार्यालय बुलाकर चर्चा शुरू की और जल्द भुगतान का भरोसा दिलाया। हटा से अनिल शर्मा की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments