Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सीएम कमलनाथ को उड़ान परमिशन और मंत्री मरकाम के साथ बैठक मामले में.. चुनाव आयोग के निर्देश पर मप्र में 2 कलेक्टर बदले.. भरत यादव छिंदवाड़ा, शेखर वर्मा को शहडोल कलेक्टर की कमान..

छिंदवाड़ा और शहडोल कलेक्टर को हटाने की कार्रवाई- 
भोपाल। भाजपा की शिकायत पर निर्वाचन आयोग के निर्देश पर मप्र के छिंदवाड़ा तथा शहडोल जिले के कलेक्टर को हटा दिया गया है। भारतीय जनता पार्टी द्वारा निर्वाचन आयोग से इन दोनों जिलों के कलेक्टरों के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन मामले की शिकायत की गई थी। जिसके बाद इन दोनों कलेक्टरों को हटाने की कार्रवाई की गई है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार चुनाव आयोग के निर्देश पर ग्वालियर के पूर्व कलेक्टर भरत यादव को छिंदवाड़ा कलेक्टर बनाया गया है। जो श्रीनिवास शर्मा की जगह छिंदवाड़ा की कमान संभालेंगे। इधर शहडोल के नए कलेक्टर शेखर वर्मा होंगे जो ललित दाहिमा की जगह लेंगे। गौरतलब है कि भाजपा द्वारा चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के मामले को लेकर छिंदवाड़ा कलेक्टर श्रीनिवास शर्मा के मामले में शिकायत की गई थी कि उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के हेलीकॉप्टर शाम 6 बजे के बाद भी उड़ान भरने की इजाजत दी थी। इधर शहडोल कलेक्टर ललित दाहिमा के मामले में शिकायत की गई थी उन्होंने मंत्री ओमकार सिंह मरकाम के साथ आचार संहिता के दौरान बैठक की थी इसके बाद चुनाव आयोग ने मंत्री सिंह मरकाम को भी नोटिस भेजा था और इसके जवाब में उन्होंने राहुल गांधी की शहडोल में होने वाली सभा की मंजूरी के संदर्भ में शहडोल कलेक्टर से मिलने की बात कही थी।



बता दें कि 25 अप्रैल को छिंदवाड़ा जिले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हेलीकॉप्टर को शाम 5:30 बजे के बाद उड़ान की परमिशन नहीं देने के कारण भी तत्कालीन कलेक्टर शर्मा चर्चाओं में आए थे। उस समय श्री चौहान ने मंच से श्रीनिवास शर्मा को पिट्ठू कलेक्टर बताते हुए सरकार बदलने पर देख लेने की धमकी भी दी थी। तथा बाद में निर्वाचन आयोग से शिकायत भी की थी लेकिन उस समय से शर्मा को क्लीन चिट मिल गई थी। 

 लेकिन इस बार ऐसे ही मामले में मुख्यमंत्री के हेलीकॉप्टर को उड़ान की इजाजत देने के मामले में वह चुनाव आयोग के राडार पर आ गए। उल्लेखनीय है कि श्रीनिवास शर्मा की गिनती सत्तारूढ़ दल के नेताओं के साथ बेहतर तालमेल करके चलने वाले अधिकारियों में होती है। 2 साल तक दमोह जिले के कलेक्टर रहे श्रीनिवास शर्मा के दमोह विधायक तथा प्रदेश के तत्कालीन वित्त मंत्री जयंत मलैया के अलावा कांग्रेसी नेताओं से मधुर संबंध किसी से छिपे नहीं है।
 इधर सत्ता परिवर्तन के साथ श्री शर्मा को मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा की कमान सौंप दी गई थी। अंदाजा लगाया जा सकता है की सत्ता बदलाव के साथ किस तरह अधिकारी भी बदल जाते हैं। इस बात की चर्चाएं आम नागरिकों के बीच जुबान पर आती रहती हैं

Post a comment

0 Comments