Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

नहीं रहे युवा समाजसेवी भाजपा नेता प्रशांत श्रीधर.. नरसिंहगढ़ मंदिर के सामने दर्दनाक हादसे में गंभीर पूर्व जनपद सदस्य की नही बच सकी जान.. जिला अस्पताल में जानकारी लेने लगी भीड़..

नरसिंहगढ़ मंदिर के सामने दर्दनाक हादसे में मौत-
दमोह। किशनगंज क्षेत्र के युवा समाजसेवी और जनसेवा के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले पूर्व जनपद सदस्य और भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता प्रशांत श्रीधर अब हमारे बीच नहीं रहे यह बात जिसने भी सुनी वह विश्वास नहीं कर पा रहा है परंतु होनी के विधान के आगे किसी का बस नहीं चलता। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार नरसिंहगढ़ बाजार से रविवार रात करीब 8 बजे अपने घर किशनगंज लौट रहे प्रशांत श्रीधर की बाइक मायसेम सीमेंट फेक्ट्री गेस्ट हाउस  के सामने श्री कृष्ण मंदिर के पास एक गाय से टकरा कर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। मौके पर सीसी रोड होने की सड़क पर गिरते ही प्रशांत का सिर लहूलुहान हो गया। वही मौके पर मौजूद लोगों ने तत्काल सीमेंट से एंबुलेंस बुलवाकर उन्हें दमोह के जिला अस्पताल रवाना किया। 
जिला अस्पताल में इलाज के दौरान रात करीब 9:00 बजे उनकी सांसे थम गई। इस दुखद दर्दनाक हादसे की खबर लगते ही बड़ी संख्या में श्रीधर परिवार के करीबी मित्रजन जिला अस्पताल पहुंच गए तथा उन्होंने जानकारी लेते हुए अपनी शोक संवेदना व्यक्त की। इस दौरान जिला कांग्रेस अध्यक्ष अजय टंडन, पूर्व विधायक लखन पटेल, पूर्व मंत्री राम कृष्ण कुसमरिया, बसपा नेता जित्तू खरे सहित अनेक कांग्रेस भाजपा जनों ने घटना की जानकारी लेते हुए घटना पर दुख जताया।
आपको बता दें कि किशुनगंज के सेवा भावी श्रीधर परिवार के युवा सदस्य 42 वर्षीय प्रशांत ग्रामीण जनों की समस्याओं को उठाने के साथ भाजपा मंडल के सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में अग्रणी भूमिका का निर्वाहन करते थे।  विधानसभा चुनाव की बात हो या फिर लोकसभा चुनाव की या फिर सांसद प्रहलाद पटेल की पदयात्रा हो। सभी जगह प्रशांत की सकिय सहभागिता नजर आती थी। वर्तमान में भी वह भाजपा के सदस्यता अभियान से जुड़े हुए थे।
प्रशांत के असमय निधन की खबर में सभी को झकझोर कर रख दिया है। सोमवार को प्रातः पोस्टमार्टम के उपरांत शव परिजनों को सौंपा जाएगा। फिलहाल उनका शव जिला अस्पताल कैंपस स्थित शव गृह में रखवा दिया गया है। परमपिता परमेश्वर उनकी आत्मा को अपने चरणों में स्थान दे तथा परिजनों को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। ओम शांति शांति शांति..

Post a comment

0 Comments