Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

कांग्रेस में घमासान का असर दिल्ली, भोपाल से दमोह पहुचा.. सोशल मीडिया पर विधायक राहुल सिंह के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले ग्रामीण ब्लॉक अध्यक्ष को कारण बताओ नोटिस जारी..

कांग्रेस में घमासान का असर दिल्ली से दमोह पहुचा..
 केंद्र के अलावा देश के अधिकांश प्रदेशों से सत्ता से बेदखल हो चुकी कांग्रेस के बीच इन दिनों प्रदेश संगठन के अध्यक्ष पद को लेकर घमासान मचा हुआ है। वही मध्य प्रदेश में सत्ता की वैशाखी बने सपा बसपा जैसे छोटे दल भी बात बात पर आंखे दिखाते हुए मंत्रियों को भी घुटने टेकने मजबूर कर रहे हैं। वही सत्ता वह संगठन के बीच की खींचा तानी दिल्ली से भोपाल होते हुए अनेक जिला व तहसील मुख्यालय तक पहुंच गई है।
दमोह जिले में सोशल मीडिया पर शुरू हुई कांग्रेस नेताओं की जुबानी जंग अब धरातल पर उतरती नजर आ रही है। जिला कांग्रेस के संगठन प्रमुख सतीश जैन कल्लन भैया ने शनिवार को ग्रामीण कांग्रेस के ब्लाक अध्यक्ष नितिन मिश्रा को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पार्टी से निष्कासित करने की चेतावनी भी दे डाली है। इतना ही नहीं इस नोटिस के नितिन मिश्रा के पास तक पहुचने के पहले ही इसे खबर के लिए मीडिया को जारी कर दिया गया है। इसकी एक बजह नई दुनिया जबलपुर में छपी यह खबर भी मानी जा रही है।

दरअसल इस सारे फसाद की जड़ दमोह विधायक राहुल सिंह द्वारा अपने अपनों को ज्यादा महत्व दिया जाना बताया जा रहा है। ताजा मामला 3 दिन पूर्व बांदकपुर में आयोजित कार्यक्रम का है। जिसमें कांग्रेस के ग्रामीण मंडल अध्यक्ष नितिन मिश्रा की अनदेखी करते हुए विधायक राहुल सिंह दारा भाजपा नेता तथा सजातीय बन्धु लोधी समाज के जिलाध्यक्ष हाकम सिंह को तवज्जो जी गई। इसी तरह भाजपा शासित नगर पालिका में कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष द्वारा आंदोलन की चेतावनी देने के बाद चुप्पी साध लेने पर  ग्रामीण अध्यक्ष द्वारा सोशल मीडिया पर कटाक्ष किये जाने। जिसके बाद शहर कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल ठाकुर द्वारा इसे नगरीय क्षेत्र में ग्रामीण अध्यक्ष द्वारा हस्तक्षेप की बात कही जाने तथा पिछले 2 दिनों टोल प्लाजा पर  रोड नहीं तो टोल नहीं आंदोलन आदि को लेकर ग्रामीण देव नितिन मिश्रा को नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया गया है।
 कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी सतीश जैन द्वारा जारी नोटिस में 7 दिन में जवाब मा गया है तथा सोशल मीडिया पर गई टिप्पणियों को अनुशासनहीनता की पराकाष्ठा बताते हुए 6 वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित करने की चेतावनी दी गई है। बता दें की नितिन मिश्रा नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष मनु मिश्रा के चचरे भाई है और कांग्रेस की राजनीति में प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में अग्रणी पूर्व मंत्री मुकेश नायक के खास समर्थक माने जाते हैं। भाजपा के शासन काल में बस स्टैंड से लेकर रुकमणी मूर्ति को वापस लाने को लेकर यह अनेक आंदोलन करके विपक्षी भूमिका का निर्वहन करते नजर आए थे। परंतु कांग्रेस के सत्तासीन होने के बाद भी उनके विपक्षीयो जैसे तेवर अब कांग्रेसीयो को रास नही आ रहे है। जिससे उनको नोटिस जारी होने के हालात सामने आए हैं। वही इन हालातों को लेकर भाजपा नेता मजे लेते नजर आ रहे हैं। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments