Ticker

6/recent/ticker-posts
1 / 1

सतधारु सिंचाई परियोजना की चिंता करने वाले सिदार्थ भैया.. जरा शहर की पेयजल व्यवस्था और अराजक हालात भी देखे.. नपा में आपकी पार्टी ही काबिज है..

1000 करोड़ की सतधारु सिंचाई और पेयजल योजनाएं अब भगवान भरोसे-सिद्धार्थ मलैया 
दमोह। जिला भाजपा कार्यालय में गुरुवार को आयोजित प्रेस वार्ता में भाजपा के युवा नेता सिद्धार्थ मलैया ने आरोप लगाया है कि प्रदेश में जब से कांग्रेसी सरकार बनी है दमोह के विकास की गति थम गई है। दमोह के किसानों और ग्रामीणों के लिए पूर्व वित्त मंत्री के द्वारा लाई गई महत्वाकांक्षी एक हजार करोड़ की सतधारु सिंचाई एवं पेयजल परीयोजना दमोह के जन प्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण अब भगवान भरोसे हैं। 
 सिद्धार्थ मलैया ने आगे कहा कि हमने जब 315 करोड़ रुपये की सतधारु योजना स्वीकृत कराई थी उसी समय इस योजना के समानांतर जल निगम विभाग के द्वारा 725 करोड़ रुपये की लागत से दमोह के लगभग 620 गाँवो में पीने का फ़िल्टर पानी पहुँच सकें ऐसी योजना भी स्वीकृत कराई थी, जिसका टेंडर सितम्बर 2018 में प्रदेश सरकार ने आमंत्रित किया, दिसम्बर 2018 में यह टेंडर खुला जो कि देश की जानी मानी कंपनी स्-ज् और जिंदल ग्रुप मिला, और जिसका कार्य भी बड़े स्तर पर चालू हो चुका है।परंतु यह पूरी योजना सतधारु योजना के स्टॉफडेम द्वारा रोके जाने वाले पानी के भराव पर टिकी हुई है। पर लगभग 5 महीने से इसका काम बंद है जबकि लगभग इस जुलाई माह से पानी का रुकना चालू होना था। 
दमोह विधायक एवं कांग्रेस सरकार की उदासीनता और बेरुखी के कारण ठेकेदार के द्वारा कार्य पूर्ण रूप से काम बंद पड़ा है एवं इनका पूरा होना भगवान भरोसे हैं। सिद्धार्थ मलैया ने कहा कि जब मध्य प्रदेश सरकार में वित्त मंत्री जयंत मलैया दमोह विधायक थे तब उन्होंने उन योजनाओं की स्वीकृति और राशि का आवंटन करवा दिया था।  उन्होंने यह भी बताया कोई भी ऐसा भूमि पूजन हमारे पूर्व विधायक जयंत मलैया ने नहीं किया जिसका टेंडर होने के उपरांत ठेकेदार से अनुबंध ना हुआ हो। लेकिन अब दमोह में विकास कर्यो की गति थमती जा रही हैं जो हम किसी भी हालत में नही होने देंगे। 
यही हाल सीतानगर सिचाई व जल परियोजना का-
भाजपा जिला अध्यक्ष देवनारायण श्रीवास्तव ने बताया कि यही हाल वित्तमंत्री जी के द्वारा पूर्ण कराए गए कार्यो का भी है आज किसानों को अपने अनाज को बेचने में भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उड़द, मूंग और धान का पिछला पैसा अभी तक किसानों के खातों में नही आया है। अथाई बरपटी गाँव मे हमने गेंहू की खरीदी के लिए अत्याधुनिक साइलो केंद्र स्थापित किया था, जहाँ तुलाई के लिए 2 यूनिट स्थापित की गई थी। जिसमे से एक यूनिट पथरिया विधायक अपने यहां ले गई अच्छा होता वो अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके मुख्यमंत्री कमलनाथ से नई साइलो यूनिट पथरिया लगवाती जिससे दोनों जगह के किसानों को दिक्कतों का सामना नही करना पड़ता, पिछले साल इन्ही केंद्रों पर गेहूं तुलाई 6 से 8 घण्टे में हो जाती थी, जिसके लिए अब किसान भाइयों को 7 दिन से अधिक का समय लग रहा है। इस पूरे मामले पर भी दमोह विधायक की चुप्पी भी किसानों के प्रति उनकी असंवेदनशीलता को दिखाती है। दूसरी ओर हॉकी खिलाड़ीयो के लिए 5 करोड़ की लागत से बने एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम का हाल भी बहुत बुरा है हैं। जहाँ रखा रखाव की कमी के चलते टर्फ ख़राब हो रही हैं। जहाँ प्रतिदिन पानी डलना चाहिए वहाँ सप्ताह में एक दिन पानी घास में  डाला जा रहा है। 
भाजपा जिला महामंत्री रमन खत्री ने कहा कि किसी भी सरकार को परखने के लिए 5 महीना का समय बहुत होता है कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर असफल साबित हो रही है हम जहां भाजपा सरकार में दूसरे राज्यों को बिजली दे रहे थे वहीं अब लगभग 6 से 7 घंटे प्रतिदिन लाइट गोल हो रही है भारतीय जनता पार्टी अब मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाने के लिए तैयार है जिसमें आप सभी पत्रकार साथियों की सहयोग की आवश्यकता होगी। पत्रकार वार्ता में पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिला अध्यक्ष कपिल सोनी, मनीष सोनी जिला मीडिया प्रभारी मनीष तिवारी, विशाल शिवहरे, भरत यादव,  आलोक मुखरैया,  रितेश सोनी की उपस्थिति रही।
शहर के हालात पर भी तो गौर करो सिद्धार्थ भैया-

जुझार घाट पेयजल योजना पर करोड़ों की राशि खर्च हो जाने के बाद भी दमोह शहर के अनेक हिस्सों में पेयजल संकट के हालात बने हुए हैं। फिल्टर प्लांट कंप्लीट हो जाने के बाद भी अनेक क्षेत्रों में दूषित पेयजल नलो से पहुच रहा है। तय समय सीमा के बाद भी नगर के अनेक क्षेत्रों में पाइप लाइन विस्तार और नई टंकी निर्माण का फायदा लोगो को नहीं मिल पा रहा है। नाला नालियों के निर्माण से लेकर सफाई के मामले में, आवास से लेकर शौचालय निर्माण के मामले में, नगर पालिका की दुकानों के ऊपर दुकान तथा अवैध कब्जा कर के निर्माण के मामले में पिछले कुछ महीनों में जिस तरह के अराजक माहौल निर्मित हुआ है, उसे देख कर यह याद दिलाना जरूरी हो गया है कि मप्र भाजपा की सरकार गई है नगर पालिका से नहीं। नगर पालिका में आज भी आप की पार्टी के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष प्रेसिडेंट इन काउंसिल, आप के चहेते प्रभारी सीएमओ और उपयंत्री, सब इंजीनियर पदस्थ है। फिर भी आपका ध्यान नगरीय क्षेत्र में निर्मित आराजक माहौल की ओर क्यों नहीं जा रहा है ?  
जिस तरह आपने सतधारू परियोजना सहित अन्य मामलों को लेकर चिंता जताई है,  उम्मीद करते हैं कि जल्दी ही नगर पालिका क्षेत्र के अराजक माहौल से भी शहर वासियों को छुटकारा दिलाकर एहसास कराएंगे की नगर पालिका में आपकी पार्टी की सत्ता काबिज है। लिखने को बहुत कुछ है फिलहाल इतना ही। क्योंकि समझदार को इशारा ही काफी है। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट  

Post a comment

0 Comments