Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सागर के बंडा थाना अंतर्गत 3 बच्चों सहित मां का शव मिलने से सनसनी.. मां ने कलेजे के टुकड़ों को फंदे पर लटका कर खुद भी फांसी लगाई.. पारिवारिक विवाद की भेंट चढ़ गई 4 जिंदगानी.. पुलिस जांच में जुटी..

3 बच्चो को फंदे पर लटका कर माँ ने भी फांसी लगाई.. 
सागर। बंडा थाना अंतर्गत पिपरिया चौदा गांव में बेहद दुखद घटनाक्रम सामने आया है। यहां एक मा ने अपनी ममता का गला घोटने जैसे हालात में 3 बच्चों को फंदे पर लटकाने के बाद खुद भी फांसी पर झूल कर जीवन लीला समाप्त कर ली। एक ही कमरे में चारों के शव फांसी के फंदे पर झूलते मिलने से सनसनी के साथ पूरे गांव में मातम का माहौल बना हुआ है। घटना की जानकारी लगने पर सागर एसपी ने भी मौके पर पहुंचकर जायजा लिया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को बंडा थाना अंतर्गत पिपरिया चौदा गांव के लोधी परिवार में एक महिला तथा उसके तीन बच्चों के शव घर के एक ही कमरे में फांसी के फंदे पर झूलते मिलने की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची तथा एफएसएल टीम को सूचना देकर पंचनामा कार्रवाई करते हुए शवों को फंदे से नीचे उतारा गया। मृतकों की पहचान हरि सिंह लोधी की पत्नी कुंती बाई 26 वर्ष, पुत्र पुष्पेंद्र 7 वर्ष पुत्री हरसिल 4 वर्ष और पुत्र अंकित डेढ़ वर्ष के तौर पर हुई है। 

मृतिका के पति सहित परिजन घटना की वजह को लेकर अनजान बने हुए हैं। वहीं पुलिस द्वारा सूचना दिए जाने पर सानोधा क्षेत्र से पहुंचे मृतिका के भाई ने उसके ससुराल वालों पर प्रताड़ना और घटना को छुपाने के आरोप लगाए हैं। घटना की जानकारी लगने पर मौके पर बंडा थाना प्रभारी कमल सिंह ठाकुर पुलिस टीम के साथ पहुंची बाद में सागर से एडिशनल एसपी भी पहुंचे।

 एसपी अमित सांघी ने बताया कि पहली नजर में मामला पारिवारिक विवाद का नजर आ रहा है। पुलिस घटनास्थल के हालात और पारिवारिक माहौल सहित सभी पहलुओं पर जांच में जुटी हुई है। इसके बाद ही घटना की वजह का खुलासा हो सकेगा। इस दुखद घटना क्रम ने सभी को झक झोर कर रख दिया है। नवरात्र के अंतिम दिन जब लोग हवन पूजन करने व माता रानी की विदाई की तैयारी में लगे हुए थे ऐसे में एक मां के साथ उसकी ममता रूपी 3 बच्चों की मौत ने पूरे गांव को मातम में डुबो दिया। कोई भी यह समझ नहीं पा रहा कि ऐसे कौन से हालात निर्मित हुए जिस वजह से एक मा ने अपने कलेजे के टुकड़ों को फांसी पर लटकाने के बाद खुद भी मौत को गले लगा लिया। बंडा से दिनेश लोधी की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments