Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सरकारी डॉ पुष्पेंद्र त्रिपाठी को विधायक रामबाई ने.. निजी क्लीनिक में प्रैक्टिस करते रंगे हाथों पकड़ा.. बीएमओ को बुलाकर सुनाई खरी-खोटी.. बसपा विधायक के फार्म में वापिस लौटने से फिर मची हड़कंप..

निजी क्लीनिक में प्रैक्टिस कर रहे डॉ  की सिट्टी पिट्टी गुम
दमोह। पथरिया से बसपा विधायक रामबाई फिर अपने पुराने रंग में नजर आई। सरकारी अस्पताल को छोड़कर निजी क्लीनिक चला रहे एक डॉक्टर की अस्पताल पर छापामार कार्रवाई करते हुए विधायक राम भाई ने इस तरह के हालात के लिए ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर को भी जमकर खरी-खोटी सुनाई और मुख्यालय पर नहीं रहने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।
 पथरिया गढ़ाकोटा मुख्य मार्ग पर लंबे समय से निजी क्लीनिक संचालित करने वाले डॉक्टर पुष्पेंद्र त्रिपाठी की क्लीनिक पर शनिवार सुबह 9 बजे अचानक विधायक रामबाई की दस्तक से हड़कंप के हालात निर्मित होते देर नहीं लगी। विधायक ने यहां पर मरीजों को जांच कर रहे डॉक्टर से जब उनकी पदस्थापना के बारे में पूछा तो ज्ञात हुआ कि वह सद्गगुआ स्थित उप स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ है। तथा वहां कुछ घंटों के लिए ही ड्यूटी पर जाते हैं। क्लीनिक पर निजी डॉक्टर की मेडिकल स्टोर के परिचय दवाई के पर्ची और दवाइयां पाए जाने पर विधायक रामबाई ने तत्काल में जबत कराने के निर्देश दिए।

विधायक ने मोबाइल पर कॉल करके पथरिया के ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर मिंज को मौके पर बुलाते हुए पथरिया टीआई को भी आने को कहा। बाद में मौके पर पहुंचे बीएमओ जब डॉ का पक्ष लेकर सफाई देने लगे तो विधायक रामबाई उनकी भी क्लास लेने से नहीं चूकी। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ तमाशाइयो की मुद्रा में लगी रही। तथा अपनी जनप्रतिनिधि द्वारा की जाने वाली कार्रवाई को सही ठहराते नजर आए।ग्रामीणों ने विधायक की छापामार कार्रवाई को उचित ठहराते हुए पथरिया विधानसभा क्षेत्र के अन्य क्षेत्रों में भी इसी तरह से डाक्टरों की प्राइवेट प्रैक्टिस करने के हालात की ओर ध्यान आकर्षित कराया है। 
अन्य स्थानों पर भी इसी तरह छापामार कार्रवाई कर ग्रामीण जनों को गांव में ही स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने की मांग की है। इधर विधायक रामबाई ने प्राइवेट प्रैक्टिस कर रहे डॉ पुष्पेंद्र त्रिपाठी के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने के निर्देश बीएमओ को दिए हैं। देखना होगा इस छापामार कार्रवाई के बाद पथरिया क्षेत्र में डॉक्टरों के मुख्यालय पर मौजूद नहीं रहने के रवैया में सुधार होता है अथवा नहीं।  अटलराजेंद्र जैन

Post a comment

0 Comments