Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

दमोह जबलपुर रोड के गड्ढों के चक्कर मे छात्राओं से भरा आटो पलटा.. 10 घायल, आटो चालक एवं दो छात्राए जबलपुर रैफर.. 'आपकी सरकार आपके द्वार' में इसी रोड से प्रभारी मंत्री प्रभुराम पहुचेगे सिंगपुर..

छात्राओं से भरा आटो पलटा. 9 छात्राए व चालक घायल
दमोह। जिला मुख्यालय से 35 किमी दूर जबेरा के समीप स्कूली छात्राओं से भरे एक ऑटो रिक्शा के  अचानक नियंत्रित होकर सड़क से उतर कर पलट जाने का घटना क्रम सामने आया है। हादसे में नौ स्कूली छात्राओं के अलावा ऑटो चालक भी घायल हो गया। वही गंभीर हालत में दो छात्राओं तथा आटो चालक को प्राथमिक उपचार के बाद जबलपुर रेफर कर दिया गया है। घायल अधिकांश छात्राएं आदिवासी समाज की है। जिस मार्ग पर यह हादसा हुआ है वहां से कुछ घंटे बाद दमोह जिले के प्रभारी मंत्री प्रभु राम चौधरी को कलेक्टर एसपी की गाड़ियों के काफिले के साथ आपके सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में सिंगपुर गांव निकलना है। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार जबेरा हाई स्कूल में पढ़ने वाली पिपरिया कलेहरा की नो छात्राएं ऑटो रिक्शा से सुबह 10.30 बजे रोज की तरह आटो से स्कूल आने के लिए रवाना हुई थी। बेरा से एक किमी पहले बिदारी घाटी पर रोड के गड्डों से बचने के चक्कर मे अचानक आटो अनियंत्रित होकर सड़क से उतरकर पलट गया। जिससे ऑटो में सवार सभी छात्राएं और चालक आटो के नीचे दब कर फंस कर रहे गए। 
बाद में सभी को बेरा के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र भेजा गया। घटना की जानकारी लगने पर मौके पर एवं अस्पताल में लोगों की भीड़ लगने के साथ अफरा-तफरी भरे हालात निर्मित हो गए। इधर वरिष्ठ शिक्षाधिकारी वीपी पाटले शिक्षकों के साथ अस्पताल पहुच गए। घायल छात्राओं को तुरंत प्राथमिक उपचार उपलब्ध कराया गया। आटो चालक प्रकाश चौधरी की हालत गंभीर होने पर इसे तत्काल जबलपुर रैफर कर दिया गया।
छात्रा बीना पटेल को शिक्षिका विमला धुर्वे की निगरानी में जबलपुर रैफर किया गया है। एक छात्रा को तत्काल रेफर कर दिया गया था वही दूसरी छात्रा कीर्ति धनगर की उपचार के बाद मानसिक हालत ठीक नहीं होने पर जबलपुर रेफर किए जाने की जानकारी सामने आई है। ऑटो रिक्शा में सवार सभी घायल छात्राए जबेरा के हाई स्कूल मैं अध्यनरत बताई जा रही है। इनके नाम क्रांति गौंड, उमंग गौंड, निधि गौड़, रेश्मा गौड़, प्रीति धनगर, अंजना धनगर, बबली गौड़ आदि बताए गए है।
घटना की जानकारी लगने पर जिला पंचायत सदस्य राघवेंद्र सिंह ऋषि लोधी ने भी जबेरा अस्पताल पहंुचकर छात्राओं की हालात की जानकारी ली। तथा उनके परिजनों को इलाज तथा मदद का भरोसा दिलाया। आपकों बता दे कि जिस सड़क पर यह हादसा हुआ है उसी से होकर कुछ घंटे बाद जिले के प्रभारी तथा मप्र के स्कूल शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी सहित कलेक्टर एसपी एवं अन्य अधिकारी निकलने वाले थे। इधर छात्राओं के आटो से स्कूल आने के हालात ने इन छात्राओं को शासन की तरफ से स्कूल आने के मिलने वाली साइकिल वितरण योजना के क्रियान्वयन पर भी प्रश्न चिन्ह लगा दिए हैं।
आपको बता दें कि जबेरा के मुख्य सडक मार्ग एव ग्रामीण क्षेत्र को जोड़ने वाली सड़को पर करीब तीन दर्जन से अधिक कंडम ऑटो एव कमांडर बेरोकटोक दौड़ रही हैं। जिनमे क्षमता से अधिक सवारी भरकर एव आगे निकलने की वाहनों की प्रतिस्पर्धा के चलते आए दिन दुर्घटना सामने आ रही है। इन वाहनों में सबसे ज्यादा स्कूली बच्चे एव ग्रामीणजन महिला सफर करने मजबूर होती है। जिससे आये दिन सड़क दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। प्रशासन को जानकारी होने पर भी कोई कार्यवाही अभी तक नही की गई। इधर पिछले दिनों कलेक्टर ने MPRDC के अधिकारियों की मौजूदगी में दमोह जबलपुर मार्ग के गड्डों को भरे जाने का कार्य शुरू हो जाने की जानकारी दी थी। लेकिन इस हादसे ने प्रशासनिक दावों के साथ स्कूली छात्राओं की सुरक्षा पर सवाल खड़ें कर दिए है। जबेरा से मयंक जैन की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments