Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

हटा में बिना सूचना के अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही का विरोध.. जेसीबी के सामने बैठ गई महिलाएं.. तहसील कार्यालय के पास सरकारी भूमि पर.. जब कब्जा हो रहा था तब तब क्यों चुप्पी साधे रहे अधिकारी.. ?

बिना सूचना के अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही का विरोध
दमोह। हटा तहसील कार्यालय के समीप खाली पड़ी सरकारी जमीन पर लंबे समय से अतिक्रमण करके मकान निर्माण कराए जाने के दौर के बीच अचानक इनको हटाने की कार्यवाही शुरू होते ही हड़कंप के हालात निर्मित होते देर नही लगी। इस दौरान अनेक महिलाओं ने जेसीबी के आगे बैठकर विरोध करते हुए बारिश के दिनों में सिर छुपाने के लिए जगह नहीं बचने की बात की। तथा बिना सूचना या आदेश के प्रशासनिक कार्रवाई किये जाने पर सवाल खड़े किए।
 हटा के लाल टेक पर जेसीबी के साथ पहुंचे राजस्व विभाग के अमले द्वारा बुधवार को तहसील कार्यालय के समीप सरकारी जमीन पर किए गए अतिक्रमण को हटाने की कार्यवाही का बड़ी संख्या में महिलाओं ने विरोध शुरू कर दिया। कुछ महिलाओं का कहना था लंबे समय से वह कच्ची झोपड़ियों में यहां पर रह रही थी दिन रात मेहनत मजदूरी करके एकत्रित किए पैसों से उन्होंने यहां पर रहने के लिए पक्के मकान बनाने का कार्य शुरू किया था, इस दौरान नगर पालिका या प्रशासन द्वारा उन्हें रोकने कोई कार्यवाही नहीं की गई और जब मकान उनके रहने लायक हो गया तो अचानक बिना किसी सूचना और आदेश के कार्यवाही की जा रही है जबकि मौके पर मौजूद आर आई का कहना था किन मकानों में कोई नहीं रहता, यह खाली पड़े हुए हैं।
 उल्लेखनीय है कि हाउसिंग बोर्ड के लिए आवंटित सरकारी भूमि पर लंबे समय से अवैध कब्जा और निर्माण का दौर चल रहा था लेकिन समिति तहसील कार्यालय होने के बावजूद प्रशासनिक अमला इसकी अनदेखी कर रहा था। नतीजा देखते ही देखते यहां पर  दर्जनो मकान निर्मित हो गए। आज तहसीलदार के मौखिक आदेश पर शासकीय भूमि खसरा नम्बर 7 से आरआई मनी राम गौड़ ने जैसे ही जेसीबी से अतिक्रमण हटाने की कारवाई शुरू की तो विरोध शुरू हो गया। जिससे कुछ मकानों को तोड़े जाने के बाद कारवाई को रोकना पड़ा। अनिल शर्मा की रिपोर्ट

Post a comment

0 Comments