Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

15 साल बाद आधी रात तक दिखी घंटाघर पर अखाड़ों की रौनक.. 200 से अधिक प्रतिमाएं विसर्जित.. राय चौराहे की प्रतिमा, महाकाली के नृत्य, पुराने थाने के कलाकारों, बालिकाओं की तलबारबाजी, दीपक क्लब की राष्ट्र भक्ति ने अभिभूत किया..

 आधी रात के बाद भी घंटाघर पर अखाड़ों की रौनक-
दमोह। नवरात्र समापन के साथ संपन्न दशहरा का पर्व अपनी अमिट छाप छोड़ता ऐतिहासिक चल समारोह के तौर पर अपनी याद दर्ज करता नजर आया। घंटाघर से प्रारंभ हुये दशहरा चल समारोह में बड़ी संख्या में प्रतिमाएं शामिल हुई। वही दिन में करीब 70-80 प्रतिमा झांकियां चल समारोह में शामिल हुए बिना ही विसर्जन के लिए फुटेरा तालाब पहुंची। इस तरह जिले भर में 200 से अधिक प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। विसर्जन का यह दौर प्रातः बेला तक चलता रहा।
 दमोह के ऐतिहासिक दशहरा चल समारोह का शुभारंभ मोरगंज गल्ला मंडी की प्रथम प्रतिमा की अगवानी और अखाड़ा प्रदर्शन के दौर से शाम करीब 7 बजे शुरू हुआ। इस मौके पर विधायक राहुल सिंह, नगर पालिका अध्यक्ष मालती असाटी, कलेक्टर तरुण राठी एसपी विवेक सिंह आदि ने आरती करके दशहरा चल समारोह का शुभारंभ किया। इसके बाद अखाड़ा प्रदर्शन का दौर देर तक चलता रहा वहीं मंच से सम्मान का सिलसिला भी शुरू हो गया। इस मौके पर पूर्व मंत्री जयंत मलैया, जिला कांग्रेस अध्यक्ष अजय टंडन, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष मनु मिश्रा सहित कांग्रेस भाजपा के अनेकों नेताओं की भी मंच पर मौजूदगी रही। शहर के कोने-कोने से आए नागरिकों के अलावा आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से आई जनता ने भी देवी प्रतिमाओं के दर्शन के साथ अखाड़ा के कलाकारों के प्रदर्शन का आनंद लिया।
राय चौराहे की प्रतिमा, महाकाली के नृत्य और पुराने थाने के कलाकारों ने अभिभूत किया-
दशहरा चल समारोह के दौरान जहां विभिन्न क्षेत्रों में स्थापित दुर्गा प्रतिमाये जहा जुलूस में भी अपनी अमिट छाप छोड़ती नजर आई वही राय चौराहे की विशाल और भव्य देवी प्रतिमा चल समारोह के दौरान भी आकर्षण का केंद्र बनी रही। इधर बजरिया वार्ड की प्रतिमा के साथ चल रही महाकाली मां की जीवंत झांकी असुरों का संहार करते हुए आकर्षण का केंद्र बनी रही। अखाड़ा प्रदर्शन के मामले में बिना शास्त्रों के भी पुराना थाना के जगदीश व्यायाम शाला के युवा तथा बाल कलाकारों की प्रस्तुति मंत्रमुग्ध कर देने वाली रही। पुराना थाना अखाड़ा के देर तक प्रदर्शन के चलते इनके पिछले क्रम में लगे राय चौराहा दुर्गोत्सव समिति के कुछ लोग आपत्ति जताते नजर आए। जैसे घंटा घर पर दोनों समितियों के लोगों के बीच तनातनी के हालात निर्मित हो गए परंतु सीएसपी मुकेश अविद्रा द्वारा हालात को पुरजोर कोशिश करके कंट्रोल में कर लिया गया। 
इमलाई के दीपक क्लब ने राष्ट्रभक्ति की अलख जगाई
दशहरा चल समारोह के दौरान राष्ट्रभक्ति पूर्ण प्रस्तुति के मामले में दीपक क्लब इमलाई के जय भारत दुर्गोत्सव समिति की प्रस्तुति ने सभी को पीछे छोड़ दिया। तिरंगा झंडे के साथ राष्ट्रभक्ति गीतों पर अनुपम प्रस्तुति कथा भारतीय सेना के जवानों की वेशभूषा में युवाओं की मौजूदगी, एक से बढ़कर एक मिसाइल, टेंक, तोप सहित भारतीय सेना के शास्त्रों के प्रदर्शन, नेताजी सुभाष चंद्र बोस से लेकर भगत सिंह जैसे क्रांतिकारियों की झांकियां दर्जनभर से अधिक ट्रैक्टरों में आकर्षण का केंद्र बनी रही। 
बालिकाओं ने गरबा कर शस्त्र चलाने में हाथ जमाये-
रात करीब 12 बजे घंटाघर पर बजरिया 7 बजरंग अखाड़ा के साथ पहुंची देवी प्रतिमा जहां आकर्षण का केंद्र रही वही सिर पर साफा से सुसज्जित समिति के सदस्य भी सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते रहे यहां पर बालिकाओं द्वारा जहां पहले गरबा के द्वारा जहां मां शक्ति की आराधना की गई वही बाद में तलवार आदि शस्त्र चला कर भी शक्ति का प्रदर्शन किया गया आकर्षण का केंद्र बना रहा।
आनंद भैया को समर्पित रहा घंटाघर का समारोह-
घंटाघर के शेर के नाम से विख्यात रहे हर दिल अजीज वरिष्ठ अधिवक्ता एवं दो बार निर्दलीय विधायक के तौर पर अपना डंका बजाने वाले आनंद भैया के बिना यह पहला चल समारोह रहा जब लोगों के कानों में आनन्द भैया की आवाज नहीं गूंजी। पिछले बार अस्वस्थता के बावजूद दशहरा चल समारोह में उपस्थिति दर्ज कराने वाले आनन्द भैया की याद में इस बार का चल समारोह अपनी अलग छाप छोड़ता नजर आया जगह-जगह आनंद भैया की तस्वीर वाले पोस्टर घंटाघर पहुंचने वालों को उनकी याद ताजा कराते रहे। वही उनके पुत्र एडवोकेट आलोक श्रीवास्तव आलोक श्रीवास्तव मंच संचालन के जरिए लोगों के जेहन में आनंद भैया की स्मृतियों को ताजा करते नजर आए। 

इस बार का दशहरा चल समारोह अनेक बरसों के बाद एक बार पुनः अपनी पुरानी अखाड़ा और देर रात तक प्रदर्शन की परंपरा की छाप छोड़ता नजर आया। पूर्व के बरसों में रात 12 बजे के पहले तक पुलिस प्रशासन द्वारा घंटाघर को चल समारोह मुक्त कर दिए जाने की कोशिशों के कारण अधिकांश अखाड़ा अपने प्रदर्शन को ठीक से नहीं कर पाते थे। परंतु इस बार रामदल के दौरान शुरू हुए अखाड़ा प्रदर्शन की आजादी के कारण दशहरा चल समारोह के दौरान भी अखाड़ा में शस्त्र प्रदर्शन के साथ अन्य प्रदर्शनों को भरपूर अवसर मिला। जिससे दशहरा चल समारोह रात 1:30 बजे अंतिम प्रतिमा की घंटाघर से रवानगी के साथ संपन्न हुआ।
रात डेढ़ बजे घंटाघर पर विधायक राहुल सिंह, नगर पालिका अध्यक्ष मालती असाटी, तहसीलदार बबीता राठौर, रामजी सेवा समिति के सतेंद्र साहू आदि की मौजूदगी में सभी के आभार के साथ दशहरा चल समारोह का औपचारिक समापन किया गया। दशहरा चल समारोह के दौरान जहां इस बार वाद विवाद झगड़ों के बहुत कम ही मामले सामने आए वही पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के साथ साथ पुलिस, यातायात, होमगार्ड  कर्मचारियों सहित अन्य विभागों की कर्मचारियों की मुस्तैदी भी आधी रात के बाद तक सराहनीय रही।  वहीं प्रातः बेला तक मूर्ति का विसर्जन का दौर फुटेरा तालाब में जारी रहा।
अनेक वर्षों बाद अपनी अखाड़ा परंपरा के साथ संपन्न हुए दशहरा चल समारोह के निर्विघ्नं आयोजन के लिए जिला पुलिस, प्रशासन, होमगार्ड, नगर पालिका, लोक निर्माण सहित अन्य विभागों के अलावा अधिकारी कर्मचारियों, राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों, अखाड़ा दुर्गोत्सव समितियों के अलावा शहर का हर वह नागरिक बधाई का पात्र है जिसने दमोह के ऐतिहासिक दशहरे को गरिमा के अनुरूप संपन्न कराने में अपने संयम के साथ सहनशीलता का परिचय दिया
 अग्रवाल जन जागरण कल्याण समिति ने किया सम्मान
दमोह अग्रवाल जन जागरण समाज कल्याण समिति व गणेश फैंस क्लब के तत्वाधान में लगातार छठे वर्ष पूर्वजों की स्मृति में विजयादशमी चल समारोह का आयोजन किया गया जिसमें कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक राहुल सिंह एवं रामबाई सिंह, पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया, नगर पालिका अध्यक्ष मालती असाटी, वैश्य महासम्मेलन के जिला अध्यक्ष राकेश अग्रवाल, अग्रवाल समाज के जिला अध्यक्ष रवि शंकर अग्रवाल की उपस्थिति रही
 प्रथम पुरस्कार मूर्ति पर प्रिंस दुर्गा उत्सव समिति राय चौराहा द्वितीय पुरस्कार जय अंबे दुर्गा उत्सव समिति नगर चौराहा तृतीय पुरस्कार श्री बजरंग अखाड़ा समिति बजरिया वार्ड को मंच सज्जा पर प्रथम पुरस्कार न्यू सब्जी मंडी द्वितीय पुरस्कार नवयुवक दुर्गा उत्सव समिति पुरानी आरटीओ तृतीय पुरस्कार सर्राफा संघ नगर सेठानी साज-सज्जा पर प्रथम पुरस्कार मां वैष्णो दरबार से समिति चर्चगेट द्वितीय पुरस्कार गौरीशंकर तिगड्डा तृतीय पुरस्कार किल्लाई नाका दुर्गा उत्सव समिति को व विशेष पुरस्कार महाकाली चौराहा दुर्गा उत्सव समिति को दिया गया
 वह शहर की प्रत्येक दुर्गा उत्सव समिति वालों को शील्ड से सम्मानित किया गया वाह अखाड़ा प्रदर्शन व गरबा प्रदर्शन करने वालों को मेडल से सम्मानित किया गया कार्यक्रम में मुख्य रूप से सहयोगी रहे जिन्होंने अपने पूर्वजों को याद कर इस कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई
शैलार स्मृति न्यास ने सभी को पुड़ी सब्जी  वितरण किया
दशहरा पर्व के मौके पर सिनेमा रोड पर शैलार स्मृति न्यास के संचालक कैलाश शैलार एवं उनकी टीम के द्वारा अपनी सेवा भावी परंपरा को जारी रखते हुए पुड़़ी एवं सब्जी के पैकेट का सभी को वितरण किया। जिससे दशहरा जुलूस में शामिल लोगों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों से  आए हजारों लोग एवं स्थानीय कामकाजी लोग लाभांवित होतेे शैलार न्यास की सेवा भावना की सराहना करते नजर आए। 
 लघु व्यापारी संघ ने शीतल जल की स्टाल लगाई-
 इधर लघु व्यापारी संघ के द्वारा नवरात्र पर्व पर रामदल एवं रावण दहन जुलूस कार्यक्रम की तरह ही दशहरा चल समारोह के दौरान भी शीतल जल का वितरण करके संभी के कंठो को तृप्त किया गया। इस दौरान लघु व्यापारी संघ के  जिला अध्यक्ष तनुज पाराशर उपाध्यक्ष पंकज सोनी महामंत्री शैलेंद्र जैन सचिव मनोज जैन मीडिया प्रभारी लकी नामदेव बीनू नेमा गुड्डू चौरसिया आदि मौजूदगी रहे सहित अन्य पदाधिकारी सदस्यों की सक्रिय भागीदारी रही।
अष्टमी पर रामदल जुलूस में शस्त्र प्रदर्शन से बड़ा जोश-
अष्टमी पर रामदल जुलूस में शस्त्र प्रदर्शन से बड़ा जोश दशहरा तक बढ़ता ही चला गया। दरअसल अनेक वर्षो के बाद अखाड़ा वालों को रामदल पर शस्त्रों को लेकर चलने के साथ प्रदर्शन का मौका मिला था। जिससे उनका जोश व उत्साह देखने लायक बन रहा था। नवरात्र अष्टमी के मौके पर दमोह में रामदल जलूस की धूम पारंपरिक उत्साह के साथ देखने को मिली। इस मौके पर शिवाजी पार्क में अखाड़ा दलों के एकत्रीकरण के बाद जलूस मूलगंज गल्ला मंडी पहुंचा। जहां पूजन उपरांत रामदल जुलूस प्रारंभ होकर घंटाघर पहुंचा। जहां देर तक अखाड़ा प्रदर्शन के बाद टॉकीज तिराहा, पुराना थाना, गढ़ी मोहल्ला से गडरयाउ, पठानी मुहल्ला, गौरीशंकर तिराहा से बड़ी देवी जी पहुचकर संपन्न हुआ। इस मौके पर विधायक राहुल सिंह सहित अनेक प्रमुख जनों की मौजूदगी रही।
39 वे वर्ष में रावण दहन समारोह ने भी अमिट छाप छोड़ी
दमोह के तहसील ग्राउंड पर 39 वा रावण दहन समारोह धूमधाम के साथ संपन्न हुआ। इस मौके पर हजारों लोगों ने राम रावण युद्ध के पश्चात रावण दहन व आतिशबाजी का आनंद लिया। कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल विधायक राहुल सिंह, पूर्व वित्तमंत्री जयंत मलैया, नगरपालिका अध्यक्ष मालती असाटी सहित सभी दलों के प्रमुख नेताओं, पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों की भी मौजूदगी रही। घंटाघर से अजीत सिंह राजपूत के साथ अभिजीत जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments